आप यहाँ है :

दिनेश मालवीय, भोपाल से
 

  • मध्यप्रदेश में समृद्ध शैव परम्परा

    मध्यप्रदेश में समृद्ध शैव परम्परा

    भारत का हृदयस्थल आधुनिक मध्यप्रदेश जिस भू-भाग में स्थित है, उसमें युगों-युगों से बहुत ही समृद्ध शैव परम्परा रही है। यह आज भी पहले जैसी ही जीवंत है। कुल 12 ज्योतिर्लिंगों में से 2- श्री महाकालेश्वर और श्री ओंकारेश्वर यहीं स्थित हैं। यह समृद्ध शैव परम्परा प्रदेश के सभी भागों में प्रचलित रही है, जिसके प्रमाण बड़ी संख्या में स्थित शिव मंदिरों, शिव के विभिन्न स्वरूपों को अभिव्यक्त करने वाली मूर्तियों और भग्नावशेषों में मिलते हैं।

  • हिन्दी को लेकर गलत धारणा दूर करने की जरूरत

    हिन्दी को लेकर गलत धारणा दूर करने की जरूरत

    सांसद श्री सत्यव्रत चतुर्वेदी की अध्यक्षता में 'विदेश नीति में हिन्दी' विषय पर आज दूसरे दिन संयुक्त राष्ट्र संघ में अवर महासचिव श्री अतुल खरे और श्री सत्यव्रत चतुर्वेदी ने विचार व्यक्त किये।

  • “गिरमिटिया देशों में हिन्‍दी पर समानांतर सत्र

    “गिरमिटिया देशों में हिन्‍दी पर समानांतर सत्र

    दसवें विश्व हिन्दी सम्मेलन के पहले दिन रोनाल्ड स्टुअर्ट मेक्ग्रेगर सभागार में 'गिरमिटिया देशों में हिन्‍दी'' विषय पर समान्तर सत्र में इन देशों में हिन्‍दी के विकास और इससे जुड़े विषयों पर विचार-विमर्श हुआ।

    • By: दिनेश मालवीय, भोपाल से
    •  ─ 
    • In: विशेष

Get in Touch

Back to Top