ताजा सामाचार

आप यहाँ है :

व्यंग्य
 

  • खुद मियाँ फजीहत…

    खुद मियाँ फजीहत…

    मैं कलमघसीट इतना ही लिख पाया था कि मेरे दाहिने हाथ में सप्ताह भर से हो रहा दर्द एकाएक बढ़ गया, तीव्र वेदना होने लगी। इस लिए लेखन कार्य को विराम देना पड़ा।

    • By: भूपेन्द्र सिंह गर्गवंशी
    •  ─ 
    • In: व्यंग्य
  • क्रांतिकारी की कथा

    क्रांतिकारी की कथा

    उसका एक दोस्त आया। बोला, “तुम्हारे फादर कह रहे थे कि तुम पत्नी को लेकर सीधे घर क्यों नहीं आए। वे तो काफी शांत थे। कह रहे थे, लड़के और बहू को घर ले आओ।”

  • लोकतंत्र में गिरने- गिराने की परम्परा है

    लोकतंत्र में गिरने- गिराने की परम्परा है

    वैसे भी बच्चा जब चलना सीखता है तो पहले थोड़ा चलता है और फिर गिरता भी है। चलने का प्रयास जारी रहता है चंदन गाड़ी के सहारे चलता है वह भी फिसलती है फिर गिरता है।

  • आप “ई” नहीं हैं तो कुछ भी नहीं हैं

    आप “ई” नहीं हैं तो कुछ भी नहीं हैं

    वर्तमान में “ई” प्लेटफार्म की खासियत है आप “ही” है तो ठीक-ठीक हैं और यदी आप “शी” हैं तो आप विशेष हैं।

  • नहीं सुने वो सब गुने

    सुख से सम्बन्धित बातें तो बहुत सारी की जा सकती हैं लेकिन कुछ बातें अनुभव की करी जाए तो उसका आनंद अलग है ।

  • न घर के रहेंगे न घाट के

    न घर के रहेंगे न घाट के

    फिल्म देखो फिल्म का ज्ञान मत लो, श्मशान में जाओ कोई निपट रहा है तो कुछ देर मन को दृवित करो, सब कुछ होने के बाद संसार धर्म को निभाने के लिए निकल पड़ो वरना जी नहीं पाओगे

  • राजा साहब मुस्कराए !

    राजा साहब मुस्कराए !

    “लेकिन लोगों के पास दस हजार से ज्यादा रकम होती है. आप तो जानते ही हैं कि नब्बे प्रतिशत बिजनेस दो नम्बर में होता है, गलत सरकारी नीतियों के कारण लोगों को घर में लाखों-करोड़ों रखना पड़ते हैं .”

  • मैं और बकरी

    मैं और बकरी

    उन दिनों हम भाइयों का स्वास्थ्य अचानक ही काफी अच्छा होने लगा था तथा हमें गांधीजी की इस बात पर भरोसा होने लगा था कि बकरी का दूध सेहत के लिए सर्वोत्तम होता है।

  • पुलिस मंत्री का पुतला

    पुलिस मंत्री का पुतला

    इतने में रामलीला का मौसम आ गया। एक बड़े पुलिस अफसर को ‘ब्रेनवेव’ आ गई। उसने रामलीलावालों को बुलाकर कहा,

  • आंख मार भाषण

    आँख मानव जीव का एक ऐसा अंग है जिसके देखने अलावा और कई मुख्य कार्य हैं। ये देश के विज्ञानियों के लिये बहुत महत्वपूर्ण विषय माना जाना चाहि

Back to Top