आप यहाँ है :

पत्रिका
 

  • दो लघु कथाएँ

    दो लघु कथाएँ

    यह लिखकर उसने अपनी बाएँ हाथ की हथेली बंद की और उसी हाथ की अपनी छोटी अंगुली को दो बार दबा कर पाम-गेजेट को ऑफ किया फिर मेज की दराज से स्माइल-सप्लीमेंट की एक गोली निकाल कर मुंह में रख दी।

    • By: चन्द्रेश कुमार छतलानी
    •  ─ 
    • In: कहानी
  • जब दौड़ी उम्मीदों की रेल…

    जब दौड़ी उम्मीदों की रेल…

    इतने में उनका दोस्त मिथुनवा दौड़ा-दौड़ा एक ख़बर लेकर आया और हाँफते-हाँफते बोला- ''सुना तुम लोगों ने, एक खुशखबरी है|

  • मौत की खबर आई, चैनलों पर बहार आई!

    मौत की खबर आई, चैनलों पर बहार आई!

    इधर यमराज ने भी चैन की साँस ली और अफसोस से चित्रगुप्त से कहा, तुम अब रोज रोज मरने वालों के आँकड़े देने की बजाय ऐसी किसी मौत पर ही प्रेस विज्ञप्ति जारी करना, ताकि देश के लोगों को पता चले कि हम अपना काम बराबर कर रहे हैं।

    • By: चन्द्रकांत जोशी
    •  ─ 
    • In: अधबीच
  • मंजुल भारद्वाज की कविताओं ने मोड़ा राजनैतिक बहस का रुख !

    मंजुल भारद्वाज की कविताओं ने मोड़ा राजनैतिक बहस का रुख !

    मंजुल भारद्वाज की काव्यरचना भारतीय लोकतंत्र और राजनीति के परिपेक्ष में गहरा प्रभाव डाल रही है। जिससे संविधान की जड़ें और मजबूत बनेंगी यह सुनिश्चित है।

  • विवशता और प्रतिशोध

    विवशता और प्रतिशोध

    “एक दिन जब अवनीश बाथरूम में नहा रहा था तो यकायक मेरे मस्तिष्क में एक विचार आया कि क्यौं न अपने पड़ोसियों, जिनसे अभी तक मेरा कोई परिचय नहीं था, की सहायता ली जाय | बस जल्दी से मैंने एक कागज़ के पर्चे

  • नाट्यशास्त्र में सभी प्रकार के संचार के सिद्धांत मौजूद : डॉ. अधिकारी

    नाट्यशास्त्र में सभी प्रकार के संचार के सिद्धांत मौजूद : डॉ. अधिकारी

    डॉ. निर्मल मणि अधिकारी ने बताया कि जिस समय नाट्यशास्त्र बना था, उस समय केवल आठ रसों का वर्णन था। 9वां रस अभिनव गुप्त ने जोड़ा, जो शांत रस है। उन्होंने यह भी बताया कि संचार का सहृदयीकरण मॉडल सीधे नाट्यशास्त्र

  • एक और विदाई

    एक और विदाई

    विमला आठ भाई बहनों में सबसे छोटी थी । माता पिता के पास धन का अभाव होने के कारण चाहते हुए भी विमला को बारह कक्षा पूरी होने के बाद पढाई करने का कोई साधन नहीं मिल पाया । वह घर के काम-काज में ही लग गयी । चाहते हुए भी विमला को वह सब […]

  • जानिये उत्तराखंड के घरों से लुप्त होते लकड़ी के बर्तनों के बारे में

    जानिये उत्तराखंड के घरों से लुप्त होते लकड़ी के बर्तनों के बारे में

    सानन और गेठी नाम के वृक्षों की लकड़ी इसके लिये सबसे उपयुक्त मानी गयी है. इन बर्तनों में अधिकांश को जलशक्ति वाले गाड़-गधेरों में खराद मशीन द्वारा बनाया जाता है.

  • याद माँ की मीठी यादों की

    याद माँ की मीठी यादों की

    किसी तरह मैंने अपना सामान सूटकेस पर ही रख दिया और माँ पिताजी की यादों में खो गई| पता न चला कब आँख लग गई और सुबह के पांच बजे पास वाली मस्जिद की अजान से मेरी

  • घर को सजाईये पुरातत्विक प्रतिमाओं से

    घर को सजाईये पुरातत्विक प्रतिमाओं से

    मध्य प्रदेश में पुरातत्व, अभिलेखागार और संग्रहालय विभाग ने एक अलग मॉडलिंग सेल तैयार किया है, जहां दुर्लभ कलात्मक और मूल्यवान पुरातात्विक पुरातनताओं से संबंधित प्रतिकृतियां बनाई

Back to Top