आप यहाँ है :

वर्ष 2022 में पश्चिम रेलवे की महत्‍त्‍वपूर्ण उपलब्धियों का लेखा-जोखा

मुंबई। 

 

पश्चिम रेलवे द्वारा उत्कृष्ट यात्री सुविधाओं और बेहतर संरक्षा व्‍यवस्‍था के साथ

वंदे भारत एक्सप्रेस गांधीनगर केपिटल-मुंबई सेंट्रल के बीच शुरू की गई

 

सूरत, उधना, सोमनाथ, साबरमती, न्यू भुज और अहमदाबाद स्टेशनों का पुनर्विकास कार्य तेजी से चल रहा है

 

513 किमी से अधिक नई लाइनों, गेज परिवर्तन और दोहरीकरण के कार्य किये गये,

जबकि 210 रूट किमी का विद्युतीकरण किया गया

पश्चिम रेलवे ने वर्ष 2022-23 में नवंबर, 2022 तक 72.20 मिलियन टन का लदान किया। यह पिछले वर्ष की इसी अवधि के 56.49 मिलियन टन की तुलना में 27.7% अधिक है

 

पश्चिम रेलवे ने पिछले साल के 338 दिनों की तुलना में इस साल केवल 249 दिनों में

माल लदान में 10,000 करोड़ रुपये के राजस्व का आंकड़ा पार किया

 

पश्चिम रेलवे ने प्री-कोविड अवधि (अप्रैल-नवंबर 2019) की तुलना में चालू वित्त वर्ष

के दौरान नवंबर 2022 तक मोबाइल ऐप पर यूटीएस के माध्यम से टिकटों की बिक्री में

16% की वृद्धि दर्ज की 

 

पश्चिम रेलवे पर उपनगरीय सेवाओं को 1375 से बढ़ाकर 1383 किया गया। इनमें से 79 एसी लोकल सेवाएं हैं जबकि 132 सेवाएं 15 कोच वाली सेवाएं हैं।

 

अंडरस्लंग एसी ईएमयू लोकल को उपनगरीय सेवा में शामिल किया गया

 

डिलायल ब्रिज, लोअर परेल के दोनों ओपन वेब गर्डरों को सफलतापूर्वक लॉन्च किया गया

 

भायंदर स्टेशन पर अपनी तरह का पहला स्टेनलेस स्टील एफओबी शुरू किया गया

मुंबई उपनगरीय रेलवे नेटवर्क पर बांद्रा टर्मिनस को खार रोड स्टेशन से जोड़ने के लिए एक स्काईवॉक शुरू किया गया

 

38 एस्केलेटर और 25 लिफ्ट शुरू किये गये

12 आरओबी, 27 आरयूबी और 8 एफओबी शुरू किये गये

60 मानवयुक्त समपारों को समाप्त किया गया

298 ट्रैक किमी कवर करते हुए 14 खंडों में सेक्‍शनल गति में वृद्धि की गई

15 स्थायी गति प्रतिबंधों को हटाया गया और 6 (पीएसआर) में ढील दी गई

उपनगरीय ट्रेनों की समयपालनता 95% है जबकि यह मेल/एक्सप्रेस के लिए 94.49% और

पैसेंजर ट्रेनों के लिए 93.72% है

 

कोविड-19 महामारी के कारण स्थगित सभी ट्रेनों को फिर से शुरू कर दिया गया है

 

पश्चिम रेलवे ने लिनेन के प्रावधान को भी 100 प्रतिशत बहाल कर दिया है

 

पश्चिम रेलवे ने फिल्म शूटिंग के लिए अपने विभिन्न परिसरों और रेल डिब्बों को उपलब्‍ध कराकर 1.52 करोड़ रुपये से अधिक का राजस्‍व अर्जित किया

 

स्थानीय उत्पादों की बिक्री को बढ़ावा देने के लिए पश्चिम रेलवे के विभिन्न स्टेशनों पर

‘एक स्टेशन एक उत्‍पाद’ स्टॉल खोले गए हैं

पहला गति शक्ति मल्‍टी मोडल कार्गो टर्मिनल वड़ोदरा मंडल के वरनामा में शुरू किया गया है।

 

रेल पोस्ट गति शक्ति कार्गो एक्सप्रेस सेवा सूरत-छपरा ताप्ती गंगा एक्सप्रेस में शुरू की गई।

 

रोलिंग स्टॉक वर्कशॉप, दाहोद में 9000 एचपी इलेक्ट्रिक लोकोमोटिव के निर्माण के लिए उत्पादन इकाई का शिलान्यास किया गया

 

पश्चिम रेलवे ने चार राष्ट्रीय दक्षता कार्य निष्‍पादन शील्ड और 4 व्यक्तिगत राष्ट्रीय पुरस्कार प्राप्त किए

 

रोज़गार मेला के अंतर्गत पश्चिम रेलवे द्वारा 1452 अभ्यर्थियों को नियुक्ति पत्र प्रदान किये गये

 

ग्रेड-I हेरिटेज बांद्रा रेलवे स्टेशन भवन का संरक्षण, जीर्णोद्धार और उन्नयन कार्य इसके पुराने गौरव को बहाल करने के लिए किया जा रहा है

 

पश्चिम रेलवे संचार और आईटी में नवीनतम इंटरनेट प्रोटोकॉल तकनीक IPv6 को अपनाने वाला भारतीय रेल पर पहला रेलवे बना

 

वर्ष 2022 वास्तव में एक महत्वपूर्ण वर्ष रहा है, जिसमें पश्चिम रेलवे ने कई क्षेत्रों में बड़ी प्रगति की है और नई ऊंचाइयों को छूआ है। यह वर्ष विविध क्षेत्रों में विभिन्न उल्लेखनीय विकासों का साक्षी रहा है।

 

ढांचागत विकास

1. पश्चिम रेलवे मील का पत्‍थर साबित होने वाली ढांचागत परियोजनाओं की पूर्णता सहित विभिन्‍न उपलब्धियों के साथ आगे बढ़ रही है। माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द मोदी ने पश्चिम रेलवे पर निम्नलिखित परिवर्तनकारी परियोजनाओं का शिलान्यास, उद्घाटन और समर्पण किया:-

§ 9000 hp इलेक्ट्रिक लोकोमोटिव के निर्माण के लिए दाहोद में लोकोमोटिव प्रोडक्शन यूनिट की आधारशिला रखी गई। यह मेक इन इंडिया और मेक फॉर वर्ल्ड पहल की दिशा में एक बड़ा कदम है।

§ न्यू पालनपुर-मदार सेक्शन (357 किमी) डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर को राष्‍ट्र को समर्पित किया गया।

§ गेज परिवर्तित अहमदाबाद-बोटाद खंड (166 किमी) को राष्‍ट्र को समर्पित किया गया।

§ विद्युतीकृत पालनपुर-मीठा खंड (81 किमी) को राष्‍ट्र को समर्पित किया गया। 

§ पालनपुर-राधनपुर दोहरीकृत खंड (114 किमी) को राष्‍ट्र को समर्पित किया गया। 

§ नव गेज परिवर्तित साबरमती-जगुदान ब्रॉड गेज खंड (53.43 किमी) को राष्‍ट्र को समर्पित किया गया। 

§ नव गेज परिवर्तित असारवा-हिम्मतनगर -उदयपुर (299 किमी) और लुणीधार-जेतलसर (58 किमी) ब्रॉड गेज सेक्शन को राष्‍ट्र को समर्पित किया गया।

§ महेसाना-पालनपुर सेक्शन के दोहरीकरण, विजापुर-अंबलियासन, नडियाद-पेटलाड, कलोल-कड़ी-कटोसन, आदराज मोटी-विजापुर, जम्बूसर-समनी, पेटलाड-भादरण, हिम्मतनगर-खेडब्रम्हा सेक्शन के गेज परिवर्तन के लिए आधारशिला रखी गई।

§ सूरत, उधना और सोमनाथ रेलवे स्टेशनों के पुनर्विकास के लिए आधारशिला रखी गई।

§ वड़ोदरा के नायर (NAIR) कैम्‍पस में गति शक्ति विश्वविद्यालय भवन की आधारशिला रखी गई। यह आधुनिक सुविधाओं से युक्त अत्याधुनिक भवन होगा।

§ लोकोमोटिव अनुरक्षण डिपो, गांधीधाम को राष्‍ट्र को समर्पित किया गया। इस डिपो में नवीनतम 4500 hp और 6000 hp लोकोमोटिव के अनुरक्षण का कार्य किया जाता है। इस प्रकार ट्रेन परिचालन के लिए हाई पावर लोकोमोटिव की उपलब्धता में वृद्धि होगी।

 

2. माननीया कपड़ा और रेल राज्य मंत्री श्रीमती दर्शना जरदोश ने पालनपुर-उमरदशी, उंझा- भांडू मोटीदाऊ सेक्शन में नवनिर्मित रोड ओवर ब्रिज तथा पालनपुर स्टेशन पर ट्विन रोड ओवर ब्रिज (नंबर 1) और पश्चिम रेलवे के अहमदाबाद मंडल के पालनपुर यार्ड में एक पैदल यात्री सबवे का उद्घाटन किया।

 

3. माननीय केंद्रीय रेल, कोयला और खान राज्‍य मंत्री श्री रावसाहेब दादाराव पाटिल दानवे ने पिपलोद यार्ड में लेवल क्रॉसिंग नंबर 28 के स्थान पर रोड ओवर ब्रिज (आरओबी) और पिपलोद-लिमखेड़ा सेक्शन में लेवल क्रॉसिंग नंबर 32 के स्‍थान पर रोड ओवर ब्रिज और दाहोद स्टेशन पर एक नये फुट ओवर ब्रिज (एफओबी) की आधारशिला रखी।

 

● इस कैलेंडर वर्ष में पश्चिम रेलवे ने 513 किमी से अधिक नई लाइनें, गेज परिवर्तन और दोहरीकरण कार्य पूर्ण किये, जबकि 210 रूट किमी का विद्युतीकरण किया गया है।

 

● परिचालनात्‍मक बाधाओं को दूर करने से संबंधित प्रमुख ढांचागत कार्यों से ट्रेन परिचालन में गतिशीलता और संरक्षा में वृद्धि हुई है। परिचालनात्‍मक बाधाओं को सफलतापूर्वक हटाने के कारण मुंबई उपनगरीय खंड पर ट्रेनों की समयपालनता लगभग 95% है, जबकि यह मेल/एक्सप्रेस के लिए 94.49% और पैसेंजर ट्रेनों के लिए 93.72% है।

 

● मुंबई सेंटल और बोरीवली के बीच छठी लाइन का कार्य दो चरणों में किया जा रहा है अर्थात खार-बोरीवली और मुंबई सेंट्रल-खार। चरण-I के खार-गोरेगांव खंड को इस वित्तीय वर्ष 2022-23 में खोलने की योजना है।

 

● मिशन रफ्तार का लक्ष्य पैसेंजर ट्रेनों को 160 किमी प्रति घंटे की अधिकतम गति से चलाकर मुंबई-दिल्ली और वडोदरा-अहमदाबाद के व्यस्त मार्गों पर यात्रा समय को कम करना है। मुंबई-दिल्ली मार्ग के कुल 1379 किमी मार्ग में से लगभग 50% पश्चिम रेलवे के अंतर्गत आता है। पश्चिम रेलवे के लिए 3209 करोड़ रुपये का विस्‍तृत प्राक्‍कलन स्वीकृत है। इसका कार्य तेज गति से चल रहा है।

 

● मवेशियों के पटरी पर आने की घटनाएं रोकने और ट्रेनों का सुचारू संचालन सुनिश्चित करने के लिए पश्चिम रेलवे ने मुंबई-अहमदाबाद खंड पर फेंसिंग वॉल (फेंसिंग की लंबाई: 622 किमी) का निर्माण कार्य लगभग 264.42 करोड़ रुपये की लागत से शुरू किया है।

बेहतर यात्री सुख-सुविधाएं

● माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी ने गांधीनगर केपिटल और मुंबई सेंट्रल के बीच नई और उन्नत वंदे भारत एक्सप्रेस की उद्घाटक सेवा को झंडी दिखाकर रवाना किया।

वंदे भारत एक्सप्रेस का यह नया और उन्नत संस्करण यात्रियों को विश्व स्तरीय यात्रा अनुभव और उन्नत संरक्षा प्रणाली प्रदान करता है। औसतन 130% ऑक्यूपेंसी के साथ चलने वाली इस ट्रेन को यात्रियों से जबरदस्त प्रतिसाद मिल रहा है । वंदे भारत एक्सप्रेस भारत की पहली स्वदेश निर्मित सेमी-हाई स्पीड ट्रेन है।

 

● इस वर्ष शुरू की नई ट्रेनें:

§ उधना-बनारस सुपरफास्ट एक्सप्रेस

§ वलसाड-वडनगर इंटरसिटी एक्सप्रेस

§ असारवा-उदयपुर एक्सप्रेस

§ उदयपुर-असारवा एक्सप्रेस

§ लुणीधार-जेतलसर पैसेंजर

§ जेतलसर-लुणीधार पैसेंजर

● ट्रेन संख्या 12009/10 मुंबई सेंट्रल-अहमदाबाद शताब्दी एक्सप्रेस में विस्टा डोम कोच जोडे गये हैं। विस्टा डोम कोच एक बेहतर यात्रा अनुभव प्रदान करता है और इसे यात्रियों से जबरदस्त प्रतिसाद मिल रहा है।

● मुंबई-नई दिल्ली राजधानी एक्सप्रेस ने 17 मई, 1972 को अपनी पहली यात्रा के बाद से 50 शानदार वर्ष पूर्ण कर लिये हैं। इस अवसर पर एक विशेष पोस्टल कवर और एक वीआईपी एलबम जारी किया गया।

● कोविड महामारी लॉकडाउन के कारण सभी निलंबित ट्रेनों को पुन: बहाल कर दिया गया है।

● अब, सेवाओं के सामान्यीकरण के साथ पश्चिम रेलवे ने लंबी दूरी की ट्रेनों में लिनेन के प्रावधान को 100 प्रतिशत बहाल कर दिया है।

● छुट्टियों और त्योहारों के दौरान मांग में वृद्धि को पूरा करने के लिए पश्चिम रेलवे द्वारा हॉलिडे स्पेशल के 1685 फेरे चलाए गए।

● बेहतर संरक्षा और सुविधा के लिए 10 ट्रेनों के 16 आईसीएफ रेकों को एलएचबी कोचों में बदला गया।

यात्रियों की सुविधा के लिए पश्चिम रेलवे ने अपने मुंबई उपनगरीय खंड की ईएमयू सेवाओं की संख्‍या 1375 से बढ़ाकर 1383 कर दी है। इनमें से 79 एसी लोकल सेवाएं हैं जबकि 132 सेवाएं 15 कोच वाली सेवाएं हैं।

· पश्चिम रेलवे पर यात्रियों के बीच एसी लोकल सेवाओं की लोकप्रियता में जबरदस्त वृद्धि देखी गई है। पश्चिम रेलवे पर एसी लोकल से यात्रा करने वाले यात्रियों की कुल संख्या ने इस वित्तीय वर्ष के दौरान अक्टूबर, 2022 में 1 करोड़ यात्रियों का आंकड़ा पार कर लिया।

 

· अंडरस्लंग एसी ईएमयू लोकल को भी उपनगरीय सेवा में शामिल किया गया है

 

· पश्चिम रेलवे की सभी गैर वातानुकूलित लोकल ट्रेनों में अतिरिक्त महिला डिब्बे का प्रावधान किया गया है। महिला यात्रियों के लिए द्वितीय श्रेणी की 25 और सीटें निर्धारित की गई हैं। इस परिवर्तन के बाद इन ट्रेनों में महिलाओं के बैठने की क्षमता में 25.47% की वृद्धि हो गई है।

 

· पूर्व-कोविड अवधि (अप्रैल-नवंबर, 2019) की तुलना में पश्चिम रेलवे ने चालू वित्त वर्ष के दौरान नवंबर, 2022 तक मोबाइल ऐप पर यूटीएस के माध्यम से टिकटों की बिक्री में 16% की वृद्धि दर्ज की।

 

· भारतीय खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण द्वारा स्थापित दिशा-निर्देशों के अनुसार वडोदरा रेलवे स्टेशन को 09.07.2022 से “ईट राइट स्टेशन” के रूप में प्रमाणित किया गया है।

 

हंगरी फॉर कार्गो

● पश्चिम रेलवे ने वर्ष 2022-23 में नवंबर, 2022 तक 72.20 मिलियन टन का लदान हासिल किया है। यह पिछले वर्ष की इसी अवधि में हासिल किए गए 56.49 मिलियन टन लदान की तुलना में 27.7% अधिक है।

● पश्चिम रेलवे ने जुलाई, 2022 में 9.79 मिलियन टन का अब तक का सर्वश्रेष्ठ लदान किया, जो पश्चिम रेलवे के इतिहास में पहली बार पूर्व के 9.75 मिलियन टन के आंकड़े को पार करके किया गया है।

● इस वर्ष मात्र नवंबर के महीने में ही पूरे साल के लिए निर्धारित 12.31 मिलियन टन कोयला लदान के लक्ष्य को पार कर लिया गया।

● पश्चिम रेलवे ने पिछले साल के 338 दिनों की तुलना में इस वर्ष केवल 249 दिनों में माल लदान में 10000 करोड़ रुपये के राजस्व का आंकड़ा पार किया।

● पिछले वर्ष की तुलना में चालू वित्त वर्ष में नवंबर, 2022 तक विभिन्‍न वस्तुओं की लोडिंग में पर्याप्त वृद्धि हुई है, जिनमें प्रमुख हैं:- कोयला (152%), उर्वरक (19%), कंटेनर (7.1%), पीओएल (27.5%) सीमेंट (16.8%) और खाद्यान्न (65.5%)।

● पश्चिम रेलवे पर पहला गति शक्ति मल्‍टी मोडल कार्गो टर्मिनल वड़ोदरा मंडल के वरनामा में चालू किया गया।

● पीएम गति शक्ति कार्यक्रम को बढ़ावा देने के लिए पश्चिम रेलवे ने भारतीय डाक के साथ मिलकर सूरत-छपरा ताप्ती गंगा एक्सप्रेस में “रेल पोस्ट गति शक्ति कार्गो एक्सप्रेस” की पहल शुरू की है।

● इसी तरह, मुंबई-अहमदाबाद गुजरात एक्सप्रेस में “एक्सप्रेस कार्गो सेवा” शुरू की गई है।

● गुजरात में वापी के पास करमबेली गुड्स टर्मिनल से पानीपत (हरियाणा) तक लंबी दूरी के गैर एनएफआर घरेलू कंटेनर यातायात की शुरुआत हुई।

 

संरक्षा: हमारी सर्वोच्‍च प्राथमिकता

● बुनियादी ढांचे को मजबूत करने तथा संरक्षा और गतिशीलता बढ़ाने के लिए 12 आरओबी, 27 आरयूबी का काम पूरा किया गया, जबकि 8 एफओबी चालू कर दिये गये हैं। साथ ही 60 मानवयुक्त समपारों को इस वर्ष नवंबर, 2022 तक समाप्त कर दिया गया है।

● वर्ष 2022 के दौरान 38 एस्केलेटर और 25 लिफ्ट भी चालू किए गए हैं।

● एक 4.4 मीटर चौड़ा और 314 मीटर लंबा एक स्काईवॉक कमीशन किया गया है जो मुंबई उपनगरीय रेलवे नेटवर्क पर बांद्रा टर्मिनस को खार रोड स्टेशन से सीधे जोड़ता है। यह नया स्काईवॉक बाहरी यात्रियों के लिए एक बड़ी सुविधा है क्योंकि वे खार रोड स्टेशन पर उतरकर खार साउथ एफओबी से बांद्रा टर्मिनस के किसी भी प्लेटफॉर्म पर पहुंच सकते हैं, जो उसी स्काईवॉक से जुड़ा हुआ है।

● भायंदर स्टेशन पर अपनी तरह का पहला स्टेनलेस स्टील एफओबी कमीशन किया गया।

 

मानसून की तैयारी

● पश्चिम रेलवे ने उपनगरीय खंड में मानसून से संबंधित विभिन्न महत्वपूर्ण कार्यों को मिशन मोड में सावधानीपूर्वक नियोजित और क्रियान्वित किया ताकि भारी बारिश के दौरान भी पटरियों पर बाढ़ को रोका जा सके और ट्रेनों के सुचारू एवं सुगम संचालन को संभव बनाया जा सके।

● पटरियों पर पानी भरने की समस्या से निपटने के लिए अनुकूलित समाधान तैयार किए गए थे। नवीनतम मशीनरी के साथ-साथ प्रौद्योगिकी का उपयोग किया गया था, जैसे कि माइक्रो- टनलिंग विधि, अतिरिक्त भूमिगत जलमार्गों का निर्माण, उच्च शक्ति वाले पंपों की स्थापना सहित ड्रोन सर्वेक्षण करना, पुलिया, नालियों और नालों की सफाई और डी-सिल्टिंग, मक स्पेशल चलाना आदि।

● इन निरंतर प्रयासों के फलस्‍वरूप पश्चिम रेलवे ने मानसून के दौरान भारी वर्षा के बावजूद सामान्य और व्यवधान मुक्त सेवाओं के साथ निर्बाध कनेक्टिविटी सुनिश्चित की ।

 

सुरक्षा उपायों को और मजबूत किया गया

● पश्चिम रेलवे में आरपीएफ की 73 मानव तस्‍करी निरोधक टीमों का गठन किया गया।

● पश्चिम रेलवे के आरपीएफ जवानों की सतर्कता और साहसिक कार्यों से 46 लोगों की अनमोल जानें बचाई जा सकी हैं।

● ऑपरेशन नन्हे फरिश्‍ते के अंतर्गत इस वर्ष 965 से अधिक घर से भागे हुए/लापता बच्चों को बचाया गया और उन्‍हें उनके परिवार से फिर से मिलाया गया।

● ऑपरेशन अमानत के तहत, वर्ष 2022 ( 28 दिसंबर तक) के दौरान आरपीएफ ने 2577 यात्रियों के 5.27 करोड़ रुपये से अधिक मूल्य के छूटे हुए सामान को बरामद किया और उचित सत्यापन के बाद उन्हें वापस कर दिया गया।

● ऑपरेशन यात्री सुरक्षा के तहत, वर्ष 2022 के दौरान सुरक्षा संबंधी 130 से अधिक शिकायतें प्राप्त हुई और उनके समाधान के लिए उचित आवश्यक कार्रवाई की गई।

● सुरक्षा और भीड़ प्रबंधन में सुधार के लिए पश्चिम रेलवे के 64 स्टेशनों पर सीसीटीवी लगे हैं।

डिजिटल पहल

● पश्चिम रेलवे आईपीवी4 की पिछली तकनीक से माइग्रेट करके, संचार और आईटी में नवीनतम इंटरनेट प्रोटोकॉल प्रौद्योगिकी आईपीवी6 को अपनाने वाली भारतीय रेलवे पर पहली रेलवे है।

● पायलट प्रोजेक्ट के अंतर्गत अहमदाबाद मंडल ने IREPS प्लेटफॉर्म के माध्यम से ई-नीलामी शुरू की है।

 

स्वास्थ्य सेवा क्षेत्र में उपलब्धियां

● पश्चिम रेलवे के चिकित्सा विभाग ने रोगियों की अत्यधिक देखभाल और उन्‍हें चिकित्सा उपचार प्रदान करने में अपनी क्षमता साबित की है।

● जगजीवन राम अस्पताल में नेत्र विज्ञान विभाग ने एक उन्नत प्रक्रिया का उपयोग करके सफलतापूर्वक कॉर्नियल प्रत्यारोपण किया, जिसके परिणामस्वरूप रोगी की दृष्टि तेजी से ठीक हो गई। ऐसी क्रिया भारतीय रेलवे में पहली बार की गई।

● इसी तरह जगजीवन राम अस्पताल में कार्डियोलॉजी विभाग ने रोटाट्रिप्सी प्रक्रिया का सफलतापूर्वक संचालन किया, जो भारतीय रेलवे में एक और पहली प्रक्रिया है।

 

हरित पहल

● वायु और ध्वनि प्रदूषण स्तर की निगरानी के लिए पर्यावरण निगरानी प्रणाली स्थापित करने वाला पहला रेलवे स्टेशन अहमदाबाद रेलवे स्‍टेशन बना।

 

● इलेक्ट्रिक वाहन (ईवी) चार्जिंग स्टेशन अहमदाबाद स्टेशन पर स्थापित किया गया है जो हरित गतिशीलता की एक अनूठी अवधारणा है।

 

● विरार कारशेड में पूरी तरह से स्वचालित मैकेनाइज्ड ऑर्गेनिक वेस्ट मशीन (250 किलोग्राम की क्षमता) स्थापित की गई

 

● वड़ोदरा रेलवे स्टेशन पर SCADA आधारित स्वचालित क्विक वाटरिंग पम्पिंग सिस्टम स्थापित किया गया है

 

● राम मंदिर स्टेशन, बोरीवली स्टेशन, भायंदर में आरपीएफ बैरक, भावनगर कारखाना और भावनगर परा स्थित रेल संग्रहालय में मियावाकी फॉरेस्‍ट विकसित किये गये हैं।

सामग्री प्रबंधन की उपलब्धियां

● मिशन जीरो स्क्रैप के तहत, पश्चिम रेलवे ने 384.36 करोड़ की स्क्रैप बिक्री हासिल की है, जो पिछले वर्ष के दिसंबर के अंत तक की बिक्री के आंकड़े 342.52 करोड़ से 12.22% अधिक है।

 

पुरस्कार और प्रशंसा

● 67वें राष्ट्रीय रेलवे पुरस्कार, 2022 में पश्चिम रेलवे ने निम्‍नलिखित चार रेलवे बोर्ड दक्षता प्रदर्शन शील्डें जीतीं और 4 अधिकारियों/कर्मचारियों को व्यक्तिगत पुरस्कार से सम्‍मानित किया गया।

-लेवल क्रॉसिंग और रोड ओवर/अंडर ब्रिज सेफ्टी वर्क्स शील्ड

-संरक्षा शील्‍डसि

– सिवि इंजीनियरिंग शील्ड

-भंडार शील्ड

● मंडल रेलवे अस्पताल, प्रतापनगर (वडोदरा मंडल) को राष्ट्रीय ऊर्जा संरक्षण पुरस्कार (एनईसीए)-2022 के भवन श्रेणी/सरकारी भवन क्षेत्र के अंतर्गत वर्ष 2022 के दौरान सर्वश्रेष्ठ ऊर्जा प्रबंधन प्रयासों के लिए ऊर्जा संरक्षण दिवस पर प्रतिष्ठित ‘सर्टिफिकेट ऑफ मेरिट’ प्रदान किया गया।

 

● पश्चिम रेलवे की लोकप्रिय गृह पत्रिका “रेल दर्पण” ने देश के प्रमुख साहित्यिक, सांस्कृतिक और सामाजिक संगठन ‘आशीर्वाद’ के 30वें वार्षिक राजभाषा पुरस्‍कार समारोह में अपनी रचनात्मकता एवं उत्कृष्टता के लिए सर्वश्रेष्ठ गृह पत्रिका का पुरस्कार जीता।

जनसंपर्क के क्षेत्र में दर्ज की गई उपलब्धियां

फिल्म शूटिंग क्षेत्र में उपलब्धि

· पश्चिम रेलवे ने फिल्म शूटिंग के लिए अपने विभिन्न परिसरों और रेल डिब्बों को उपलब्‍ध कराकर वर्ष 2022 में 1.52 करोड़ रुपये का राजस्‍व अर्जित किया।

सोशल मीडिया में उपलब्धियां

· पश्चिम रेलवे के सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म सभी उपयोगी और यात्री मित्रवत सूचनाओं को समय पर और वास्तविक समय के आधार पर प्रसारित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं।

· सभी जोनों में सर्वाधिक ट्विटर और फेसबुक के फॉलोअर

o ट्विटर पर 586 हजार से अधिक फॉलोअर हैं।

o फेसबुक पर 1.2 मिलियन से अधिक फॉलोअर हैं।

● इन दोनों प्लेटफॉर्मों पर प्राप्‍त होने वाले इंप्रेशन ने नई ऊंचाइयों को छुआ है।

o ट्विटर पर इंप्रेशन ने 10 मिलियन का आंकड़ा पार कर लिया।

o फेसबुक पर इंप्रेशन ने 8 मिलियन का आंकड़ा पार कर लिया।

● पश्चिम रेलवे ने इस वर्ष KOO और इंस्टाग्राम पर भी तेज़ी से कदम बढाए हैं।

o पश्चिम रेलवे ने इंस्टाग्राम पर नई कन्‍टेंट श्रेणियां शुरू की जिन्हें जनता से जबरदस्त और सकारात्मक प्रतिसाद मिला।

o पश्चिम रेलवे ने Instagram पर 50 हजार फ़ॉलोअर और साथ ही 1.4 मिलियन से अधिक इंप्रेशन को पार कर लिया है।

खेलकूद को बढ़ावा

● पश्चिम रेलवे के प्रतिभाशाली खिलाड़ियों ने हमेशा हमारे देश और भारतीय रेलवे का नाम रोशन किया है।

● बर्मिंघम में आयोजित कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 में हमारी दो कर्मचारी सुश्री राजेश्वरी गायकवाड़ भारतीय महिला क्रिकेट टीम का हिस्सा थीं जिसने रजत पदक जीता जबकि सुश्री नवनीत कौर कांस्य पदक जीतने वाली महिला हॉकी टीम का हिस्सा थीं।

● सुश्री रुचिता विनरकर उस भारतीय महिला टीम का हिस्सा थीं जिसने आईएसएसएफ विश्व कप में एयर पिस्टल टीम महिला स्पर्धा में स्वर्ण पदक जीता।

● सुश्री के. अश्विनी भारतीय रेलवे महिला वॉलीबॉल टीम की सदस्य थीं जिसने 35वीं फेडरेशन कप वॉलीबॉल चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक जीता।

image_pdfimage_print


सम्बंधित लेख
 

Get in Touch

Back to Top