आप यहाँ है :

आपकी बात
 

  • देश भक्ति और कृष्ण भक्ति का अनूठा संयोग

    देश भक्ति और कृष्ण भक्ति का अनूठा संयोग

    इस साल 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस और श्रीकृष्ण जन्माष्टमी दोनों साथ-साथ पडे हैं, दोनों पर्वों का अपना-अपना महत्व है।

  • मोदी सरकार द्वारा मुस्लिम लड़कियों को ‘शादी शगुन’ क्या तुष्टिकरण नहीं ?

    मोदी सरकार द्वारा मुस्लिम लड़कियों को ‘शादी शगुन’ क्या तुष्टिकरण नहीं ?

    केंद्र सरकार ने मुस्लिम समुदाय से संबंध रखने वाली तथा स्नातक तक अपनी पढ़ाई पूरी करने वाली युवतियों हेतु 51 हज़ार रुपये की धनराशि ‘शादी शगुन’ के तौर पर देने की घोषणा की है।

  • वैचारिक संघर्ष नहीं, केरल में है लाल आतंक

    वैचारिक संघर्ष नहीं, केरल में है लाल आतंक

    केरल पूरी तरह से कम्युनिस्ट विचारधारा के 'प्रैक्टिकल' की प्रयोगशाला बन गया है। केरल में जिस तरह से वैचारिक असहमतियों को खत्म किया जा रहा है, वह एक तरह से कम्युनिस्ट विचार के असल व्यवहार का प्रदर्शन है। केरल में जब से कम्युनिस्ट सत्ता में आए हैं, तब से कानून का राज अनुपस्थिति दिखाई दे रहा है।

  • असहिष्णुता की बहस के बीच केरल की राजनीतिक हत्याएं

    केरल में आए दिन हो रही राजनीतिक हत्याओं से एक सवाल उठना लाजिमी है कि भारत जैसे प्रजातांत्रिक देश में क्या असहमति की आवाजें खामोश कर दी जाएगीं? एक तरफ वामपंथी बौद्धिक गिरोह देश में असहिष्णुता की बहस चलाकर मोदी सरकार को घेरने का असफल प्रयास कर रहा है।

  • जमीन से जुड़े कोविन्द से जगी है नयी उम्मीदें

    जमीन से जुड़े कोविन्द से जगी है नयी उम्मीदें

    देश के नए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का शपथ ग्रहण के बाद पहला उद्बोधन नयी आशाओं एवं उम्मीदों को जगाता है। उन्होंने उचित ही इस ओर ध्यान खींचा कि हमारी विविधता ही हमें महान बनाती है।

  • केवल आकाओं को सन्मति दे भगवान

    केवल आकाओं को सन्मति दे भगवान

    भारतीय लोकतंत्र एक बार फिर शर्मसार हुआ, सांसदों के अमर्यादित व्यवहार ने संसद की गरिमा को धुंधलाया है। कांग्रेस के छह सांसदों ने लोकसभा में जैसी अराजकता एवं अभद्रता का परिचय दिया और जिसके चलते उन्हें पांच दिनों के लिए निलंबित किया गया, यह भारतीय लोकतंत्र की एक दुर्भाग्यपूर्ण घटना है।

  • रेलवे को संवेदनशील बनाना होगा

    रेलवे को संवेदनशील बनाना होगा

    भारतीय जन-जीवन की आर्थिकी से लेकर सांस्कृतिक परिदृश्य तक भारतीय रेल एक सतत महत्वपूर्ण आधार और सशक्त माध्यम है, इसीलिए उसकी अव्यवस्था और बदहाली राष्ट्रीय चिंता का बड़ा कारण मानी जाती है। तरह-तरह की उपलब्धियों के बावजूद रेल यात्रियों को सफर में हर कदम पर कठिनाइयों से जूझना पड़ता है।

  • कोविंदजी! अब देश आश्वस्त होना चाहता

    कोविंदजी! अब देश आश्वस्त होना चाहता

    श्री रामनाथ कोविन्द देश के चैहदवें नए राष्ट्रपति चुन लिए गए हैं। वह एक दलित के बेटे हैं जो सर्वोच्च संवैधानिक पद पर पहुंचने की दूसरी घटना है, जिससे भारत के लोकतंत्र नयी ताकत मिलेगी, दुनिया के साथ-साथ भारत भी तेजी से बदल रहा है।

  • पुलिस  सुधार के लिए भारत इंग्लॅण्ड से सीखे

    पुलिस सुधार के लिए भारत इंग्लॅण्ड से सीखे

    पुलिस दुराचरण के विरुद्ध लगातार शिकायतें मिलती रहती हैं | वर्ष 2007 में बनाए गए विभिन्न राज्यों के विकलांग पुलिस कानून में प्रावधान की गयी कमेटियों का आजतक गठन नहीं हुआ है व राजस्थान उनमें से एक है | यद्यपि इन कमेटियों के गठन से भी धरातल स्तर पर कोई लाभ नहीं होने वाला क्योंकि जांच के लिए पुलिस का ही सहारा लिया जाता है |

  • भारतीय पुलिस संस्कृति में भ्रष्टाचार की जड़ें

    भारतीय पुलिस संस्कृति में भ्रष्टाचार की जड़ें

    भारतीय पुलिस में भ्रष्टाचार सर्वविदित और सुज्ञात है| जो इस विभाग में ईमानदार दिखाई देते हैं वे भी लगभग ईमानदारी का नाटक ही कर रहे हैं और वे महाभ्रष्ट नहीं होने से ईमानदार दिखाई देते हैं| भ्रष्ट भी दो तरह के होते हैं – एक वे जो माँगते नहीं अपितु दान दक्षिणा स्वीकार करते है – पुजारी होते हैं|

  • Page 2 of 28
    1 2 3 4 28

ईमेल सबस्क्रिप्शन

PHOTOS

VIDEOS

Back to Top

Page 2 of 28
1 2 3 4 28