ताजा सामाचार

आप यहाँ है :

जियो तो ऐसे जियो
 

  • ये है दूसरी आज़ादी की योध्दाः श्रेया सिंघल

    आईटी ऐक्ट के सेक्शन 66 ए को रद्द करने के ऐतिहासिक फैसले के पीछे दिल्ली की श्रेया सिंघल का बड़ा हाथ है। 21 साल की श्रेया ने ही सुप्रीम कोर्ट में पीआईएल दाखिल की थी जिसके पक्ष में यह फैसला आया है। श्रेया दिल्ली की रहने वाली हैं और कुछ ही समय पहले यूके में […]

  • सोच हो बड़ी, सुनो सबकी, करो मन की

    जीवन में सफल होने के कई उपाय हो सकते हैं जिनमें से कुछ आप खुद बना सकते हैं पर इस मामले में सफलतम लोगों द्वारा अपनाये गए उपाय अपेक्षाकृत कम श्रम साध्य होते हैं। साथ ही इस रास्ते पर चलकर सफलता मिलने का अवसर और भी बढ़ जाता है। सुनें अपने मन की ये पता […]

  • बेटे के हाथ नहीं रहे तो पिता ने बनवा ली बगैर हैंडल वाली साइकिल

    अब्दुल कादिर रतलाम में रहते हैं। उनके पिता हुसैन इंदौरी ने बताया, 'अब्दुल कादिर को साइकिल चलाने का बेहद शौक था। साल भर पहले ही उसे नई साइकिल ला कर दी थी, एक-दो बार ही साइकिल चलाई थी कि भोपाल में करंट लगने के कारण हाथ चले गए। हाथ गंवाने के बाद अकसर उसे साइकिल […]

  • गाँधी की लाठी से अगरबत्ती की काढ़ी तक का सफर

    मध्यप्रदेश के सीधी से 15 किलोमीटर की दूरी पर है बैगा जनजाति बहुल गाँव गाँधीग्राम। मात्र ढाई-तीन साल में लोगों के जीवन-स्तर में सुखद बदलाव देखना है तो गाँधीग्राम जाइये। इस ग्राम और आसपास के गाँव- कोल्हूबीह, हसवा, बहेरटा, तेजवा, दरिया, कुडिन, गुरियरा, नेबुहा, अधियारी खोह, सतपहरी, पदखुरी, बिसमीटोला आदि की 2500 महिलाएँ पिछले तीन […]

  • शोकसभा बदली सहायता सभा में, मृतकों के परिवार को दिए 25 लाख

    इंदौर। मध्य प्रदेश हादसा केवल किसी व्यक्ति की जान नहीं लेता है बल्कि वह उसके परिवार को भी तोड़ देता है। एक ऐसा ही हादसा इंदौर में भी हुआ जहां जैन समाज के चार सदस्यों की सड़क हादसे में मौत हो गई। यह सभी अपने परिवार की आय का मुख्य जरिया थे। इस मुश्किल की […]

  • माय होम इंडिया की पहल “सपनो से अपनों तक”

    भोले बच्चे, दूसरों द्वारा दिखाए हुए भविष्य के झूठे सपनों से गुमराह हो कर अपना घर-परिवार छोड़ देते है लेकिन उसके बाद वही व्यक्ति जिन्होंने उन बच्चों को झूठे सपने दिखाए थे, उन मासूम बच्चो का निर्दयता से शोषण करते हैं। यह बच्चे एक बार जब अपने  घर से निकल कर बाहर की निर्दयी दुनिया […]

  • दंग रह गई अमृता फडणवीस, जब दादी-नानी का रैंप वॉक देखा

    मुंबई। अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर मुख्यमंत्री की धर्मपत्नी श्रीमती अमृता देवेंद्र फडणवीस ने जब अपनी दादी और नानी की उम्र की महिलाओं को रैंप वॉक करते देखा तो वे भी उम्रदराज महिलाओं के उत्साह को हैरत भरी नजरों से देख दंग रह गईं। बीजेपी एवं लोढ़ा फाउंडेशन द्वारा महिलाओं की उद्यमवृत्ति को विकसित करने के […]

  • श्रीमती चारु हर्षद शेठ – महिला सशक्तिकरण का उदाहरण

    बी ए तक शिक्षा प्राप्त श्रीमती चारु हर्षद शेठ का विवाह 4 मई 1974 को श्री हर्षद शेठ के साथ हुआ था । उनके शादी के बाद की जिंदगी 8’x 8’ के रूम से शुरू हुई । शादी के बाद स्कूल में नौकरी और ट्यूशन , दोनों पति पत्नी ने  कड़ी मेहनत से बच्चो को […]

  • इ्न्दौर के अग्रवाल समाज की अनुकरणीय पहल

    मध्‍यप्रदेश के इंदौर में अग्रवाल महासभा द्वारा आयोजित तीन दिनी परिचय सम्मेलन में स्वस्थ व स्वच्छ शहर के लिए महत्वपूर्ण कदम उठाया गया। आयोजन में डिस्पोजल ग्लास और प्लेटों का इस्तेमाल नहीं किया गया। आयोजकों के मुताबिक आयोजन में 15 हजार लोग शामिल होते हैं, जो करीब 60 हजार डिस्पोजल ग्लास व प्लेटों का प्रयोग […]

  • ट्रैफिक जाम की समस्या से पैदा हुआ एक समाधान

    काफी समय अमेरिका में बिताने के बाद जब ब्रजराज वाघानी और रवि खेमानी २००८ में भारत लौटे, तो जो बात उन्हें सबसे ज्यादा चुभी, वह थी मुंबई में सड़कों व ट्रैफिक की खस्ता हालत। साथ ही यह भी कि न तो वाहन चालकों और न ही ट्रैफिक पुलिस के जवानों को इस बात की जानकारी […]

Back to Top