ताजा सामाचार

आप यहाँ है :

अखिल भारतीय ब्राह्मण परिवार ने उठाई ब्राह्मणों की आवाज़

अखिल भारतीय ब्राह्मण परिवार (रजिस्टर्ड) ने आगरा में स्थापना दिवस मनाया। इस अवसर पर राष्ट्रीय अधिवेशन के रूप में स्वाभिमान समारोह का आयोजन रुनकता में किया गया। सम्मेलन में देश भर से 18 प्रदेशों के प्रतिनिधियों ने भाग लिया।

कार्यक्रम का शुभारंभ सीमा उपाध्याय, महेश शर्मा, निर्मला दीक्षित, अमित त्रिवेदी और अन्य गणमान्य अतिथियों ने मां सरस्वती के समक्ष दीप प्रज्वलित करके किया। बीना शर्मा ने सरस्वती वंदना प्रस्तुत की। इसके बाद गोपाल गौड़ ने परशुराम स्रोत का स्तुति वादन किया।

राष्ट्रीय अध्यक्ष और संस्थापक श्याम किशोर दीक्षित ने अतिथियों का अभिवादन किया और कार्यक्रम के उद्देश्य के बारे में जानकारी दी। उन्होंने कहा कि अखिल भारतीय ब्राह्मण परिवार बहुत तेजी से 18 प्रदेशों में ब्राह्मण समाज के मान सम्मान के लिए अग्रसर है। समाज का मनोबल बढ़ाने और अपनी संस्कृति की धरोहर को नई पीढ़ी तक पहुंचाने के लिए कार्य किया जा रहा है। आरक्षण, समान आयोग की स्थापना जैसे मुद्दों को लेकर कार्यक्रम में चर्चा की गई।

कार्यक्रम का संचालन महिला मोर्चा की जिला अध्यक्ष भावना वरदान शर्मा ने किया। उन्होंने कहा कि सभी क्षेत्रों में ब्राह्मण महिलाओं का वर्चस्व रहा है, लेकिन अभी भी देश के कुछ भाग ऐसे हैं, जहां महिलाओं को आगे बढ़ने नहीं दिया जाता है। महिलाओं को संगठित होने और अपने सांस्कृतिक मूल्यों को बचाकर ब्राह्मणों का प्रतिनिधित्व करने की आवश्यकता है।

सीमा उपाध्याय ने कहा कि ब्राह्मणों को संगठित होने की आवश्यकता है। उन्होंने ‘हम सब एक हैं’ का नारा दिया। उन्होंने कहा कि ब्राह्मणों को मिलकर अपनी संस्कृति को बचाना होगा और अपने-अपने प्रतिनिधियों को आगे बढ़ाने में मदद करनी होगी सामाजिक, राजनैतिक क्षेत्र में ब्राह्मणों का आगे आना बहुत आवश्यक है।

निर्मला दीक्षित ने कहा कि हम सबको एक साथ मिलकर लक्ष्य की ओर आगे बढ़ना होगा। महिलाओं की भागीदारी के बिना कोई भी समुदाय आगे नहीं बढ़ सकता, इसलिए ब्राह्मणों समुदाय को अपने समाज की महिलाओं को आगे बढ़ाना चाहिए और उन्हें निर्णयात्मक पद देने चाहिए। महेश शर्मा ने कहा कि प्राचीन समय से ही ब्राह्मणों का स्थान शिक्षक के साथ ही समाज को मार्गदर्शन देने का रहा है लेकिन इस समय ब्राह्मणों की स्थिति कमजोर है। ब्राह्मणों को परिवारों को शिक्षित करना चाहिए और अपने कर्तव्य को करना चाहिए, तभी ब्राह्मणों को उनका पुराना स्थान मिलेगा।

अमित त्रिवेदी ने कहा कि भारतीय समाज ब्राह्मणों के बिना अधूरा है। अर्थव्यवस्था और धर्म व्यवस्था आदि में ब्राह्मण महत्वपूर्ण स्थान रखते हैं। हर क्षेत्र में ब्राह्मणों का उच्च पदों पर होना बताता है कि वह समाज के मार्गदर्शक हैं और देश को आगे बढ़ाने में उनका योगदान रहा है। कार्यक्रम में मेधावी छात्रों का भी सम्मान किया गया। कार्यक्रम में जिला अध्यक्ष मनीष शर्मा, मथुरा से दीपक गौड़,राजकुमार शर्मा, सुनील पुरोहित, उर्मिला त्रिपाठी, राजेंद्र मिश्रा, अमित त्रिवेदी, सुनीता सारस्वत, मधु पांडे, गुंजन शर्मा, शैलेंद्र शर्मा, शंभू नाथ चौबे, सचिन शर्मा, राघव लवानिया समेत देश भर के कई शहरों से अतिथि उपस्थित थे।

image_pdfimage_print


सम्बंधित लेख
 

Back to Top