आप यहाँ है :

आपकी बात
 

  • मोदीः जनविश्वास पर खरा उतरने की चुनौती

    मोदीः जनविश्वास पर खरा उतरने की चुनौती

    जिस दौर में राजनीति और राजनेताओं के प्रति अनास्था अपने चरम पर हो, उसमें नरेंद्र मोदी का उदय हमें आश्वस्त करता है। नोटबंदी, कैसलेश जैसी तमाम नादानियों के बाद भी नरेंद्र मोदी लोगों के दुलारे बने हुए हैं, तो यह मामला गंभीर हो जाता है।

  • बयानबाज़ी नहीं, कार्रवाई होनी चाहिए

    बयानबाज़ी नहीं, कार्रवाई होनी चाहिए

    गंगा-जमुनी तहज़ीब हमारे देश की रूह है. संतों-फ़क़ीरों ने इसे परवान चढ़ाया है. प्रेम और भाईचारा इस देश की मिट्टी के ज़र्रे-ज़र्रे में है. कश्मीर से कन्याकुमारी तक हमारे देश की संस्कृति के कई इंद्रधनुषी रंग देखने को मिलते हैं.

  • दूषित सोच से लोकतंत्र का कमजोर होना

    दूषित सोच से लोकतंत्र का कमजोर होना

    पिछले दिनों हमारी संकीर्ण सोच एवं वीआईपी संस्कृति में कुछ विरोधाभासी घटनाओं ने न केवल संस्कृति को बल्कि हमारे लोकतंत्र को भी शर्मसार किया है।

  • भारत को अमेरिका बनाने के संकल्प का सत्य

    भारत को अमेरिका बनाने के संकल्प का सत्य

    अमेरिका के वर्जीनिया में भारतीय प्रवासियों को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारत को अमेरिका बनाकर दिखाने का संकल्प व्यक्त किया है। 66 साल के मोदी ने अपनी इसी जिन्दगी में ऐसा करने का विश्वास व्यक्त करना कहीं अतिश्योक्ति तो नहीं है?

  • क्या कर्ज माफी समाधान है किसानों की समस्याओं का

    क्या कर्ज माफी समाधान है किसानों की समस्याओं का

    इस समय देश भर में किसानों का जो आंदोलन हमें दिख रहा है उसमें यद्यपि कृषि से जुड़ी अनेक समस्याओं की गूंज है, लेकिन इसमें मुख्य स्वर कर्ज माफी का है। आप देखेंगे कि जहां भी किसान सड़कों पर हैं या सड़कों पर उतरने की चेतावनी दे रहे हैं उसमें कर्ज माफी की मांग पहले स्थान पर है।

  • अपराधी प्रिय भारतीय न्याय-व्यवस्था का शुद्धिकरण कैसे हो

    अपराधी प्रिय भारतीय न्याय-व्यवस्था का शुद्धिकरण कैसे हो

    जब अधिक माइलेज देने वाली हीरोहौंडा मोटरसाइकिल भारत में आई थी तब विज्ञापन में कहा जाता था – फिल इट, शट इट एंड फॉरगेट इट। ऐसा ही कुछ भारतीय न्यायपालिका के विषय में कहा जाता है – फाइल एंड फॉरगेट यानी दावा दायर करो और भूल जाओ।

  • पुलिस प्रशासन निष्क्रिय-चोर सक्रिय

    पुलिस प्रशासन निष्क्रिय-चोर सक्रिय

    वैसे तो किसी भी प्रकार की सामाजिक अच्छाई अथवा बुराई के आंकड़ों का सीधा संबंध बढ़ती हुई जनसंख्या की दर से है। जैसे-जैसे जनसंख्या वृद्धि होती जा रही है उसी के अनुसार समाज में जहां अच्छाईयां बढ़ रही हैं वहीं बुराईयां भी उससे अधिक तेज़ अनुपात से बढ़ती जा रही हैं।

  • योग से आती है मनुष्य में सकारात्मकता

    योग से आती है मनुष्य में सकारात्मकता

    हर साल अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 21 जून को मनाया जाता है। इस साल पूरे विश्व में तृतीय अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाया जाएगा। भारत देश में योग दिवस का एक अपना ही अलग महत्त्व है। योग भारतीय प्राचीन संस्कृति की परम्पराओं को समाहित करता है।

  • राहुल गाँधी का अज जन्म दिन है-कुछ बातें जानिए उनके बारे में

    राहुल गाँधी का अज जन्म दिन है-कुछ बातें जानिए उनके बारे में

    कांग्रेस के उपाध्यक्ष राहुल गांधी एक ऐसी शख़्सियत के मालिक हैं, जिनसे कोई भी मुतासिर हुए बिना नहीं रह सकता. उनके बारे में लिखना इतना आसान नहीं है. लिखने बैठें, तो लफ़्ज़ कम पड़ जाएंगे. देश के प्रभावशाली राज घराने से होने के बावजूद उनमें ज़र्रा भर भी ग़ुरूर नहीं है.

  • मुद्दा सरकारी सुविधाओं के दुरुपयोग का है

    मुद्दा सरकारी सुविधाओं के दुरुपयोग का है

    भारत एक ऐसा देश है, जिसमें निज़ाम के लिहाज़ से कई देश बसते हैं. देश का एक निज़ाम अमीरों के लिए है, राजनेताओं के लिए है, प्रभावशाली लोगों के लिए है. ये सरकारी निज़ाम इनके एक इशारे पर इन्हें तमाम सुविधाएं मुहैया कराता है.

  • Page 2 of 26
    1 2 3 4 26

ईमेल सबस्क्रिप्शन

PHOTOS

VIDEOS

Back to Top

Page 2 of 26
1 2 3 4 26