आप यहाँ है :

जियो तो ऐसे जियो
 

  • सेवा के जुनून में होनहारों ने ठुकराई लाखों की नौकरी !

    लगता है हमारी नई पीढ़ी की सोच अब बदल रही है और साथ ही उसे नया आयाम भी मिल रहा है। क्योंकि, ऐसे समय में जब लोग अधिक से अधिक वेतन वाली नौकरी की तलाश में रहते हैं, लाखों रुपए की नौकरी छोड़कर समाजिक कार्य करना बहुत बड़ी बात है। आईआईटी बॉम्बे से पास कुछ […]

  • मुस्लिम लड़की ने जीती भगवद् गीता पर आयोजित प्रतियोगिता

    12 साल की मरियम सिद्दीकी वैसे तो अपनी क्लास की टॉपर्स में शुमार हैं, लेकिन हाल ही में उन्होंने हिंदू धर्म ग्रंथ भगवद् गीता की एक प्रतियोगिता में पहले पायदान पर पहुंचकर सबको हैरान कर दिया। छठी क्लास में पढ़ रही इस मुस्लिम लड़की ने इस्कॉन की ओर से आयोजित किए गए 'गीता चैंपियंस लीग […]

  • इस देश के बेशर्म नेता, मंत्री और अफसर इस नन्हीं बच्ची से कुछ सीखेंगे?

    नरसिंहपुर(ब्यूरो)। पिछले तीन-चार महीनों से स्कूल में अंधेरा था। न किसी अधिकारी के कानों में जू रेंगी और न किसी नेता का दिल पसीजा। शहर की एक बेटी से रहा न गया तो वो अपने भाई-बहनों की खातिर छात्रवृत्ति और गुल्लक में जमा इकठ्ठे पैसों को ले बिजली विभाग के दफ्तर जा पहुंची। कहा- ये […]

  • बैंक ने लोन नहीं दिया तो आदिवासी महिलाओं ने बनाया खुद का बैंक

    बड़वानी. महिलाओं का सहकारी बैंक। यथा नाम तथा गुण ‘समृद्धि ’। पहले अपने गांव की जरूरतमंद महिलाओं को सशक्त बनाया। 70 लाख रुपए का लोन भी बांटा। अब दूसरे गांव की महिलाओं को सबल करने निकल पड़ी हैं। ये वे ही महिलाएं हैं जिन्हें कुछ साल पहले बैंक ने लोन देने से मना कर दिया […]

  • ये है दूसरी आज़ादी की योध्दाः श्रेया सिंघल

    आईटी ऐक्ट के सेक्शन 66 ए को रद्द करने के ऐतिहासिक फैसले के पीछे दिल्ली की श्रेया सिंघल का बड़ा हाथ है। 21 साल की श्रेया ने ही सुप्रीम कोर्ट में पीआईएल दाखिल की थी जिसके पक्ष में यह फैसला आया है। श्रेया दिल्ली की रहने वाली हैं और कुछ ही समय पहले यूके में […]

  • सोच हो बड़ी, सुनो सबकी, करो मन की

    जीवन में सफल होने के कई उपाय हो सकते हैं जिनमें से कुछ आप खुद बना सकते हैं पर इस मामले में सफलतम लोगों द्वारा अपनाये गए उपाय अपेक्षाकृत कम श्रम साध्य होते हैं। साथ ही इस रास्ते पर चलकर सफलता मिलने का अवसर और भी बढ़ जाता है। सुनें अपने मन की ये पता […]

  • बेटे के हाथ नहीं रहे तो पिता ने बनवा ली बगैर हैंडल वाली साइकिल

    अब्दुल कादिर रतलाम में रहते हैं। उनके पिता हुसैन इंदौरी ने बताया, 'अब्दुल कादिर को साइकिल चलाने का बेहद शौक था। साल भर पहले ही उसे नई साइकिल ला कर दी थी, एक-दो बार ही साइकिल चलाई थी कि भोपाल में करंट लगने के कारण हाथ चले गए। हाथ गंवाने के बाद अकसर उसे साइकिल […]

  • गाँधी की लाठी से अगरबत्ती की काढ़ी तक का सफर

    मध्यप्रदेश के सीधी से 15 किलोमीटर की दूरी पर है बैगा जनजाति बहुल गाँव गाँधीग्राम। मात्र ढाई-तीन साल में लोगों के जीवन-स्तर में सुखद बदलाव देखना है तो गाँधीग्राम जाइये। इस ग्राम और आसपास के गाँव- कोल्हूबीह, हसवा, बहेरटा, तेजवा, दरिया, कुडिन, गुरियरा, नेबुहा, अधियारी खोह, सतपहरी, पदखुरी, बिसमीटोला आदि की 2500 महिलाएँ पिछले तीन […]

  • शोकसभा बदली सहायता सभा में, मृतकों के परिवार को दिए 25 लाख

    इंदौर। मध्य प्रदेश हादसा केवल किसी व्यक्ति की जान नहीं लेता है बल्कि वह उसके परिवार को भी तोड़ देता है। एक ऐसा ही हादसा इंदौर में भी हुआ जहां जैन समाज के चार सदस्यों की सड़क हादसे में मौत हो गई। यह सभी अपने परिवार की आय का मुख्य जरिया थे। इस मुश्किल की […]

  • माय होम इंडिया की पहल “सपनो से अपनों तक”

    भोले बच्चे, दूसरों द्वारा दिखाए हुए भविष्य के झूठे सपनों से गुमराह हो कर अपना घर-परिवार छोड़ देते है लेकिन उसके बाद वही व्यक्ति जिन्होंने उन बच्चों को झूठे सपने दिखाए थे, उन मासूम बच्चो का निर्दयता से शोषण करते हैं। यह बच्चे एक बार जब अपने  घर से निकल कर बाहर की निर्दयी दुनिया […]

Back to Top