आप यहाँ है :

ग्रामीण क्षेत्र के पत्रकारों के लिए अवॉर्ड की घोषणा

दिल्ली स्थित एनजीओ ‘चरखा विकास संचार नेटवर्क’ ने ‘संजॉय घोष मीडिया अवार्ड्स 2019’ की घोषणा की है। इन अवॉर्ड्स के तहत उन पत्रकारों/लेखकों को मंच प्रदान किया जाएगा, जो ग्रामीण क्षेत्रों की महिलाओं में छिपी ऐसी प्रतिभाओं को उजागर करने का हौसला रखते हैं, जो मीडिया की नजरों से अब तक दूर रही है। इसके तहत कुल पांच महीनों के लिए पांच प्रतिभागियों को पचास-पचास हजार रुपए दिए जाएंगे।

प्रतिभागियों को देश के दूरदराज और दुर्गम क्षेत्रों में रहने वाली महिलाओं को प्रगति की मुख्यधारा में लाने के लिए गहरे शोध, ग्रामीण क्षेत्रों के दौरे और समस्याओं पर बेहतर लेखन करते हुए उनकी आत्मनिर्भरता को प्रमुखता से उजागर करना होगा।

यह अवार्ड चरखा के संस्थापक संजॉय घोष के जज्बे से प्रेरित है, जिसमें उन्होंने मीडिया के रचनात्मक उपयोग के माध्यम से ग्रामीण हाशिए के समुदायों के सामाजिक और आर्थिक समावेश की दिशा में महत्वपूर्ण योगदान दिया है। लेखकों को ग्रामीण विशेषकर वंचित समुदायों की महिलाओं के सामने आने वाली चुनौतियों का सामना करने और विकास की स्थिति को प्रतिबिंबित करने का अवसर प्रदान किया जायेगा। शिक्षा में लैंगिक असमानता और महिला के विरुद्ध क्रूरता विषय के तहत दो-दो जबकि ग्रामीण भारत में मातृ स्वास्थ्य देखभाल विषय पर एक अवॉर्ड दिया जाएगा।

इस अवॉर्ड का उद्देश्य क्षेत्रीय भाषा के प्रकाशनों, छोटे शहरों के पत्रकारों और लेखन में रुचि रखने वाले आवेदकों को आवेदन करने के लिए प्रोत्साहित करना है। महिला पत्रकार भी इसके लिए आवेदन कर सकती हैं। आवेदकों को सामाजिक रूप से पिछड़े लोगों के विकास की चिंताओं के लिए प्रतिबद्धता का प्रदर्शन करते हुए आलेख अथवा कार्य प्रस्तुत करने होंगे। चरखा के सभी पूर्व एवं वर्तमान प्रशिक्षित लेखक भी आवेदन कर सकते हैं। उम्मीदवारों को सामाजिक मुद्दों पर आधारित अपने प्रकाशित आलेख प्रस्तुत करने होंगे। वहीं, चरखा के पूर्व फेलो तथा ऐसे लेखक जो किसी अन्य फेलोशिप का लाभ उठा रहे हैं अथवा वित्तीय सहायता प्राप्त कर रहे हैं, इसके पात्र नहीं हैं।

इन अवॉर्ड्स के लिए आवेदन अंग्रेजी या हिंदी भाषा में प्रस्तुत किए जा सकते हैं। आवेदकों को आवेदन के साथ पिछले तीन वर्षों के कार्य अनुभव, शैक्षणिक योग्यता और पूर्व में प्राप्त पुरस्कार तथा फेलोशिप के विवरण के साथ अपना संक्षिप्त विवरण देना होगा। विषयगत क्षेत्र को रेखांकित करते हुए लगभग 800 शब्दों का एक प्रस्ताव देना होगा, जिसमें आवेदक काम करना चाहेगा। इसमें अध्ययन की विशिष्ट भौगोलिक स्थिति, कार्यप्रणाली, चयनित विषय की प्रासंगिकता के साथ-साथ देश में विकास की बड़ी बहस के लिए योगदान के बारे में विवरण शामिल होना चाहिए।

लेख अंग्रेजी, हिंदी या उर्दू में भेजे जा सकते हैं। आवेदन के साथ 2 प्रकाशित लेखों (पिछले दो महीने के दौरान प्रकाशित) की क्लिपिंग भेजान जरूरी है। एक प्रकाशित आलेख आवेदक की पसंद का भी सम्मिलित किया जा सकता है। संपर्क विवरण के साथ दो संदर्भ सहित आवेदन के अनुमोदन के लिए संपादक/संगठन प्रमुख का अनुशंसा पत्र भी भेजना होगा। स्वतंत्र पत्रकारों को अपने काम से परिचित किसी मीडिया संस्थान के संपादक या विशिष्ट मीडिया हस्तियों से सिफारिश के दो पत्र शामिल करने होंगे।

आवेदन टाइप किए होने चाहिए। हस्तलिखित अथवा अधूरे आवेदनों पर विचार नहीं किया जाएगा। इस बारे में अधिक जानकारी www.charkha.org पर उपलब्ध है। आवेदन पत्र [email protected] पर ईमेल द्वारा भेजे जा सकते हैं। विषय में ‘संजॉय घोष मीडिया अवार्ड-2019 के लिए आवेदन’ लिखना अनिवार्य है। विस्तृत जानकारी के लिए संस्था के मुख्य कार्यकारी मारियो नोरोन्हा के मोबाइल 07042293792 पर संपर्क किया जा सकता है। आवेदन भेजने की अंतिम तिथि 5 दिसंबर 2019 होगी। परिणाम 15 दिसंबर 2019 तक घोषित किए जाएंगे

image_pdfimage_print


सम्बंधित लेख
 

Back to Top