आप यहाँ है :

उपभोक्ता मंच
 

  • सब-कुछ है मेरे देश में, गरीब को इलाज नहीं तो क्या

    सब-कुछ है मेरे देश में, गरीब को इलाज नहीं तो क्या

    बागपत की सुनीता कुमारी (बदला हुआ नाम) के लिए राजधानी का जीबी पंत अस्पताल एक जानी-पहचानी जगह बन चुका है। अपनी बहन के हृदय रोग का इलाज कराने के लिए वह पश्चिमी उत्तर प्रदेश स्थित अपने घर से अस्पताल पहुंचने के लिए महीने में दो बार करीब 50 किलोमीटर की यात्रा करती है। पिछले तीन सालों से यह उनका नियमित कार्य रहा है। अपने घर के करीब प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों पर गुणवत्तापूर्ण सेवा पाने के लिए कई महीनों के प्रयास में असफल रहने के बाद सुनीता ने दिल्ली के इस अस्पताल के डॉक्टरों से परामर्श करने का फैसला किया था। डॉक्टरों ने सुनीता को बताया कि उसे दिल्ली के अपने इन दौरों को अनिश्चितकाल तक जारी रखना होगा। सुनीता की तरह छोटे शहरों और गांवों के सैैकड़ों-हजारों मरीज उचित सुविधाएं तलाशने के लिए शहरों की यात्रा करते हैं।

  • 20 जनवरी से बैंकों में अब ज्यादा जेब कटेगी

    20 जनवरी से बैंकों में अब ज्यादा जेब कटेगी

    "सड़क पर चलते हुए ध्यान रखें। किसी बैंक के सामने से गुजरने पर भी आप पर चार्ज लगाया जा सकता है।" कुछ महीने पहले तक भेजे गए इस तरह के संदेश वाकई सच होते नजर आ रहे हैं। 20 जनवरी से किसी बैंक शाखा में जाना आपको भारी पड़ सकता है।

  • रेल मंत्री ने सांसदों से कहा,  रेल में चोरी हो तो रेल्वे जिम्मेदार नहीं, राज्य का पुलिस जिम्मेदार

    रेल मंत्री ने सांसदों से कहा, रेल में चोरी हो तो रेल्वे जिम्मेदार नहीं, राज्य का पुलिस जिम्मेदार

    राज्यसभा में शुक्रवार को दो महिला सांसदों ने रेल गाड़ियों में चोरी की घटनाओं में हो रहे इजाफे का जिक्र करते हुए खुद उनका सामान भी चोरी होने का मामला उठाया। सांसदों का कहना था कि जब चोरों की नजर से सांसदों का सामान नहीं बच रहा है तो आम रेल यात्री के साथ क्या होता होगा, इसकी सहज कल्पना की जा सकती है। प्रश्नकाल के दौरान माकपा की झरना दास ने रेल मंत्री पीयूष गोयल से पूरक प्रश्न पूछते हुए कहा कि वह राजधानी ट्रेन के प्रथम श्रेणी कोच में दिल्ली से कोलकाता जा रही थीं। रास्ते में उनका सामान चोरी कर लिया गया। उन्होंने कोलकाता जाकर इसकी रिपोर्ट लिखवाई। इसके बाद ही वह त्रिपुरा गईं। उन्होंने कहा कि रिपोर्ट दर्ज कराने के बावजूद अब तक सामान का कोई सुराग नहीं लगा।

  • बैंको ने आपके खातों से लूट लिए 2,320.96 करोड़ रुपये

    बैंको ने आपके खातों से लूट लिए 2,320.96 करोड़ रुपये

    द इंडियन एक्सप्रेस ने ख़ुलासा किया है कि बैंकों में जमा आपका पैसा बैंक वाले जेबकट की तरह काट रहे हैं और आपको इसकी भनक तक नहीं है। इसमें बताया है कि सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों ने 2017 में अप्रैल से नवंबर के बीच ही खातों में मिनिमम बैलेंस न रखने वालों से 2,320.96 करोड़ रुपए वसूले हैं. मजे की बात ये है कि ये आँकड़े खुद वित्त मंत्रालय ने ही जारी किए हैं।

  • अमीर आयुर्वेद व गरीब ऐलोपैथ में अंतर!!

    (विषय को समझाने के लिए लेख थोड़ा लम्बा हो गया है, लेकिन जनहित में यह निश्चित रूप से कारगर है, अवश्य पढ़ें व अधिक से अधिक लोगों में प्रसारित करें!) यह शीर्षक पढ़कर कई लोग सोच रहें होंगे यह क्या बात लिख दी गई है!! लेकिन वर्तमान समय की यही सबसे बड़ी सच्चाई है कि औषध चिकित्सा के मामले में ऐलोपैथ बिल्कुल असहाय, निरीह व गरीब सा नज़र आ रहा है, वहीँ आयुर्वेद अपने प्राकृतिक सिद्धांतो के कारण प्रभावकारी, समृद्ध व अमीर सा नज़र आता है।

  • किराया कम करेंगे रेल मंत्री पीयूष गोयल

    किराया कम करेंगे रेल मंत्री पीयूष गोयल

    रेल यात्रियों के लिए जल्द ही शताब्दी, राजधानी और दुरंतो जैसी प्रीमियम ट्रेनों के टिकट सस्ते हो सकते हैं. रेल मंत्री पीयूष गोयल ने एक इंटरव्यू में यह बात कही है. हिंदुस्तान टाइम्स के मुताबिक पीयूष गोयल ने कहा कि ऑफ-सीजन या ट्रेन के सभी टिकट नहीं बिकने की सूरत में टिकटों के दाम कम किए जाएंगे. रेल मंत्री ने मौजूदा फ्लेक्सी-फेयर सिस्टम की समीक्षा की बात भी कही है. बुधवार को दिए इंटरव्यू में उन्होंने कहा, ‘फ्लेक्सी-फेयर सिस्टम की समीक्षा की जा रही है. केवल एक फ्लेक्सी-फेयर सिस्टम की जगह हम डायनेमिक फेयर सिस्टम रख सकते हैं. ऑफ सीजन में और जब भी ट्रेनों के सभी टिकट न बिके हों तो हम किराये में रियायत दे सकते हैं.’

  • ऑनलाइन देखे सकतें हैं हर ब्रांड की दवा की कीमत

    भोपाल। देश भर में बनने वाली हर तरह की दवा की कीमत आप ऑनलाइन देख सकते हैं। नेशनल फार्मास्युटिकल प्राइजिंग अथारिटी (एनपीपीए) ने अपने पोर्टल पर यह सुविधा शुरू की है। इसके लिए सिर्फ दवा का जेनरिक (मॉलीक्यूल) नाम डालना होगा। ओवरचार्जिंग की शिकायतों के बाद एनपीएपए ने यह निर्णय लिया है।

  • क्रेडिट कार्ड कहीं जी का जंजाल न बन जाए, इससे ऐसे बचें

    क्रेडिट कार्ड कहीं जी का जंजाल न बन जाए, इससे ऐसे बचें

    देश में कर्ज लेकर अपनी जरूरतें और शौक पूरा करने का चलन तेजी से बढ़ रहा है। क्रेडिट कार्ड इसका सबसे आसान तरीका है। हाल ही में जारी रिजर्व बैंक के आंकड़ों के मुताबिक सितंबर, 2017 के अंत में क्रेडिट कार्ड पर कुल बकाया रकम बढ़कर 59,900 करोड़ रुपए हो गई। गौर करने वाली बात है कि महज साल भर पहले यही आंकड़ा 43,200 करोड़ रुपए था।

  • भीम एप से टिकट बुक कराओ, मुफ्त में रेल यात्रा का ईनाम पाओ

    भीम एप से टिकट बुक कराओ, मुफ्त में रेल यात्रा का ईनाम पाओ

    नई दिल्ली। "भीम" ऐप या "यूपीआई" से ट्रेन टिकट बुक कराने के लिए लोगों को प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से रेलवे ने एक लकी ड्रा योजना की शुरुआत की है। इसके तहत हर महीने पांच भाग्यशाली विजेताओं को यात्रा का पूरा पैसा वापस मिलेगा। एक दिसंबर से शुरूहुई यह योजना 31 मार्च तक चलेगी।

  • सर्वोच्च न्यायालय ने कहा, केंद्र सरकार वकीलों की फीस पर नियंत्रण लगाए

    सुप्रीम कोर्ट ने वकीलों की बढ़ती फीस पर चिंता व्यक्त करते हुए केंद्र सरकार से कहा है कि वह कानून लाकर वकीलों की बढ़ती फीस नियंत्रित करे. टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक शीर्ष अदालत ने कहा कि वकीलों के ज्यादा से ज्यादा फीस मांगने के चलते गरीब लोगों को न्याय मिलना मुश्किल हो गया है

Back to Top