आप यहाँ है :

दुनिया मेरे आगे
 

  • कहां खो गई ‘शुद्ध देसी दीवाली’

    कहां खो गई ‘शुद्ध देसी दीवाली’

    करीब डेढ़ से दो दशक पहले आपके-हमारे घरों में जो शुद्ध देसी दीवाली मनाई जाती थी उसकी जगह अब मिलावटी और दिखावटी दीवाली ने ले ली है। दीवाली के करीब महीनेभर पहले से ही तैयारियां शुरू हो जाती थीं। क्या बच्चे क्या बड़े हिंदू धर्म के इस सबसे त्योहार का उत्साह और उमंग देखते ही बनती थी। सबसे पहले बारी आती घरों की साफ-सफाई की।

  • खूबसूरत जौनसार का घिनौना सामाजिक यथार्थ

    खूबसूरत जौनसार का घिनौना सामाजिक यथार्थ

    उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में स्थित जौनसार-बावर अपने प्राकृतिक सौंदर्य के लिए जाना जाता है। यह परगना क्षेत्र विशेष के आधार पर जनजाति घोषित है। देहरादून से जौनसार क्षेत्र महज 50 किमी की दूरी पर है। करीब 369 गांव के इस घोषित जनजाति क्षेत्र में महासू समेत कई देवी-देवताओं के सैकड़ों मंदिर हैं, जिनमें दलितों और महिलाओं का प्रवेश आज भी वर्जित है।

  • चीन से सीखिये, समय की पाबंदी और मातृभाषा का सम्मान

    चीन से सीखिये, समय की पाबंदी और मातृभाषा का सम्मान

    केंद्र में नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में राजग सरकार आने के बाद दुनिया के कई प्रमुख देशों, खासकर पड़ोसी चीन, के साथ भारत के संबंधों को लेकर नयी आशाएं जगी हैं. चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के भारत आगमन और नरेंद्र मोदी के चीन दौरे के दौरान दिखे उत्साह से इन आशाओं काे बल मिला है.

  • लद्दाख में शिक्षा का स्तर

    लद्दाख में शिक्षा का स्तर

    जम्मू काश्मीर अध्ययन केंद्र, एवं गरवारे कॉलेज पुणे इनके संयुक्त्त प्रयास से विगत दिनों में लद्दाख में शिक्षा के स्तर को जानने के लिए एक टीम भेजी गयी थी । जिसमें जम्मू काश्मीर अध्ययन केंद्र की और से रंजन जी, अरविन्द जी, अंजलि जी, और गरवारे कॉलेज की और से विनय जी तथा 12 पत्रकारिता के छात्र शामिल थे।

  • हमारे बचपन के वो खेल, जिन्हें हम भूल गए

    क्रिकेट, हॉकी, बास्केटबाल, वॉलीबाल, सक्वाश और टेनिस आदि खेलों के सामने ऐसे लगने लगा है कि हमारे देश में कोई भी खेल नहीं खेला जाता था और खेलना कूदना हमें अंग्रेज़ों ने ही सिखाया।

  • एक जैसी हो सेवानिवृत्त कर्मचारियों के लिए पेंशन नीति

    एक जैसी हो सेवानिवृत्त कर्मचारियों के लिए पेंशन नीति

    आज के भारत में अगर अपनी बात कहने के लिए यह कहा जाए की भारत की १०% के करीब जन संख्या बरिष्ठ नागरिकों की है ( ६० वर्ष आयु से ऊपर) एवं इस में से करीब ७० से ७५% प्रतिशत भारत के देहात में बस्ती है तो यह गलत नहीं होगा और उन में से अधिकांश को किसी प्रकार की ‘सेवा निब्रिती’ पेंशन नहीं मिलती है.

  •  वट वृक्ष से लेकर रेंड़ तक लहलहा रहे हैं फेसबुक जंगल में

     वट वृक्ष से लेकर रेंड़ तक लहलहा रहे हैं फेसबुक जंगल में

    हालाँकि सभीं वस्तु के दो पहलू होते हैं, इसी तरह हर इजाद की गई चीज सकारात्मक एवं नकारात्मक दोनों परिणाम देती है।

  • टेलर स्विफ्ट ने बनाया एक स्थान पर ६ दिन लगातार सोल्ड आउट शो का रिकॉर्ड

    टेलर स्विफ्ट ने बनाया एक स्थान पर ६ दिन लगातार सोल्ड आउट शो का रिकॉर्ड

    टेलर स्विफ्ट संगीत की दुनिया का एक जाना माना नाम हैl अमेरिका के आलावा और सभी देशों में भी इनके गाने बहुत ही पसंद किये जा रहे हैंl टेलर इनदिनों अपने अल्बम १९८९ का प्रचार करने के लिए दुनिया भर में शो कर रही हैंl

  • जनसंख्या वृद्धि धर्म से नहीं अशिक्षा से जुड़ी समस्या

    जनसंख्या वृद्धि धर्म से नहीं अशिक्षा से जुड़ी समस्या

    बिहार में होने वाले विधानसभा चुनाव से पूर्व वर्तमान भाजपा सरकार ने यह आंकड़े जारी कर इसका राजनैतिक लाभ उठाने की कोशिश की है।

  • कोहिनूर की रोमाँचक दास्तानः जिसके पास रहा वो बर्बाद हो गया!

    कोहिनूर की रोमाँचक दास्तानः जिसके पास रहा वो बर्बाद हो गया!

    भारतीय मूल के ब्रिटिश सांसद कीथ वाज ने अपनी सरकार से कोहिनूर हीरे को भारत को लौटाने का आग्रह करके ब्रिटेन की महारानी के मुकुट में सुशोभित अनमोल हीरे को एक बार फिर सुर्खियों में ला दिया था।

Back to Top