आप यहाँ है :

आपकी बात
 

  • जिन्ना हाउस ध्वस्त होना ही चाहिए, आखिर भारत के विभाजन की निशानी है

    जिन्ना हाउस ध्वस्त होना ही चाहिए, आखिर भारत के विभाजन की निशानी है

    पाकिस्तान के राष्ट्रपिता मोहम्मद अली जिन्ना ने भारत के टुकड़े करने के लिए जिस जगह का उपय़ोग किया, वह जिन्ना हाउस एक बार फिर खबरों में है। इस बार उसे ध्वस्त करने की मांग की गई है। महाराष्ट्र में बीजेपी के वरिष्ठ विधायक मंगल प्रभात लोढ़ा चाहते हैं कि भारत के विभाजन की याद दिलानेवाले जिन्ना हाउस को ध्वस्त करके उसकी जगह एक कल्चरल सेंटर का बनाना चाहिए। विधायक लोढ़ा ने जिन्ना हाउस को ध्वस्त करने की यह मांग विधानसभा में की। आज़ादी से पहले भारत के तीन टुकड़े

  • यमुना का प्रदूषण और उमा भारती के प्रयास

    यमुना का प्रदूषण और उमा भारती के प्रयास

    यमुना नदी यमनोत्री ग्लेशियर से निकलती है और गंगा नदी की सबसे बडी सहायक नदी है आज यह नदी गंगा नदी से भी ज्यादा प्रदूषित है। भारतवर्ष की सर्वाधिक पवित्र और प्राचीन नदियों में यमुना को गंगा के साथ रखा जाता है। जिस तरह गंगा नदी का सांस्कृतिक इतिहास है उसी प्रकार यमुना नदी का भी सांस्कृतिक इतिहास है। सम्पूर्ण ब्रज क्षेत्र की तो यमुना एक मात्र महत्वपूर्ण नदी है। जहां तक ब्रज संस्कृति का संबध है, यमुना को केवल नदी कहना ही पर्याप्त नहीं है। वस्तुतः यह ब्रज संस्कृति की सहायक, इसकी दीर्ध कालीन परम्परा की प्रेरक

  • इस्लाम,संगीत,फ़तवा और फ़तवेबाज़

    इस्लाम,संगीत,फ़तवा और फ़तवेबाज़

    इस्लाम धर्म से संगीत के क्या रिश्ते हैं,रिश्ते हैं भी या नहीं यह बहस काफी पुरानी है। निश्चित रूप से इस्लाम धर्म का ही एक वर्ग संगीत को इस्लाम विरोधी बताता है। परंतु इस्लाम के ही अनेक वर्ग या फिरके ऐसे भी हैं जो संगीत अथवा संगीत से संबंधित धुनों के प्रति अपना नरम रुख रखते हैं। वैसे तो संगीत को इस्लाम विरोधी बताने वाले लोग भी इस बात का जवाब नहीं दे पाते कि नमाज़ के वक्त अज़ान देते समय सुरीले लहजे का इस्तेमाल क्यों किया जाता है? और उन्हीं की जमात के लोग कुरान शरीफ की तिलावत करते समय राग व धुन के साथ झूम-झूम

  • संकट में भारत का पहला नदी द्वीप ज़िला माजुली

    संकट में भारत का पहला नदी द्वीप ज़िला माजुली

    ब्रह्यपुत्र - एक नद्य है, बु्रहीदिहिंग - एक नदी। एक नर और एक नारी; दोनो ने मीलों समानान्तर यात्रा की। अतंतः लखू में आकर सहमति बनी। लखू में आकर दोनो एकाकार हो गये। एकाकार होने से पूर्व एक नदी द्वीप बनाया। असमिया लोगों को मिलन और मिलन से पूर्व की रचा यह नदी द्वीप इतना पसंद आया कि उन्होने इसे अपना आशियाना ही बना लिया। असमिया भाषा भी क्योंकर पीछे रहती। वह भी कुहूक उठी - 'माजुली'। बस, यही नाम मशहूर हो गया। 1661 से 1669 के बीच माजुली में कई भूकम्प आये। लगातार आये इन भूकम्पों के बाद 15 दिन लंबी बाढ़ आई। वर्ष था - 1750। इस लंबी बाढ़ के बाद ब्रह्मपुत्र नदी दो उपशाखाओं में बंट गई - लुइत खूटी और ब्रुही खूटी। ब्रह्यपुत्र की ओर की उपशाखा को लुइत खूटी, तो ब्रुहीदिहिंग

  • आईएस आतंकवादियों की गिरफ्तारी भयभीत करने वाला

    आईएस आतंकवादियों की गिरफ्तारी भयभीत करने वाला

    निश्चित रुप से इस खबर से देशभर में भय और सनसनाहट का माहौल बना हुआ है। यह पहली बार है जब देश में इस्लामी स्टेट यानी आईएसआईएस के दो संदिग्ध आतंकवादी पकड़े गए हैं। जी हां, गुजरात पुलिस की माने तो दोनों आतंकवादियों को उस समय गिरफ्तार किया गया जब वे अलग-अलग विस्फोटक बनाने में लगे हुए थे।

  • तीन तलाक: फैसला संविधान पीठ करेगी

    तीन तलाक: फैसला संविधान पीठ करेगी

    हमारे समाज में एक सोच बहुत ज्यादा प्रभावशाली है और वो है बिना सोचे-समझे किसी प्रथा को जन्म दे देना। संपूर्ण ज्ञान ना होते हुए भी लोग परम्पराओं को मान देने लगते हैं फिर चाहे वे किसी अन्य के लिए दुखदायी ही क्यों ना हो।

  • क्या भाजपा ने गंगा को चुनावी अछूत मान लिया है ?

    क्या भाजपा ने गंगा को चुनावी अछूत मान लिया है ?

    लोकसभा चुनाव - 2014 में नरेन्द्र भाई मोदी ने गंगा को मां बताया था। आज मां गंगा की कोई चर्चा नहीं है; न मोदी जी के भाषण में, न उमा भारती जी की उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री बनने की उड़ान में। इस बार मोदी जी ने अपने को उत्तर प्रदेश का गोद लिया बेटा कहा है।

  • तमाशा बनते ‘फ़तवे’ व ‘फ़तवेबाज़’

    तमाशा बनते ‘फ़तवे’ व ‘फ़तवेबाज़’

    फ़तवा इस्लाम धर्म से जुड़ी एक ऐसी व्यवस्था को कहा जाता है जिसमें इस्लाम धर्म का ज्ञान रखने वाले शिक्षित लोगों की एक समिति अथवा धार्मिक मामलों के जानकार यानी मुफ़्ती द्वारा अपने अनुयाईयों को दिशा निर्देश जारी किया जाता है। आमतौर पर फ़तवा लेने या देने की स्थिति उस समय पैदा होती है जब क़ुरान

  • नगालैंड की इस हिंसा पर क्या कहें

    नगालैंड की इस हिंसा पर क्या कहें

    नगालैंड की हिंसा विचलित करने वाली है। देश के अन्य भागों में इसकी कल्पना नहीं की जा सकती है कि स्थानीय निकायों में महिलाओं के लिए आरक्षण का ऐसा तीखा विरोध हो सकता है।

  • सशक्त वित्तीय अनुशासन का सन्देश

    सशक्त वित्तीय अनुशासन का सन्देश

    बजट हर वर्ष आता है। अनेक विचारधाराओं वाले वित्तमंत्रियों ने विगत में कई बजट प्रस्तुत किए। पर हर बजट लोगों की मुसीबतें बढ़ाकर ही जाता है। लेकिन इस बार बजट ने नयी परम्परा के साथ राहत की सांसें दी है।

  • Page 1 of 21
    1 2 3 21

ईमेल सबस्क्रिप्शन

PHOTOS

VIDEOS

Back to Top

Page 1 of 21
1 2 3 21