Thursday, April 18, 2024
spot_img

Monthly Archives: September, 2020

फैसला-ए- ‘बा’ ‘ब’ ‘री’ यानी – सभी आरोपी बाइज्जत बरी

मुरली मनोहर जोशी ने कहा कि वकीलों ने इतने जटिल केस में कोर्ट के समक्ष सही तरीके से तथ्यों को रखा। उन्होंने कहा कि देश की न्याय व्यवस्था में हमें विश्वास है।

यह तो पहली झाँकी है, काशी-मथुरा बाकी है: आचार्य धर्मेंद्र

सीबीआई मामले के सभी 32 आरोपितों के खिलाफ आपराधिक साजिश रचने के मामले में पर्याप्त सबूत नहीं पेश कर सकी। इसलिए लाल कृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, कल्याण सिंह,

विदेशी षड़यंत्रों से देश को बचाने के लिए बनाे कानून का विरोध क्यों?

अब इस नए क़ानून के बन जाने से बहुतों का गोरखधंधा बंद हुआ है। स्वाभाविक है कि जिन्हें चोट लगी है, वे सभी बहुत जोर-शोर से बिलबिला रहे हैं। सरकार ने बार-बार स्पष्ट किया है कि

भारत में सर्व समावेशी विकास से ही तेज़ आर्थिक प्रगति सम्भव

भारतीय चिंतन धर्म, अर्थ, काम एवं मोक्ष इन चार स्तंभों पर स्थापित है। यदि अर्थ का अभाव द्रष्टिगत होता है इसके परिणाम में शोषण, दारिद्रता, विषमता आदि विकारों से समाज ग्रस्त होता

पश्चिम रेलवे चलायेगी बांद्रा टर्मिनस से अजमेर और उदयपुर के लिए दो अतिरिक्त स्पेशल ट्रेनें

ट्रेन नंबर 02995 और ट्रेन नंबर 02901 की बुकिंग 30 सितंबर, 2020 से निर्धारित पीआरएस काउंटरों और आईआरसीटीसी की वेबसाइट पर शुरू होगी।

चंद्रशेखर आज़ाद पर गोली चलाने वाले अंग्रेज अफसर का बयान

यह सारी घटना कुछ ही सेकेंडों में घट गयी. खुफिया सिपाही इस बीच उन तीनों आदमियों के पीछे पहुंचकर अपना स्थान ले चुके थे. वहीं डिप्टी बिशेश्वर सिंह भी पहुंच गया और एक झाड़ी

किस्से कहानियों से हिंदू धर्म के मर्म को समझाने का सार्थक प्रयास

सह-लेखक श्री पृथ्वीराज सिंह कहते हैं, जैसा कि इस पुस्तक का टाइटल है, ए ग्रेट टेल ऑफ हिंदुइज्म, इसके जरिए लोगों को बताना चाहते हैं कि यह बहुत सकारात्मक शब्द है।

नए श्रम क़ानूनों के लागू होने से देश के आर्थिक विकास को लग सकते हैं पंख

जो तीन दशकों से भी अधिक समय तक सफलतापूर्वक चलता रहा है। हाँ, भारत सरकार को इन श्रम प्रधान उद्योगों के लिए प्रोत्साहन योजनाओं की घोषणा करनी होगी ताकि अधिक से अधिक श्रम प्रधान उद्योगों की देश में ही स्थापना की जा सके। उक्त श्रम क़ानूनों के देश में लागू

दो नेताओं की सहज मुलाकात या राजनीतिक पाप ?

इसीलिए बिहारी समुदाय के खलनायक के रूप में खड़ी शिवसेना के संजय राऊत से फडणवीस की इस मुलाकात के बारे में माना जा रहा है कि बिहार की प्रजा के भरोसे को तोड़ने का भाजपा ने

सभी भारतीय भाषाएं हैं राष्ट्रभाषा : प्रो. अग्निहोत्री

कार्यक्रम की अध्यक्षता महात्मा गांधी केंद्रीय विश्वविद्यालय, मोतिहारी के कुलपति प्रो. संजीव कुमार शर्मा ने की। आयोजन में प्रसिद्ध लेखिका एवं दैनिक हिंदुस्तान
- Advertisment -
Google search engine

Most Read