आप यहाँ है :

पाठक मंच
 

  • कश्मीरी हुिंदुओं  के घाव पर नमकः   सर्वोच्च न्यायालय की बेरुखी

    कश्मीरी हुिंदुओं के घाव पर नमकः सर्वोच्च न्यायालय की बेरुखी

    कश्मीरी पंडित नेता अग्निशेखर ने सर्वोच्च न्यायालय की इस उदासीनता पर गहरा दुःख जताया है और कहा है कि हमारा शान्ति-प्रिय कश्मीरी-पंडित-समुदाय अब जाय तो कहाँ जाय?

  • राजभाषा विभाग द्वारा द्वारा जन शिकायतों पर कार्यवाही न करने के विरुद्ध लोक परिवाद

    राजभाषा के नाम पर करदाताओं के करोड़ों रुपये फूँके जा रहे हैं इसलिए यह शिकायत कर रहा हूँ-

  • वो गुरु, जो याद आते रहेंगे…

    वो गुरु, जो याद आते रहेंगे…

    मैं कुरुक्षेत्र विश्विद्यालय चला आया।दरअसल, इस बीच डॉ. शशिभूषण सिंहल कुरुक्षेत्र आ गये थे। उन्होंने मुझे वहां बुला लिया और उन्हीं के निर्देशन में मैं ने यूजीसी की फ़ेलोशिप पर शोधकार्य किया।१९६६ में राजस्थान लोकसेवा आयोग,

  • हिन्दू कब तक अपमानित होगा ?

    अविश्वासियों और विश्वासियों में शतकों से चल रहें सैद्धांतिक और वैचारिक संघर्ष में जब यह इस्लाम की विजय और सनातन धर्म की पराजय का कारण बनेगा तो उसका उत्तरदायी कौन होगा? भविष्य में भारत को पुनः विश्व गुरु के सिंहासन पर सुशोभित करने के लिए प्रयासरत भाजपा अपने ही उद्देश्यों और सिध्दांतों के विरुद्ध ऐसी विपरीत आत्मघाती मानसिकता

  • कश्मीर घाटी पर किसका नियंत्रण सरकार का कि आतंकवादियों का?

    कश्मीर घाटी पर किसका नियंत्रण सरकार का कि आतंकवादियों का?

    यानी एक समुदाय या वर्ग-विशेष को लक्ष्य बनाकर हत्याएं करना। घाटी में पिछले एक महीने के दौरान लगभग नौ नागरिकों की निशाना बनाकर निर्मम हत्या की जा चुकी है। इनमें महिलाएं और सुरक्षाकर्मी भी शामिल हैं।

  • अनुवाद से हिंदी साहित्य को मिलेगी नई पहचान

    अनुवाद से हिंदी साहित्य को मिलेगी नई पहचान

    वैश्वीकरण के इस दौर में अनुवादक की महिमा और उसके योगदान को नकारा नहीं जा सकता। मोटे तौर पर यह अनुवादक ही है जो दो संस्कृतियों, राज्यों, देशों एवं विचारधाराओं के बीच ‘सेतु’ का काम करता है।

  • दुष्ट का यशोगान क्यों?

    दुष्ट का यशोगान क्यों?

    दरअसल,बुधवार को यासीन मलिक को अदालत में उसके दुष्कर्मों की सजा सुनाई जानी थी।दुर्दांत आतंकी यासीन मलिक पर कई आरोप थे। उस पर यूएपीए की धारा के तहत आतंकवादी गतिविधियों में शामिल होने से लेकर उन गतिविधियों के लिए धन जुटाने का आरोप लगा था।

  • आतंकवादियों के साथ भाई चारे के गीत गाने से कुछ नहीं होगा

    आतंकवादियों के साथ भाई चारे के गीत गाने से कुछ नहीं होगा

    समय आ गया है जब हमारे खुफिया तंत्र को और मज़बूत बनाया जाय और जिहादियों से निपटने के लिए कोई और कारगर योजना बनाई जाए।जिहादियों को प्रश्रय देने या फिर उनसे सहानुभूति रखने वालों के विरुद्ध कठोर कार्रवाई की जाय।

  • देश के कर्णधारों के नाम एक आम आदमी का पत्र

    इस्लाम मे उम्मा का कन्सेप्ट है, देश का कोई कन्सेप्ट है ही नहीं। और जो भी मुसलमान काफिरों से युद्ध कर रहा है वह बेशक इस्लाम सम्मत काम कर रहा है। ये छोटा सा सत्य आपके दिमागों में क्यों नहीं घुसता।

  • कश्मीर फाईल्स ने आस्था जगाई

    कश्मीर फाईल्स ने आस्था जगाई

    सरकारें आईं और चली गईं मगर किसी भी सरकार ने निर्वासित कश्मीरी पंडितों को वापस घाटी में बसाने की मन से कोशिश नहीं की।आश्वासन अथवा कार्ययोजनाएं जरूर घोषित की गईं। और तो और सरकारें जांच-आयोग तक गठित नहीं

Get in Touch

Back to Top