ताजा सामाचार

आप यहाँ है :

ब्रजवीर सिंह
 

  • रूमानियत और मधुर प्रेम की जो दुनियाः अभी तुम इश्क़ में हो

    रूमानियत और मधुर प्रेम की जो दुनियाः अभी तुम इश्क़ में हो

    "अकाल में उत्सव" "ये वो सहर तो नहीं" जैसे सामाजिक सरोकारों पर आधारित उपन्यास लिखने वाले पंकज सुबीर जी "कितने घायल कितने बिस्मिल" "रेपिश्क" जैसी देह के इस पार और उस पार गहरे अहसासों को खंगालती कहानियाँ लिखने वाले पंकज सुबीर "कसाब एट द रेट ऑफ यरवदा डॉट को डॉट इन" जैसी आतंकवाद की जड़ों को ढूंढती कहानी लिखने वाले पंकज सुबीर जब एक नई किताब लेकर आते हैं जिसका नाम हो "अभी तुम इश्क. में हो" तो हैरानी और जिज्ञासा एक साथ होती है,कि क्या लिखा होगा ? ज्यादा आश्चर्य जब होता है जब बुक हाथ में लेने पर मालूम होता है कि

Back to Top