आप यहाँ है :

निर्मल कुमार पाटोदी
 

  • मोदीजी देश के माथे से ये इंडिया की गुलामी कब दूर होगी?

    माननीय सर्वोच्च न्यायालय के समक्ष प्रस्तुत याचिका क्रमांक WPWIVIL/203/2015 में यह निराकरण चाहा गया था कि भारतीय संविधान के अनुच्छेद ३२ के अंतर्गत संविधान में संशोधन कर 'इण्डिया' शब्द को हटाकर सिर्फ 'भारत' रखा जाएँ।

  • हिंदी के साहित्यकार कब आत्मचिंतन करेंगे ?

    यह भी अज्ञात लगता है कि कितने ऐसे हिंदी में लिखने वाले साहित्यकार है, जिनकी आजीविका साहित्य प्रकाशन से चलती है ? ऊपर प्रस्तुत जिज्ञासा का प्रमाणिक समाधान कैसे,

  • भारत का नाम केवल भारत हो, गुलामी का प्रतीक इंडिया शब्द हटाएँ

    भारत का नाम केवल भारत हो, गुलामी का प्रतीक इंडिया शब्द हटाएँ

    माननीय सर्वोच्च न्यायालय के समक्ष प्रस्तुत याचिका क्रमांक WPWIVIL/203/2015 में यह निराकरण चाहा गया था कि भारतीय संविधान के अनुच्छेद ३२ के अंतर्गत संविधान में संशोधन कर 'इण्डिया' शब्द को हटाकर सिर्फ 'भारत' रखा जाए। याचिका की सुनवाई तीन सदस्यीय खण्डपीठ जिसमें माननीय मुख्य न्यायाधीश एस ए बोबड़े,न्यायमूर्ति ए. एस.बोपन्ना और न्याय मूर्ति ऋषिकेश राय की खण्डपीठ के समक्ष हुई।

Back to Top