आप यहाँ है :

उपभोक्ता मंच
 

  • डेटॉल वाले भी लूट रहे हैं, बचकर रहें

    लखनऊ। मैगी के बाद अब डेटॉल साबुन भी मानकों की कसौटी पर फेल हो गया है। उत्तर प्रदेश के आगरा में डेटॉल की जांच में प्रत्येक साबुन आठ ग्राम कम वजन का पाया गया। आगरा के औषधि निरीक्षक आर सी यादव ने को बताया कि नवम्बर 2014 में बाहर से आई एक टीम ने डेटॉल […]

  • मैगी के ब्राँड एंबेसडरों के खिलाफ कार्रवाई क्यों नहीं?

    मैगी के विज्ञापनों को लेकर ब्रैंड ऐंबेसडरों की जवाबदेही पर सवाल उठने शुरू हो गए हैं। कन्‍फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने इस संबंध में उपभोक्‍ता मामलों के केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान को लेटर लिखा है। इसमें पूछा गया है कि मैगी का विवाद उठने पर इसके ब्रैंड ऐंबेसडर्स पर अब तक क्‍या कार्रवाई […]

  • रेल यात्रियों के अच्छे दिन!

    ट्रेन में यात्रा करने वाले यात्रियों के लिए अच्छी खबर है। रेलवे अपने यात्रियों को जल्द ही एक नायाब तोहफा देने जा रहा है। ट्रेनों में सफर अधिक सुरक्षित और आरामदायक हो इसके लिए एलएचबी (लिंक हॉफमैन बुश) कोच लगाए जाएंगे। इसके लिए सीआरएस (सेफ्टी ऑफ रेलवे कमिश्नर) का ट्रायल हो चुका है अब रेलवे […]

  • 11 बजे तक सिर्फ एसी की ‘तत्काल’ बुकिंग

    'तत्काल' बुकिंग को आम जनता के लिए और सुविधाजनक बनाने के लिए रेलवे ने सुबह 10 बजे से 11 बजे के बीच केवल वातानकूलित श्रेणियों की 'तत्काल' बुकिंग करने का निर्णय लिया है। जबकि गैर-वातानुकूलित श्रेणियों की "तत्काल" बुकिंग 11 से 12 बजे के बीच की जाएगी। "तत्काल" की बुकिंग सुबह 10 बजे से खुलती […]

  • लिपस्टिक भी देती है कैंसर की बीमारी

    दो मिनट में तैयार होने वाली मैगी का विवाद थमा नहीं था, अब महिलाओं के सुर्ख होठों पर सवाल उठ खड़ा हुआ है। दरअसल, जिस लिपिस्टिक का इस्तेमाल कर महिलाएं होठों की खूबसूरती में चार चांद लगाती हैं। वह उन्हें गंभीर बीमारी बांट रही है। लाइलाज कैंसर तक…। पर्यावरण पर काम करने वाली संस्था इंस्टीट्यूट […]

  • मैगी का प्रचार करने वाले और विज्ञापन करने वालों पर भी कार्रवाई की मांग

    कनफेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (सीएआईटी) ने  मैगी नूडल्स के विज्ञापनकर्ताओं और इसे मंजूरी देने वाले अधिकारियों के विरुद्ध कार्रवाई की मांग की.    सीएआईटी ने केंद्रीय उपभोक्ता मामलों के मंत्री राम विलास पासवान और स्वास्थ्य मंत्री जे.पी. नड्डा से कहा, "भारतीय खाद्य सुरक्षा एवं मानक प्राधिकरण (एफएसएसएआई) ने जहां मैगी के विरुद्ध कार्रवाई शुरू […]

  • कैसे भारतीयों को फिल्मी सितारों की मदद से मूर्ख बनाया मैगी ने

    भारत में मैगी 1980 के दशक में आई। नेस्ले इंडिया ने मैगी ब्रांड के अंतर्गत नूडल्स बाजार में लाए। शुरुआत में मैगी केवल नाश्ते का विकल्प थी। वह उन लोगों के लिए ज्यादा फायदेमंद थी जो लोग शहरों में रहते थे। इसी दौर में देश इमरजेंसी से जूझ रहा था, ऐसे में किसी बहुराष्ट्रीय कंपनी […]

  • मैंगी का भ्रम जाल टूट रहा है

    'मां की खुशियों की रेसिपी' मैगी के 'हेल्दी' होने के दावों पर मचा बवाल एक बड़े बवंडर की शक्ल ले चुका है । देश भर में हुए कई शोधों में मैगी खाने के लिए असुरक्षित मानी गई है। दिल्ली समेत देश के कई राज्यों मैगी की बिक्री पर रोक लगा दी गई है। सेना की […]

  • 185 विज्ञापनों के दावे झूठे निकले

    एडवरटाइजिंग स्टैंडर्ड काउंसिल ऑफ इंडिया http://www.ascionline.org/ ने अपनी जाँच में 185 विज्ञापनों के खिलाफ शिकायतों को सही ठहराया है।   ASCI की कंज्यूमर कम्प्लेन्ट काउंसिल ने मार्च 2015 में 230 में से185 विज्ञापनों को भ्रामक माना है। इनमे 81 स्वास्थ्य और सौंदर्य उत्पादों के थे। इसमें शिक्षा से जुड़े तमाम विज्ञापनों को भ्रामक पाया गया […]

  • मैगी की कलंक कथा

    देशभर में सेहत की कसौटी पर नाकाम मैगी नूडल्स की बिक्री पर केंद्रीय भंडारों में रोक लगा दी गई है। केंद्र सरकार के इन स्टोरों के अलावा फ्यूचर ग्रुप ने भी अपनी रीटेल चेन बिग बाजार में मैगी नहीं बेचने की घोषणा की है। केरल सरकार ने अपने 1400 रीटेल आउटलेट पर मैगी की बिक्री […]

Back to Top