आप यहाँ है :

पत्रिका
 

  • भूतपूर्व प्रेमिकाओं को पत्र

    भूतपूर्व प्रेमिकाओं को पत्र

    वर्ष 2016 स्वर्गीय शरद जोशी की 85वीं सालगिरह का वर्ष है. वे आज होते तो मुस्कराते हुए अवश्य कहते, देखो, मैं अभी भी सार्थक लिख रहा हूं. यह अपने आप में कम महत्त्वपूर्ण नहीं है कि अर्सा पहले जो वे लिख गये, वह आज की स्थितियों पर मार्मिक टिप्पणी लगता है.

  • लोक का अर्थ, मंथन की परंपरा और राष्‍ट्रीय आयोजन

    लोक का अर्थ, मंथन की परंपरा और राष्‍ट्रीय आयोजन

    मंथन भारत का आधारभूत तत्‍व है, इसलिए विमर्श के बिना भारत की कल्‍पना भी की जाएगी तो वह अधूरी प्रतीत होगी। यहां लोकतंत्र शासन व्‍यवस्‍था की सफलता का कारण भी यही है कि वेद, श्रुति, स्‍मृति, पुराण से लेकर संपूर्ण भारतीय वांग्‍मय, साहित्‍य संबंधित पुस्‍तकों और चहुंओर व्‍याप्‍त संस्‍कृति के विविध आयमों में लोक का सुख, लोक के दुख का नाश, सर्वे भवन्‍तु सुखिन: और जन हिताय-जन सुखाय की भावना ही सर्वत्र दृष्‍टि‍गत होती है।

  • सोशल मीडिया इंश्योरेंस:लिखने की आजादी-

    देश में चल रही अभिव्यक्ति की आजादी की डिबेट में “सोशल मीडिया इंश्योरेंस” कंपनी भी कूद पड़ी है. यह इंश्योरेंस सोशल मीडिया पर प्रत्येक व्यक्ति को बिना डरे, खुल के लिखने के लिए प्रेरित करती है. यदि सवाल देश भक्ति और अभिव्यक्ति की आजादी से जुड़ा हो तो यह ओर भी ज्यादा महत्त्वपूर्ण बन जाता है, क्योंकि देश भक्ति बाजार की मंडी में पैदा होती है.

  • बहिष्कारी तिरस्कारी व्यापारी

    बहिष्कारी तिरस्कारी व्यापारी

    एक जमाना था जब गाँधी जी ने विदेशी वस्तुओं का बहिष्कार किया और भारत की जनता गाँधी जी साथ खड़ी थी. भारत के कुछ लोगों को अपनी इस बहिष्कार की गलती का अहसास हुआ कि पूरी दुनिया बहुत आगे निकल चुकी है और भारत तकनीकी तौर पर पिछड़ गया है .

  • एक न्यूज़ चैनल को तत्काल चाहिए

    शीघ्र ही शुरु होने जा रहे हिन्दी के एक न्यूज़ चैनल के लिए देश के गाँव-गाँव से लेकर शहरों के गली मोहल्ले तक टीवी रिपोर्टर यानी टीवी पर खबरें देने वाले संवाददाताओं की आवश्यकता है, जो अपने शहर या मोहल्ले में होने वाली घटनाओं की रिपोर्टिंग कर सके।

  • किसान ने कहा, मैं दोनों बकरों को पानी से नहलाता हूँ

    एक टी.वी. पत्रकार एककिसान का इंटरव्यू ले रहा था…

  • इस देश में कंबल ऐसे बँटते हैं

    एक बड़े मुल्क के राष्ट्रपति के बेडरूम की खिड़की सड़क की ओर खुलती थी। रोज़ाना हज़ारों आदमी और वाहन उस सड़क से गुज़रते थे। राष्ट्रपति इस बहाने जनता की परेशानी और दुःख-दर्द को निकट से जान लेते।

  • गुंडे, बदमाशों और लुटेरों ने बनाई यूनियन, सरकार से सुरक्षा की माँग

    जब से मीडिया में कश्मीर के आतंकवादियों, देशद्रोहियोँ और अलगाववादियों की सुरक्षा, इनके पाँच सितारा होटलों के खर्चे, हवाई जहाज की सैर और ऐशो-आराम पर सरकार द्वारा 600 करोड़ रु. खर्च करने की खबरें सामने आई है, देश के कई कुख्यात लुटेरों, अपहरणकर्ताओं, डाकुओँ, गुंडों और बदमाशों ने भी एक संगठन बनाकर सरकार से सुरक्षा की माँग की है।

  • पाकिस्तान की प्रसव वेदना

    कुछ दिनों से हमारा पड़ोसी पाकिस्तान गर्भ से है, ये खबर तो आपको पता ही है।

  • गिरगिटों का नेताओँ और मीडिया पर हमला

    गिरगिटों का नेताओँ और मीडिया पर हमला

    देश के दलबदलू नेताओँ को लेकर गिरगिटों की संस्था अखिल भारतीय गिरगिट संगठन ने मीडिया और नेताओं पर हमला बोल दिया है।

Back to Top