आप यहाँ है :

आपके डिजिल तालों की चाभी चोरों के हाथ में

कभी ताले तोड़कर घरों और दुकानों में चोरी की जाती थी, लेकिन टेक्नोलॉजी के दौर में अब चोरी भी हाइटेक हो गई है। आज घरों में एसी से लेकर दरवाजों तक हर कहीं स्मार्ट गैजेट आपके एक क्लिक पर कंट्रोल किए जा रहे हैं। हैकर्स के कारण अब यही स्मार्ट होम बिल्कुल भी सिक्योर नहीं है। कहीं से भी आपके पूरे घर को हैकर आसानी से कंट्रोल कर सकते हैं। ये हैकर्स इंटरनेट के जरिए आपके हर स्मार्ट डिवाइस को हैक कर रहे हैं। सिमेंटेक एंटीवायरस द्वारा हाल ही में देशभर के कई शहरों में स्मॉर्ट होम कंसेप्ट का सर्वे किया गया है। अधिकतर घरों में इंटरनेट और डिवाइस में कमजोर पासवर्ड होने के कारण हैकर इसे आसानी से निशाना बना रहे हैं।

 

रिपोर्ट के अनुसार कई स्मार्ट होम में बुनियादी सुरक्षा की कमी देखने को मिल रही है। इसमें 20 प्रतिशत से ज्यादा मोबाइल एप्लीकेशन के डेटा 'एन्क्रिप्ट' ही नहीं है। इसमें कुछ गैजेट को हैक कर आसानी से घर को अनलॉक किया जा सकता है। सभी स्मॉर्ट होम में 10 प्रतिशत से ज्यादा वेब कंट्रोलिंग की कमियां देखने को मिली हैं। एक्सपर्ट्स के अनुसार इंदौर और भोपाल जैसे शहरों में अब स्मार्ट होम सिस्टम का क्रेज बढ़ता जा रहा है। कई टाउनशिप और घरों में स्मार्ट सिक्योरिटी सिस्टम का नया ट्रेंड देखने को मिल रहा है। इंटरनेट से स्मार्ट टीवी, लॉक, एसी, सर्विलेंस सिस्टम और सीसीटीवी भी कनेक्ट होते हैं। हर गैजेट को हैक कर हैकर्स इसका इस्तेमाल अपने फायदे के लिए कर रहे हैं।

 

स्मार्ट होम को क्लाउड सर्विस के जरिए रिमोट कंट्रोल किया जा रहा है। इसमें कमजोर पासवर्ड का ज्यादा इस्तेमाल होने के कारण इसे आसानी से हैक किया जा रहा है। इसमें चार नंबर के पिन कोड का आसानी से क्रेक किया जा रहा है। इसमें स्मार्ट लाइट तक को हैकर आसानी से बंद चालू कर सकते है। किसी भी घर के दरवाजों को कहीं से भी बैठकर खोला या बंद किया जा सकता है।

 

एक्सपर्ट इमरोज खान कहते हैं कि वाई-फाई डिवाइस से कनेक्ट हर गैजेट में सिक्योरिटी का इश्यू हमेशा बना रहता है।कई घरों में स्मार्ट होम सिक्योरिटी सिस्टम या सीसीटीवी भी वाईफाई नेटवर्क से कनेक्ट रहते है। यूजर एक बार वाई-फाई इंटरनेट में पासवर्ड देने के बाद उसे बदलते नहीं है। इससे आसानी से कोई भी हैक कर सकता है। इसके लिए जरूरी है कि वाईफाई में पासवर्ड को बेहतर रखें। सभी गैजेट की मॉनिटरिंग समय की जाना चाहिए।

 

 

– लाइट बल्ब

-स्मोक डिटेक्टर

-एनर्जी मैनेजमेंट डिवाइस

-स्मार्ट हब

-सिक्योरिटी अलार्म

– सर्विलेंस आईपी कैमरा

-स्मार्ट टीवी एंड सेटअप बॉक्स

-ब्रांडबैंड राउटर

-नेटवर्क अटैच स्टोरेज

हैकिंग से ये खतरा

-प्राइवेसी की दिक्कत

-स्मार्ट होम पर कंट्रोल नहीं

-सभी तरह की सर्विस बंद हो सकती है

-एसी से लेकर दरवाजों तक का कंट्रोल हैकर कर सकते हैं

 

क्या ध्यान रखना जरूरी

-यूनिक कोड और नंबर पासवर्ड में जरूरी हो

-डिफाल्ट पासवर्ड को जरूर बदलें

-वाई-फाई नेटवर्क इन्क्राफिशन सेटिंग का इस्तेमाल करें।

-वायर इंटरनेट कनेक्शन का इस्तेमाल ज्यादा से ज्यादा करें

-डिवाइस की सिक्योरिटी को एक बार सर्वे जरूर कराएं।

-लेटेस्ट ऑपरेटिंग सिस्टम और बेहतर एंटीवायरस का इस्तेमाल करें।

 

साभार- http://naidunia.jagran.com/ से

.

image_pdfimage_print


Back to Top