Saturday, March 2, 2024
spot_img

Monthly Archives: November, 2022

मध्यप्रदेश के लिए 29 नवम्बर, 2005 महज तारीख नहीं एक इतिहास है

29 नवम्बर, साल 2005 को जब शिवराजसिंह चौहान मुख्यमंत्री पद की शपथ ले रहे थे तब किसी को इस बात का इल्म भी नहीं था कि मध्यप्रदेश एक इतिहास रचने जा रहा है। जिस मध्यप्रदेश ने एक दिन से दस वर्ष के कार्यकाल का मुख्यमंत्री देखा हो, उस प्रदेश को लगातार तीन बार और एक छोटे अंतराल के बाद फिर चौथी बार मुख्यमंत्री के रूप में शिवराजसिंह चौहान नसीब हुआ हो। चार बार मुख्यमंत्री बन जाने का राजनीतिक इतिहास तो शिवराजसिंह चौहान ने लिख दिया है और लगता नहीं कि कोई अन्य इस रिकार्ड को ध्वस्त कर पाएगा।

खुद का खुद से परिचय कराएगी राजीव मिश्रा की पेंटिंग प्रदर्शनी ‘पावर ऑफ सेल्फ रिफ्लेक्शन’

नई दिल्ली। राजीव मिश्रा की समकालीन कलाकृतियों पर आधारित पेंटिंग प्रदर्शनी 'पावर ऑफ सेल्फ रिफ्लेक्शन' का आयोजन दिल्ली के रविन्द्र भवन में 30 नवंबर से 6 दिसंबर, 2022 को किया जाएगा।

अंतरराष्ट्रीय एकजुटता दिवस कि प्रासंगिकता

1789 में वैश्विक स्तर पर घटित फ्रांस की क्रांति जिसका क्रांतिकारी वाक्य ' स्वतंत्रता ,समानता और बंधुत्व था।बंधुत्व का आशय वैश्विक एकजुटता को बढ़ाना है ।धर्म ,जाति ,लिंग ,भाषा, रंग एवं संप्रदाय के परे एकजुटता की संकल्पना को वैश्विक प्रभाव देना है।

डॉ दीपक कुमार को लाईब्रेरिन ऑफ दी ईयर” सम्मान

शीर्ष 10 भारतीय नेक्सट जनरेशन ट्रेलब्लेजींग पब्लिक लाईब्रेरीयन मे शुमार इनेली साउथ एशिया मेंटर एवं फ्युचर रेडी पब्लिक लाईब्रेरीयन डॉ दीपक कुमार श्रीवास्तव मण्डल पुस्तकालय अध्यक्ष राजकीय सार्वजनिक मण्डल पुस्तकालय कोटा को अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) ऋषिकेश मे आयोजित तीसरे राष्ट्रीय सम्मेलन मे उत्तराखण्ड सरकार के स्वास्थ्य , शिक्षा एवं सहकार मंत्री माननीय डॉ धन सिंह रावत ने “एफ.एच.एस.एल.ए : लाईब्रेरीयन ऑफ दी यीअर” अवार्ड से सम्मानित किया । इस अवसर पर माननीय मंत्री के अलावा एम्स ऋषिकेश की कार्यकारी अधिकारी प्रोफेसर डॉ मीनू सिंह, प्रोफेसर डॉ चतुर्वेदी ,डॉ बी श्रीनिवास अतिरिक्त महानिदेशक , स्वास्थ्य मंत्रालय भारत सरकार , सुश्री राम्या हरिदसन वेज्ञानिक कार्यालय मुख्य वेज्ञानिक सलाहकार भारत सरकार एवं डॉ पी.आर.मीणा अध्यक्ष फेडरेशन ऑफ हेल्थ सांईस लाईब्रेरी एसोशियेशन भारत मौजुद रहे ।

चंबल की रोमांचक कहानी

भारत की नदियों की प्रवाह प्रणाली में कोटा से होकर बहने वाली चंबल नदी का अपना विशेष महत्व है। यह नदी मध्य प्रदेश एवं राजस्थान राज्यों में बह कर उत्तर प्रदेश की यमुना नदी में समा जाती है। भारत की यह एक मात्र नदी है जो दक्षिण से उत्तर की ओर बहती है। यह नदी अपने किनारे कई एतिहासिक एवं धार्मिक नगरों एवं स्थानों की पोषक रही है। चंबल एवं इसकी सहायक नदियां विशेष रूप से राजस्थान राज्य की प्रगति में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभा कर हाड़ोती ही नहीं राजस्थान की जीवन रेखा बन जाती हैं। राजस्थान की भाग्यश्री बनी चंबल नदी एकमात्र सदा प्रवाहिनी नदी है जो वर्ष भर बहती है।

आईएफएफआई मणिपुरी सिनेमा के 50 साल मना रहा है

"आईएफएफआई में मणिपुरी सिनेमा पर एक अनुभाग के रूप में हम वर्षों से संजोये अपने सपने को साकार होते देख रहे हैं": सुंजु बाचस्पतिमायुम

गोआ में फिल्म उत्सव की शानदार शुरुआत

विजेता फिल्म 'डियर डायरी' के बारे में बात करते हुए पिल्चर ने कहा कि ये एक ऐसी लड़की की कहानी है जिसके साथ दुर्व्यवहार किया गया था

लाचित बरफूकन: एक अपराजित महान योद्धा

मिरि ने वह पत्र स्वर्गदेव चक्रध्वज सिंह के पास गढ़गांव भेज दिया। राजा के संदेह को अतन बुढागोहॉई ने समझाकर दूर किया लेकिन फिर भी राजा ने मुगल सेना से तत्काल मैदानी युद्ध करने का फरमान भेज दिया।

आधार को पहचान पत्र के रूप में स्वीकार करने से पहले उसे जांचें- यूआईडीएआई

यूआईडीएआई ने अनुरोध करने वाली संस्थाओं, प्रमाणीकरण/सत्यापन करने के लिए अधिकृत, और अन्य संस्थाओं को सत्यापन की आवश्यकता पर बल देते हुए और प्रोटोकॉल का पालन करने के लिए खास सर्कुलर भी जारी किया है।
- Advertisment -
Google search engine

Most Read