आप यहाँ है :

 

  • अब आधार कार्ड और मतदाता सूची को एक साथ लिंक करें

    फर्जी वोटरों की शिनाख्त के लिए शुरू की गई आधार-वोटर कार्ड लिंकिंग के लिए लोगों को सरकारी दफ्तरों के चक्कर लगाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। लोग घर बैठे ही अपने वोटर कार्ड को आधार से लिंक कर सकते हैं। इसके लिए एसएमएस या वेबसाइट का सहारा लिया जा सकता है। ऑनलाइन वोटर-आधार लिंक करने के […]

  • लोकेन्द्र सिंह के काव्य संग्रह ‘मैं भारत हूं’ का विमोचन

    भोपाल। युवा साहित्यकार लोकेन्द्र सिंह के काव्य संग्रह 'मैं भारत हूं' का विमोचन 4 अप्रैल को क्रांतिकारी कवि एवं पत्रकार पंडित माखनलाल चतुर्वेदी की जयंती के अवसर पर दोपहर 3 बजे माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय के सभागार में किया जाएगा। मीडिया विमर्श पत्रिका के तत्वावधान में आयोजित इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि […]

  • वाट्सअप पर नई सुविधा

    बुधवार से वॉट्सएप का वॉइस कॉलिंग फीचर सभी यूजर के लिए शुरू हो गया है। वाइस कॉलिंग शुरू करने के लिए पहले वेबसाइट से एप्लीकेशन डाउनलोड करना पड़ रही थी, वहीं कुछ यूजर 'इनवाइट' ऑप्शन के जरिए इस फीचर्स को शुरू करने की कोशिश कर रहे थे, लेकिन अब यह बिना 'इनवाइट' के ही शुरू […]

  • किस खतरे का संकेत है पत्रकारों की ये चुप्पी

    देश फिर ऐसे दौर से गुजर रहा है, जब अक्सर सुनने को मिलता है कि पत्रकार चुप क्यों हैं। खासकर धार्मिक और सामुदायिक अनर्थ के मामले में सत्ता के खिलाफ उनकी आवाज नहीं उठती। और तो और खुद पत्रकारों के मुंह से पत्रकारों की "चुप्पी" के बारे में सुनने को मिलता है। यह सच्चाई है […]

  • ‘भारतीय भाषाओं की रक्षा और राष्ट्रभाषा की प्रतिष्ठा के लिए संघर्ष करना होगा’

    हैदराबाद। उच्च शिक्षा और शोध संस्थान की स्वर्ण जयंती वर्ष के अवसर पर केंद्रीय हिंदी निदेशालय और स्टेट बैंक ऑफ़ हैदराबाद के सहयोग से आयोजित त्रिदिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी “मुक्तिबोध की कविता 'अंधेरे में' : अर्धशती समारोह” का उद्घाटन करते हुए प्रख्यात साहित्यकार, वर्तमान सांसद और उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमेश पोखरियाल 'निशंक' ने कहा […]

  • चलो फिर अहिंसा के बिरवे उगाएँ

    प्रसंगवश भगवान महावीर की जयन्ती पर अणुव्रत अनुशास्ता आचार्य तुलसी के विचार मननीय प्रतीत हुए कि सभी व्यक्ति अहिंसा की शीतल छाया में विश्राम पाने के लिए उत्सुक रहते हैं, सत्य का साक्षात्कार करना चाहते हैं. अहिंसा का क्षेत्र व्यापक है. यह सूर्य के प्रकाश की भांति मानव मात्र और उससे भी आगे प्राणी मात्र […]

  • भगवान महावीर जैन धर्म के संस्थापक नहीं

    (विशेष अध्ययन के लिए देखें – भगवान महावीर एवं जैन दर्शन, पृष्ठ 63-70, लोकभारती प्रकाशन, इलाहाबाद) भगवान महावीर के जीवन चरित में अनेक प्रकार की चमत्कारिक एवं अलौकिक घटनाओं के उल्लेख मिलते हैं। लेखक की मान्यता है कि इन घटनाओं की प्रामाणिकता, सत्यता, इतिहास-सम्मतता पर तर्क-वितर्क करने की अपेक्षा उनकी जीवन दृष्टि को जीवन में […]

Back to Top