आप यहाँ है :

संजीव मुखर्जी
 

  • ओडिशा: किसानों की बदली किस्मत

    किसी एफपीओ को चलाने में सबसे बड़ी दिक्कत वित्तीय संस्थानों से ऋण प्राप्त करना है। लेकिन अपने अच्छे प्रदर्शन की वजह से दोनों एफपीओ अपने एक साल के परिचालन के दौरान ही समुन्नति और नबकिशन जैसी एनबीएफसी से 75 लाख रुपये का ऋण हासिल करने में सफल रहे।

Back to Top