ताजा सामाचार

आप यहाँ है :

 

  • नमो ने ममो पर ली मीठी चुटकियाँ

    गुजरात के मुख्यमंत्री और भाजपा के पीएम पद के दावेदार नरेंद्र मोदी ने आज इशारों-इशारों में प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह पर हमला बोला। नर्मदा में सरदार पटेल पर आधारित 'स्टैच्यू ऑप यूनिटी' का शिलान्यास करते हुए उन्होंने कहा, "दो दिन पहले मुझे प्रधानमंत्री से मिलने का मौ‌का मिला। उन्होंने बहुत अच्छी बात कही। मुझे गर्व है […]

  • जोधपुर में अपना जन्म दिन मनाएगी नीता अंबानी

    भारत के सबसे रईस व्यक्ति की पत्नी और बिजनेसवूमेन नीता अंबानी का शुक्रवार को 50वां जन्मदिन है। जन्मदिन को खास बनाने के लिए तमाम तरह के राजसी इंतजाम किए गए हैं। जोधपुर शहर को जन्मदिन की शाही पार्टी के लिए चुना गया है। उम्मैद भवन से करीब 11 किलोमीटर दूर प्रसिद्ध बालसमंद झील को कार्यक्रन […]

  • आई.आई.टी. कानपुर में आयोजित कल्चरल फेस्ट में पत्रकारिता विश्वविद्यालय के विद्यार्थियों ने जीते अनेक पुरस्कार

    भोपाल] 31 अक्टूबर / आई.आई.टी. कानपुर द्वारा 24 से 27 अक्टूबर 2013 तक प्रतिष्ठित कल्चरल फेस्ट अन्तराग्नि-13 का आयोजन किया गया। जिसमें विश्वविद्यालय के वरिष्ठ सहायक प्राध्यापक डा. संजीव गुप्ता के मार्गदर्शन में 20 विद्यार्थियों का दल विभिन्न इवेन्ट्स में सम्मिलित हुआ। प्रमुख प्रतियोगिताओं में फोटोग्राफी] कविता] संसदीय वाद-विवाद] नुक्कड़ नाटक] समूह गान] जुगलबंदी] आमने-सामने] […]

  • भाई-दूजः बहन के निश्छल प्यार का प्रतीक

    भाई दूज का पर्व दीवाली के दो दिन बाद यानि कार्तिक शुक्ल की द्वितीया को मनाया जाता है। इसे यम द्वितीया भी कहा जाता है। यह पर्व भाई-बहन के प्रेम का प्रतीक है। आज के दिन भाई खुद अपनी बहन के घर जाता है, बहन उसकी पूजा करती है और उसकी आरती उतारकर उसे तिलक […]

  • राम की शक्ति पूजा

    दिवाली का मतलब है अंधकार को दूर करना लेकिन इसके शाब्दिक अर्थ को ग्रहण करने की बजाय आप अपने आस-पास के अंधियारे को देखें और अनाथ आश्रमों में रहने वाले बच्चों के बीच जाकर, अपने घर के पास की झुग्गी झोपडियों में रहने वाले गरीबों के बीच जाकर या फिर अपने घर में काम करने […]

  • पूजन के लिए आवश्यक पूजा सामग्री

    धूप बत्ती (अगरबत्ती),  चंदन ,  कपूर,  केसर ,  यज्ञोपवीत 5 ,  कुंकु ,  चावल,  अबीर,  गुलाल,  अभ्रक,  हल्दी ,  सौभाग्य द्रव्य-मेहंदी,  चूड़ी, काजल, पायजेब,   बिछुड़ी आदि आभूषण। नाड़ा (लच्छा),  रुई,  रोली, सिंदूर,  सुपारी, पान के पत्त ,  पुष्पमाला,  कमलगट्टे,  निया खड़ा (बगैर पिसा हुआ) ,  सप्तमृत्तिका,  सप्तधान्य,  कुशा व दूर्वा (कुश की घांस) ,  पंच […]

  • लक्ष्मीजी की आरती

                    ॐ जय लक्ष्मी माता, मैया जय लक्ष्मी माता । तुमको निसदिन सेवत हर-विष्णु-धाता ॥ ॐ जय लक्ष्मी माता, मैया जय लक्ष्मी माता । उमा, रमा, ब्रह्माणी, तुम ही जग-माता । सूर्य-चन्द्रमा ध्यावत, नारद ऋषि गाता ॥ ॐ जय लक्ष्मी माता, मैया जय लक्ष्मी माता । तुम पाताल-निरंजनि, […]

  • दीपक जलाने व आतिशबाजी का कारण

    दीपावली के दिन आतिशबाजी (आकाशदीप, कंडील आदि) जलाने की प्रथा के पीछे संभवतः यह धारणा है कि दीपावली-अमावस्या से पितरों की रात आरंभ होती है। कहीं वे मार्ग से भटक न जाएँ, इसलिए उनके लिए प्रकाश की व्यवस्था इस रूप में की जाती है। इस प्रथा का बंगाल में विशेष प्रचलन है। .

  • रूप चौदस

    दीपावली के एक दिन पूर्व आने वाली चतुर्दशी को रुप चौदस या रूप चतुर्दशी या  नरक चतुर्दशी भी कहा जाता है।  इसी दिन बजरंग बली हुनमान का जन्म दिवस भी माना गया है। इसे छोटी दीपावली भी कहते है। इस दिन रुप और सौंदर्य प्रदान करने वाले देवता श्री कृष्ण को प्रसन्न करने के लिए […]

  • दीपावली और जुआ

    दीपावली पर कहीं-कहीं जुआ भी खेला जाता है। इसका प्रधान लक्ष्य वर्षभर के भाग्य की परीक्षा करना है। इस प्रथा के साथ भगवान शंकर तथा पार्वती के जुआ खेलने के प्रसंग को भी जोड़ा जाता है, जिसमें भगवान शंकर पराजित हो गए थे। हालाँकि यह एक दुर्गुण ही है किन्तु कुछ लोग भगवान शंकर और […]

Back to Top