आप यहाँ है :

व्यंग्य
 

  • बुढ़ौती में तीरथ

    कहते हैं कि अंग्रेजों ने जब रेलवे लाइनें बिछा कर उस पर ट्रेनें चलाई तो देश के लोग उसमें चढ़ने से यह सोच कर डरते थे कि मशीनी चीज का क्या भरोसा, कुछ दूर चले और  भहरा कर गिर पड़े। मेरे गांव में एेसे कई बुजुर्ग थे जिनके बारे में कहा जाता था कि उन्होंने […]

  • ​मौत पर भारी मैच …!!​

    क्रिकेट का एक मैच यानी हजारों सहूलियत का कैच। बाजार के लिए यह खेल बिल्कुल गाय की तरह है। जो हमेशा देती ही देती है। नाम – दाम और पैसा बस इसी खेल में है। दूसरे खेलों के महारथी जीवन – भर सुख – सुविधाओं का रोना रोते हैं, जबकि यही सुख – सुविधाएं  मानो […]

  • कुछ ऐसी रेलगाड़ियाँ भी चलेगी सेलीब्रिटीज़ के नाम पर!

     देश के रेल मंत्री श्री सुरेश प्रभु द्वारा ब्रांड्स के नाम पर ट्रेन दौड़ाने की घोषणा के साथ सेलिब्रिटीज के नाम ट्रेनों का सोसल मीडिया पर ट्रेंड चल गया है। मोदी एक्सप्रेस : सुरेश प्रभु ने रेल बजट में एक मोदी एक्सप्रेस नाम की ट्रेन चलाने की घोषणा की है। ट्रेन चलेगी नहीं, सिर्फ तेज […]

  • समस्याएं कांग्रेस हो गई और कांग्रेस समस्या हो गई!

    कांग्रेस का राज 30 साल पहले कैसा था और आज कैसा है इसका अंदाज़ा आपको देश के प्रतिष्ठित व्यंग्यकार स्व. शरद जोशी के इस व्यंग्य लेख से हो जाएगा-ये लेख स्व. जोशी ने 36 साल पहले वर्ष 1977 में लिखा था। कांग्रेस को राज करते करते तीस साल बीत गए । कुछ कहते हैं, तीन […]

  • Page 4 of 4
    1 2 3 4

ईमेल सबस्क्रिप्शन

PHOTOS

VIDEOS

Back to Top

Page 4 of 4
1 2 3 4