आप यहाँ है :

दुनिया मेरे आगे
 

  • नोटबंदी का एक दूसरा पहलू ये भी

    नोटबंदी के एक वर्ष पूरा होने पर जिस तरह सरकार और विपक्ष में तलवारें खींची हुईं हैं उन्हें अस्वाभाविक नहीं कहा जा सकता।

  • ये ज़हर तो हमने ही उगला है

    ये ज़हर तो हमने ही उगला है

    उत्तर भारत का एक बड़ा हिस्सा इन दिनों प्रदूषण युक्त घने कोहरे से ढका हुआ है।

  • तब इंदिरा गाँधी ने कहा था ये खिचड़ी सरकार है

    तब इंदिरा गाँधी ने कहा था ये खिचड़ी सरकार है

    भारतीय परिवारों में खिचड़ी महज एक प्रकार का भोजन नहीं है, वरन् यह एक पारंपरिक पकवान है। खिचड़ी को भारत के त्यौहारों का मान समझा जाता है। ऐसे कई त्यौहार आते हैं, जिसके दौरान खिचड़ी बनाया जाना अनिवार्य है।

  • क्या असम भारत का स्पोर्ट्स हब बन सकता है?

    क्या असम भारत का स्पोर्ट्स हब बन सकता है?

    भारत के पूर्वोत्तर क्षेत्र ने देश को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर नाम रोशन करने वाले खिलाड़ी दिए हैं। एम.सी. मैरी कोम ने 2012 के ओलंपिक खेलों की मुक्केबाज़ी प्रतिस्पर्धा में कांस्य पदक जीतने के अलावा मुक्केबाज़ी की चैंपियन्स ट्रॉफी में भी 5 बार पदक हासिल किए।

  • साहब भारत इसी तरह तो चलता है

    साहब भारत इसी तरह तो चलता है

    वैसे तो भारत में राहुल गाँधी जी के विचारों से बहुत कम लोग इत्तेफाक रखते हैं (यह बात 2014 के चुनावी नतीजों ने जाहिर कर दी थी) लेकिन अमेरिका में बर्कले स्थित यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया में जब उन्होंने वंशवाद पर पूछे गए एक सवाल के जवाब में "भारत इसी तरह चलता है

  • अथ गौरी लंकेश कथा और कर्नाटक में हुए हत्याकांड

    अथ गौरी लंकेश कथा और कर्नाटक में हुए हत्याकांड

    वामपंथी पत्रकार गौरी लंकेश की हत्या के बाद देश में जिस प्रकार का वातावरण बनाया गया है, वह आश्चर्यचकित करता है। नि:संदेह हत्या का विरोध किया जाना चाहिए। सामान्य व्यक्ति की हत्या भी सभ्य समाज के माथे पर कलंक है।

  • शिक्षा में अरुचि : दायित्व किसका ?

    सर्वपल्ली डॉ राधाकृष्णन के जन्मदिवस के उपलक्ष्य में मनाया जाने वाला ‘शिक्षक दिवस’, विद्यालयों और शिक्षण संस्थानों में मनाये जाने वाले किसी उत्सव से कम नहीं है।

  • भारतीय महिलाओं की दिशा एवं दशा

    भारतीय महिलाओं की दिशा एवं दशा

    गौरतलब है कि आजाद भारत में महिलाओं ने दिन-प्रतिदिन अपनी लगन, मेहनत एवं सराहनीय कार्यो द्वारा राष्ट्रीय पटल पर अपनी पहचान बनाने में कामयाब हुई हैं. मौजूदा दौर में महिलाएँ नए भारत के आगाज़ की अहम कड़ी दिख रही हैं.

  • पाखंडियों के आगे जब सरकारें और नेता हाजरी लगाते हैं

    पाखंडियों के आगे जब सरकारें और नेता हाजरी लगाते हैं

    गुरमीत राम रहीम प्रकरण में ऐसे अनेक पहलू उभरे जिन पर गहन चर्चा आवश्यक है। पूरे देश के मानस को टटोला जाए तो इस प्रकरण को लेकर आपको आंतरिक उबाल दिखेगा। लोेगों को साफ लग रहा है कि जो कुछ नहीं होना चाहिए था

  • श्रीराम नगर, लाल बाग-‘‘पहले भी हारा और अब भी हार रहे हैं’’

    दिल्ली का पूर्वी इलाका शहादरा एक समय में सबसे लम्बे फ्लाईओवर के लिए जाना जाता था। फ्लाईओवर के ऊपर सरपट दौड़ती हुई गाड़ियां दिल्ली से यूपी और यूपी से दिल्ली में आती-जाती हैं। दिल्ली के लोगों ने सबसे पहला मेट्रो का सफर शहादरा से कश्मीरी गेट और कश्मीरी गेट से शहादरा तक किया था।

Back to Top