आप यहाँ है :

जीवन शैली
 

  • आओ, थोड़ा-थोड़ा भोपाली हो जाएं

    आओ, थोड़ा-थोड़ा भोपाली हो जाएं

    हालांकि सोहबत अच्छी हो तो परम्परा आगे बढ़ जाती है और सोहबत खराब हो तो परम्परा दम तोड़ने लगती है। पुराने भोपाल के नौजवान पीढ़ी के साथ भी कुछ ऐसा ही हो रहा है। नए भोपाल के लोगों को साथ में पीकदान रखने के लिए कहने का मतलब बेवजह समय खराब करना है।

  • क्या भोजन का पर्यावरण पर प्रभाव पड़ता है?

    क्या भोजन का पर्यावरण पर प्रभाव पड़ता है?

    जानवरों को खिलाने के लिए फसलों के लिए उर्वरक का उत्पादन करने के लिए ईंधन की आवश्यकता होती है, ट्रकों को चलाने के लिए तेल जो उन्हें मारने के लिए स्लाटर हाऊस मे ले जाते हैं, और उनके मांस को फ्रीज करने के लिए बिजली की आवश्यकता होती है।

  • लन्दन का श्री कृष्णा वड़ा पाव

    लन्दन का श्री कृष्णा वड़ा पाव

    जब काउंटर वाले सज्जन से मराठी में बात हुई तो मेरी उत्सुकता इस बात को लेकर थी कि क्या ये दादर वाली दुकान की शाखा है , उत्तर मिला नहीं . फिर भी मुंबई से छै हज़ार किलो मीटर की दूरी पर मुंबई जैसा वड़ा पाव मिल जाए तो फिर और क्या चाहिए ?

  • गर्मी के मौसम में गुणकारी है ‘बोरे बासी’

    गर्मी के मौसम में गुणकारी है ‘बोरे बासी’

    छत्तीसगढ़ की संस्कृति है कि विशेषकर ग्रामीण क्षेत्रों में यदि अचानक कोई मेहमान आ जाये अथवा कोई व्यक्ति आ जाए तो वह भूखा न जाए। सुबह जब लोग काम पर जाए तो उसके लिए तात्कालिक तौर पर भोजन की व्यवस्था हो

    • By: डॉ.ओमप्रकाश डहरिया. श्री जीएस. केशरवानी
    •  ─ 
    • In: जीवन शैली
  • वैदिक जीवन स्वास्थ्य का आधार

    इससे समुद्र में से, वा समुद्र के पार से धन लाने और यश के झंडे गाड़ने को एक श्लाघ्य कर्म बतलाया है। अतएव यह निःसन्देह है, कि समुद्रयात्रा का निषेध जीवन की इस महिमा को भूल जाने पर हुआ है।

  • खतरनाक हो सकती है, पीने के काम आती स्‍ट्रा

    खतरनाक हो सकती है, पीने के काम आती स्‍ट्रा

    प्लास्टिक स्ट्रा के विकल्प लाने हेतु भी प्रयास किये जा रहे हैं। हमारे देश के तमिलनाडु में नारियल पानी पिलाने हेतु पपीते की पत्तियों के डंठलों को सुखाकर एवं साफ कर स्ट्रा की भांति उपयोग

  • ब्रह्म मुहूर्त और इसके इसके वैज्ञानिक लाभ

    ब्रह्म मुहूर्त और इसके इसके वैज्ञानिक लाभ

    पौराणिक महत्व - वाल्मीकि रामायण के मुताबिक माता सीता को ढूंढते हुए श्रीहनुमान ब्रह्ममुहूर्त में ही अशोक वाटिका पहुंचे। जहां उन्होंने वेद व यज्ञ के ज्ञाताओं के मंत्र उच्चारण की आवाज सुनी।

  • मानव सभ्यता की अनूठी पहचान है परिवार

    मानव सभ्यता की अनूठी पहचान है परिवार

    विश्व परिवार दिवस हर साल 15 मई को मनाया जाता है। देश एवं दुनिया को परिवार के महत्व को बताने के लिए यह दिवस मनाया जाता हैं। परिवार दो प्रकार के होते हैं- एक एकल परिवार और दूसरा संयुक्त परिवार।

  • क्या है फालुन दफा साधना…?

    क्या है फालुन दफा साधना…?

    फालुन दाफा का अभ्यास दुनियाभर में 114 से अधिक देशों में 10 करोड़ से अधिक लोगों द्वारा किया जा रहा है. लेकिन दुःख की बात यह है कि चीन, जो फालुन गोंग की जन्म भूमि है, वहां इसका दमन किया जा रहा है. इसके स्वास्थ्य लाभ और आध्यात्मिक शिक्षाओं के कारण चीन में फालुन दाफा बहुत लोकप्रिय होने लगा.

  • बच्चों को जीतने के लिए ही नहीं, हारने के लिए भी तैयार कीजिए

    बच्चों को जीतने के लिए ही नहीं, हारने के लिए भी तैयार कीजिए

    एक अंग्रेजी उपन्यास में एक किस्सा पढ़ा था. एक मेमना अपनी माँ से दूर निकल गया. आगे जा कर पहले तो भैंसों के झुण्ड से घिर गया.

Back to Top