आप यहाँ है :

आधार कार्ड से जुड़ेंगे बैंक खाते

कैशलेस भुगतान की दिशा में सरकार एक और बड़ा कदम उठाने जा रही है। जल्द ही भुगतान के लिए आधार नंबर आधारित प्रणाली को लांच किया जा रहा है। इस माह के अंत तक या अगले माह के आरंभ में आधार आधारित प्रणाली शुरू हो जाएगी।

इस काम को अंजाम देने के लिए निजी व सार्वजनिक दोनों ही क्षेत्रों के बैंकों से बात की जा रही है और कई बैंकों के साथ इस मामले में सहमति भी बन गई है। इलेक्ट्रॉनिकी व सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय सूत्रों के मुताबिक सार्वजनिक क्षेत्र के चार बड़े बैंक इस प्रणाली के तहत होने वाले भुगतान को लेकर अपनी सेवा देने के लिए तैयार हो गए हैं।

डिजिटल भुगतान में तेजी लाने के लिए हाल ही में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारत इंटरफेस फॉर मनी (भीम) ऐप लांच किया था। भीम ऐप के जरिए भुगतान करने के लिए मोबाइल फोन का होना जरूरी है।

आधार नंबर आधारित प्रणाली के तहत भुगतान के लिए किसी मोबाइल फोन की जरूरत नहीं है। भुगतान बायोमेट्रिक तरीके से होगा और उस प्रणाली पर उंगली रखते ही वह प्रणाली आपके बैंक खाते से जुड़ जाएगी और तय रकम डालकर भुगतान पूरा हो जाएगा। लेकिन इस प्रणाली के तहत वही व्यक्ति भुगतान कर पाएगा जिनका बैंक खाता आधार नंबर से जुड़ा होगा।
बैंकों को मंत्रालय का आदेश सभी खातों को आधार से जोड़ें

मंत्रालय सूत्रों के मुताबिक सभी बैंकों को यह कहा गया है कि सभी खातों को आधार नंबर से जोड़ा जाए। इसलिए बैंक अपने ग्राहकों से संपर्क कर उन्हें बैंकों में अपने आधार नंबर जमा करवाने के लिए कह रहे हैं।

मंत्रालय सूत्रों के मुताबिक आधार नंबर आधारित प्रणाली के तहत जिन बैंकों के साथ भुगतान शुरू करने की बात पक्की हो गई है, वहां इस भुगतान की सुरक्षा की जांच चल रही है ताकि भुगतान शुरू होने से पहले यह प्रक्रिया पूरी तरह से फूलप्रुफ हो।

जल्द ही सभी बैंकों के इस स्कीम से जुड़ने की संभावना है। मंत्रालय के मुताबिक आधार आधारित भुगतान प्रणाली के आरंभ होने पर देश के वे लोग भी डिजिटल भुगतान कर पाएंगे जिनके पास मोबाइल फोन नहीं है।

आईटी मंत्रालय के मुताबिक देश में लगभग 30 लाख लोगों के पास मोबाइल फोन नहीं है, लेकिन उनके बैंक खातों के आधार से जुड़ जाने पर उन्हें डिजिटल भुगतान में कोई दिक्कत नहीं आएगी। हाल ही में लांच भीम ऐप की मदद से फीचर फोन रखने वाले उपभोक्ता भी डिजिटल भुगतान कर रहे हैं। भीम ऐप 1.2 करोड़ बार डाउनलोड किया जा चुका है।

Print Friendly, PDF & Email


सम्बंधित लेख
 

ईमेल सबस्क्रिप्शन

PHOTOS

VIDEOS

Back to Top