ताजा सामाचार

आप यहाँ है :

एक और विदेशी कंपनी लुभाएगी भारतीय ग्राहकों को

अगर मुंबई में रहते हैं और पति-पत्नी दोनों के पास इतना समय नहीं होता है कि आप नवी मुंबई में खुलने वाले आइकिया के मेगा स्टोर जाकर अपने घर के लिए सजावट के सामान या फर्नीचर खरीद सकें, तो चिंतित होने की जरूरत नहीं है। स्वीडन की दिग्गज कंपनी आइकिया जल्द ही आपके आसपास ही स्टोर खोलने जा रही है।

कंपनी ने भारत तथा वैश्विक स्तर पर अपनी रणनीति में व्यापक बदलाव किया है और अब शहरों में पांच से छह छोटे आकार के स्टोर खोलने की तैयारी कर रही है। हालांकि इन छोटे स्टोरों में उत्पादों और सेवाओं का दायरा सीमित होगा। ऐसे स्टोर 50 हजार से 1.5 लाख वर्गफुट के होंगे, जबकि कंपनी के प्रमुख स्टोर आम तौर पर 5 लाख वर्ग फुट के होते हैं। नवी मुंबई का स्टोर 4 लाख वर्ग फुट से ज्यादा बड़ा होगा।

अगर यह प्रयोग सफल रहता है तो कंपनी साल के अंत तक दूसरे शहरों में भी छोटे प्रारूप के स्टोर खोल सकती है। इन स्टोरों में फर्निशिंग, लाइटिंग और किचन से जुड़े उत्पाद होंगे, वहीं कुछ फर्नीचर आदि भी वहां रखे जा सकते हैं। ग्राहकों के पास स्टोर में विशेषज्ञों से बातचीत कर सामान की ऑनलाइन बुकिंग का भी विकल्प होगा। आइकिया मुंबई से अपनी ऑनलाइन सेवाओं और होम डिलिवरी के विस्तार की शुरुआत करेगी। इन उत्पादों की आपूर्ति हैदराबाद या पुणे के वितरण केंद्र से की जाएगी। आइकिया हैदराबाद और पुणे में भी ऑनलाइन सेवा शुरू करेगी।

आइकिया के प्रवक्ता ने कहा, ‘मुंबई में स्टोर खोलने से पहले आइकिया ने व्यापक अध्ययन किया है।’ कंपनी ने पहले देश भर में एक दशक में बड़े आकार के 25 स्टोर खोलने की योजना बनाई थी लेकिन अब रणनीति में बदलाव के तहत वह अगले 10 साल में 49 स्टोर खोलने की संभावना देख रही है।

दिलचस्प है कि हैदराबाद में अपने पहले स्टोर का परिचालन शुरू करने के एक साल के अंदर ही कंपनी ने अपनी रणनीति में बदलाव करने का निर्णय किया है। विशेषज्ञों का कहना है कि अर्बन लैडर और पेपरफ्राई जैसे ऑनलाइन स्टोरों से बढ़ती प्रतिस्पद्र्घा और शहर से बाहर खरीदारी करने के लिए लोगों के पास समय नहीं होना, कंपनी की रणनीति में बदलाव की एक अहम वजह है।
इसके साथ ही कंपनी को लैंडमार्क के होम सेंटर, फ्यूचर समूह के होम टाउन और गोदरेज आदि से भी कड़ी टक्कर मिल रही है। रिटेल सलाहकार फर्म टेक्नोपैक के चेयरमैन अरविंद सिंघल ने कहा कि आइकिया जैसे बड़े स्टोर बनाने में वर्षों लग जाते हैं और इसके लिए काफी स्पेस की भी जरूरत होती है।

सिंघल ने कहा, ‘आइकिया खास तौर पर तेजी से बढ़ रहे युवा वर्ग के खरीदारों को आकर्षित करना चाह रही है।’ हालांकि आइकिया तीन साल में भारत में 10 करोड़ लोगों तक पहुंच बनाने के अपने पहले के लक्ष्य पर कायम है।

साभार- बिज़नेस स्टैंडर्ड से

image_pdfimage_print


सम्बंधित लेख
 

Back to Top