आप यहाँ है :

 

  • बारां का डोल मेलाः देवविमानो की शोभायात्रा के दर्शनार्थ उमड़ता है जनसैलाब

    बारां का डोल मेलाः देवविमानो की शोभायात्रा के दर्शनार्थ उमड़ता है जनसैलाब

    डोल शोभा यात्रा को लेकर कई मान्यताएं विद्यमान है। कहते हैं इस दिन भगवान श्रीविग्रह अपने विमान यानि डोल में बैठकर विचरने निकलते हैं। दूसरी यह कि इस दिन श्रीकृष्ण की माता गाजे-बाजों के साथ कृष्ण जन्म के 18 वें दिन सूर्य एवं जलवा पूजन के लिए घर से निकलती है। कुछ का मानना है कि विभिन्न मन्दिरों में विराजे भगवान प्रकृति की हरियाली का वैभव एवं सौन्दर्य निहारने निकलते हैं।

  • भारत में हिंदू-मुस्लिम संबंधों में तनाव क्यों?

    भारत में हिंदू-मुस्लिम संबंधों में तनाव क्यों?

    पाकिस्तान में अल्पसंख्यक ही नहीं, इस्लामी समाज से 'निष्कासित' अहमदी मुस्लिम समाज भी मजहबी यातना झेल रहा है। पिछले दिनों कट्टरपंथी मुसलमानों ने इस समुदाय के 16 कब्रों के साथ बेअदबी कर दी।

  • स्त्री विमर्श से परे स्त्री सशक्तीकरण का उपन्यास है ‘विपश्यना’

    स्त्री विमर्श से परे स्त्री सशक्तीकरण का उपन्यास है ‘विपश्यना’

    ‘हवेली सनातनपुर’ और ‘रपटीले राजपथ’ में इसका आग़ाज़ हुआ था तो निश्चित रूप से यह कहा जा सकता है कि ‘विपश्यना’ में उसका विकास हुआ है। यानी, इस उपन्यास तक आते-आते इंदिरा का कथा-लेखनवाला ग्राफ़ ऊर्ध्वगामी हुआ है।

  • डेढ़ टिकट सुनते ही सबकी आँखों में आँसू आ गए!

    महानगर के उस अंतिम बस स्टॉप पर जैसे ही कंडक्टर ने बस रोक दरवाज़ा खोला, नीचे खड़े एक देहाती बुज़ुुर्ग ने चढ़ने के लिए हाथ बढ़ाया। एक ही हाथ से सहारा ले डगमगाते क़दमों से वे बस में चढ़े, क्योंकि *दूसरे हाथ में थी भगवान गणेश की एक अत्यंत मनोहर बालमूर्ति थी।*

  • खेल पत्रकारिता की बारीकियां सिखाती एक पुस्तक

    खेल पत्रकारिता की बारीकियां सिखाती एक पुस्तक

    खेल पत्रकारिता के आयाम’ पाँच खण्डों में विभाजित है। पहले खण्ड में भारत में प्रचलित खेलों की स्थिति का अवलोकन किया गया है।

  • गुरु बिन ज्ञान न उपजै

    गुरु बिन ज्ञान न उपजै

    गुरु कौन होता है? 'गु' शब्द का अर्थ है अंधकार एवं 'रु' शब्द का अर्थ है प्रकाश। अर्थात जो अज्ञान रूपी अंधकार को मिटाकर ज्ञान का प्रकाश फैलाए, वही गुरु है। मनुस्मृति में गुरु की परिभाषा इस प्रकार दी गई है-

  • संघ द्वारा भारतीय समाज को साथ लेकर पर्यावरण में सुधार  के प्रयास

    संघ द्वारा भारतीय समाज को साथ लेकर पर्यावरण में सुधार के प्रयास

    भारत ने वर्ष 2070 तक नेट जीरो यानी कार्बन उत्सर्जन रहित अर्थव्यवस्था का लक्ष्य तय किया हुआ है। यद्यपि पर्यावरण रक्षा में भारत के प्रयास बहुआयामी रहे हैं लेकिन यह प्रयास तब तक सफल नहीं हो सकते जब तक देशवासी प्राकृतिक संसाधनों का अनावश्यक अत्यधिक दोहन बंद नहीं करते।

  • यह फैसला देश के लिए नजीर बनेगा

    मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान मध्यप्रदेश से अपराधों को जड़ से समाप्त करने के लिए कृत-संकल्पित हैं लेकिन इतने बड़े प्रदेश से अपराधों को नेस्तनाबूद करना थोड़ा मुश्किल है लेकिन जब ठान लिया जाए तो कोई रास्ता मुश्किल नहीं होता है.

  • 10 से 12 सितम्बर 2022 को रायपुर में होगी अखिल भारतीय समन्वय बैठक

    मुंबई। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से प्रेरित समाज जीवन के विभिन्न क्षेत्रों में कार्यरत विविध संगठनों के प्रमुख पदाधिकारियों की समन्वय बैठक इस माह 10 से 12 सितम्बर 2022 को रायपुर, छत्तीसगढ़ में आयोजित हो रही है।

  • योगीराज में सुधार की ओर बढ़ती कानून व्यवस्था

    योगीराज में सुधार की ओर बढ़ती कानून व्यवस्था

    2022 के विधानसभा चुनावों में भी कानून व्यवस्था एक बड़ा मुददा बना और प्रदेश की नारी शक्ति ने प्रदेश में बन रहे सुरक्षित वातावरण को ध्यान में रखते हुए भारतीय जनता पार्टी को ही वोट किया।

Get in Touch

Back to Top