आप यहाँ है :

आपकी बात
 

  • 35 ए को न सरकारें समझी न अदालतें, फिर भी ये लागू रहा-4

    35 ए को न सरकारें समझी न अदालतें, फिर भी ये लागू रहा-4

    भारत के संविधान के अनुषेद 370 को अकसर विवादों के घेरे में धकेला जाता रहा है. इस में कोई शक नहीं है कि अनुच्दछे -370 को संविधान में डालने की आवश्यकता पर प्रश्न खड़े किए जा सकते हैं

  • धारा 35 एः हकीकत जो हर बार छुपाई जाती रही है ः2

    धारा 35 एः हकीकत जो हर बार छुपाई जाती रही है ः2

    1947 में जब भारत का विधान लिखा गया उस समय भारत के नेता पहली बार एक विधान लिख रहे थे इस लिए उस समय किसी बात की ओर उनका सूक्ष्मता से ध्यान न गया हो ऐसा हो सकता है इस लिए कुछ कमियाँ उस समय की सोच और फैसलों में रह सकती है .

  • धारा 35 एः  शहीद सैनिकों की राष्ट्र भक्ति पर भी सवाल उठाती है-1

    धारा 35 एः शहीद सैनिकों की राष्ट्र भक्ति पर भी सवाल उठाती है-1

    आज के दिन भारत के जम्मू कश्मीर राज्य के संधर्व में ‘अनुच्छेद 35A‘ चर्चा में है ! इस अनुच्छेद पर चर्चा अनुच्छेद 370 से भी उग्र रूप लेती जा रही है और जम्मू कश्मीर के कुछ नेताओं ने , ख़ास कर कश्मीर घाटी के नेताओं ने तो एक तरह से भारतीय सुप्रीम कोर्ट को भी चेतावनियाँ दे डाली हैं क्यों कि इस अनुच्छेद के अस्तित्व कपर ही प्रश्न करने वाली एक याचिका उच्चतम न्यायालय के सामने है !

  • धारा 35 एः  शहीद सैनिकों की राष्ट्र भक्ति पर भी सवाल उठाती है-1

    धारा 35 एः शहीद सैनिकों की राष्ट्र भक्ति पर भी सवाल उठाती है-1

    भारत का संविधान लिखने के बाद और भारत की रियासत जम्मू कश्मीर के लिए जम्मू कश्मीर के विधान के लिखने के पहले भारत के उस समय के कांग्रेस के शीर्ष नेता जवाहर लाल नेहरु ने उस समय के महाराजा हरी सिंह द्वारा नियुक्त किए गए प्रधानमंत्री शेख मोहमद अब्दुल्लाह के साथ 1952 में एक समझोता किया था .

  • विफलताओँ के बावजूद आप चुनाव तो जीत जाएंगे, पर भरोसा खो बैठेंगें !

    विफलताओँ के बावजूद आप चुनाव तो जीत जाएंगे, पर भरोसा खो बैठेंगें !

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने मंत्रिमंडल में परिवर्तन कर देश की जनता को यह संदेश देने की कोशिश की है कि वे राजनीतिक संस्कृति में परिवर्तन के अपने वायदे पर कायम हैं। वे यथास्थिति को बदलना और निराशा के बादलों को छांटना चाहते हैं।

  • विकृत धार्मिकता और अंध-आस्था से मुक्ति मिले

    विकृत धार्मिकता और अंध-आस्था से मुक्ति मिले

    डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह को बलात्कार के मामले में पंचकूला की सीबीआइ अदालत द्वारा दोषी ठहराए जाने के बाद बड़े पैमाने पर उपद्रव, आगजनी और हिंसा का जो नजारा देखने में आया, वह देश केे लिये दुखद एवं त्रासद स्थिति है।

  • हे प्रभु! तुम न तो अपराधी हो और न ही कायर, अपनी योग्यता का लाभ देश की जनता को लेने दो।

    हे प्रभु! तुम न तो अपराधी हो और न ही कायर, अपनी योग्यता का लाभ देश की जनता को लेने दो।

    राजनीति की इस काल कोठरी में एक सक्षम, दूरदर्शी और ईमानदार नीतियों से अपनी धाक जमाने वाले श्री सुरेश प्रभु के स्तीफे को लेकर सोशल मीडिया से लेकर राजनीतिक मंचो और आम आदमी के बीच कई प्रतिक्रियाएँ सामने आ रही है।

  • तीन तलाक पर फैसला ऐतिहासिक है

    तीन तलाक पर फैसला ऐतिहासिक है

    उच्चतम न्यायालय ने 395 पृष्ठों के अपने फैसले के अंत में केवल एक पंक्ति लिखा है- 3ः2 के बहुमत से तलाक-ए-विद्दत यानी तीन तलाक की प्रथा को समाप्त किया जाता है। इस पंक्ति के बाद किसी प्रकार के किंतु-परंतु की गुंजाइश नहीं रह जाती है जैसा कुछ लोग फैसले की व्याख्या कर रहे हैं।

  • आखिर इन मौतों का जिम्मेदार कोई तो है

    आखिर इन मौतों का जिम्मेदार कोई तो है

    सामान्य स्थिति में यह कल्पना से परे है कि देश के किसी बड़े अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी हो जाए और छटपटाकर मासूमों की मौत होने लगे। चूंकि ऐसा हुआ है इसलिए हमें इसे स्वीकारना पड़ रहा है। मौत के आंकड़ों पर मत जाइए।

  • स्वतंत्रता दिवस पर श्रीनगर में रहकर पता चला आज़ादी क्या होती है

    जब पूरा देश फेसबुक और व्हाट्सएप पर आज़ादी की बातें कर रहा था, तिरंगे वाली डिस्प्ले पिक्चर लगाकर देश के प्रति अपना प्यार जता रहा था, मैं यहां कश्मीर के एक प्राइवेट हॉस्टल के अपने कमरे में बैठकर आज़ादी के बारे में सोच रही थी.

  • Page 1 of 28
    1 2 3 28

ईमेल सबस्क्रिप्शन

PHOTOS

VIDEOS

Back to Top

Page 1 of 28
1 2 3 28