Tuesday, March 5, 2024
spot_img

Monthly Archives: April, 2020

गंगा सप्तमी पर विशेषः हिंदी काव्य में गंगा नदी

आदिकाल का सर्वाधिक लोक विश्रुत ग्रंथ जगनिक रचित ‘आल्हखण्ड’ में गंगा, यमुना और सरस्वती का उल्लेख है। कवि ने प्रयागराज की इस त्रिवेणी को पापनाशक बतलाया है-

ओ इरफान, तुम फिर आना , इसी रूप में !

अपनी शानदार फिल्मों में जानदार अभिनय को धारदार अभिव्यक्ति देनेवाले इरफान पूरे दो साल तक केंसर की वजह से अपनी टूटती सांसों को सम्हालकर थाम रहे।

आप कर्मवीर बनेंगे या भगौड़े?

वर्तमान समय भी युद्ध का है। शत्रु ज्ञात होकर भी अज्ञात है। बारह करोड़ लोगों की नौकरी जा चुकी है। चार करोड़ दिहाड़ी मजदूरों को काम नहीं मिल पा रहा है।

माय होम इंडिया ने दिल्ली से इन्दौर के २५ कश्मीरी छात्रों को मदद पहुँचाई

इसके बाद ‘माय होम मीडिया’ के धर्मेंद्र छोनकर ने उनके लिए राशन की व्यवस्था की। उन्होंने इस ट्वीट का रिप्लाई देते हुए आश्वस्त किया था कि वो

“जनऔषधि सुगम” मोबाइल ऐप से जनऔषधि मिलना हुआ आसान

वर्तमान में, देश के 726 जिलों को कवर करते हुए 6300 से अधिक जनऔषधि केंद्र (पीएमजेएके) कार्य कर रहे हैं। लॉकडाउन अवधि में पीएमबीजेपी अपने सोशल मीडिया प्लेटफार्म

लॉकडाऊन में ऑनलाईन भारतीय नृत्य सीखें

वे बताती हैं कि इस ऑनलाइन डांस स्ट्रीम से नृत्य की बेसिक स्टेप्स, लोकनृत्य, विवाह में होने वाले नृत्य, ढोल की थाप पर नृत्य और सोशल फंक्शन में करने वाले कुछ फिल्मी गीतों के

राष्ट्रपति और सर्वोच्च न्यायालय तक जा सकता है उध्दव ठाकरे का मामला

वरिष्ठ वकील संजय हेगड़े कहते हैं कि प्रावधान केवल सीटों खाली रखने के लिए है, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि सीट को रिक्त ही रखा जाएगा।

अलविदा इरफान- अब तुमसे इत्मीनान से मिलना न होगा

बस मैंने मौका लपक लिया. अजय जी के इंटरव्यू के बाद मुझे इरफान फिर मिल गये, उन्हें शायद उसी दिन वापस जाना था और उससे पहले किसी और से भी मिलना था

स्वदेशी अपनाकर ही देश में आर्थिक विकास को गति देना सम्भव

यह भारतीय परम्पराएँ ही हैं जिसके चलते कोरोना वायरस की महामारी का प्रभाव भारत में बहुत कम दिखा है। अपनी प्रतिरोधात्मक क्षमता बढ़ाने के उद्देश्य से भारत के आयुष मंत्रालय ने एक

नृत्य दिवसः भारतीय शास्‍त्रीय नृत्‍य अतीत से आज तक

शताब्दियों के विकास के साथ भारत में नृत्‍य देश के विभिन्‍न भागों में विकसित हुआ । इनकी अपनी पथृक शैली ने उस विशेष प्रदेश की संस्‍कृति को ग्रहण किया; प्रत्‍येक ने अपनी विशिष्‍टता प्राप्‍त की ।
- Advertisment -
Google search engine

Most Read