आप यहाँ है :

आपकी बात
 

  • भारत-पाक रिश्तेः कब पिघलेगी बर्फ

    नरेंद्र मोदी की पाकिस्तानी प्रधानमंत्री से मुलाकात और उनका पाकिस्तान जाने का फैसला साधारण नहीं है। आखिर एक पड़ोसी से आप कब तक मुंह फेरे रह सकते हैं? बार-बार छले जाने के बावजूद भारत के पास विकल्प सीमित हैं, इसलिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की इस साहसिक पहल की आलोचना बेमतलब है। पूर्व प्रधानमंत्री अटलजी स्वयं […]

  • ऐसों पर तो ख़ुदा की लानत

    कुख्यात आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट (आईएस)को इराक़ तथा सीरिया के बड़े इलाके पर नियंत्रण किए हुए एक वर्ष बीत चुका है। इस दौरान स्वयं को मुसलमान बताने वाले आईएस के लड़ाकों ने अपने कथित स्वयंभू ख़लीफ़ा अबु बकर अल बग़दादी के नेतृत्व में आतंक,क्रूरता तथा वहशीपन का वह इतिहास रचा है जिसने दुनिया के अब […]

  • क्या कश्मीरी हिन्दुओं की किस्मत में तारीख पे तारीख़ तारीख़ पे तारीख़ ही बची है ?

    जिस प्रकार से जम्मू कश्मीर की सरकार के मुख्य मंत्री और ऊपमुख्यमंत्री टूरिस्ट को कश्मीर घाटी में आने का निमंत्रण देने के लिए देश में भ्रमण करने निकाले थे क्या अच्छा नहीं होता कि अगर बे इस प्रकार से कश्मीरी विस्थापितों के बीच जा कर उन का विश्वास जीतने की कोशिश करते। पर एसा नहीं […]

  • मुंबई से इन्दौर दुरंतो यात्रा का दुखांत अनुभव

    मुंबई से इन्दौर की दुरंतो की रेल यात्रा की शुरुआत अंधेरी स्टेशन से की, 9 मई की रात को दस बजे अंधेरी स्टेशन पर अपनी 10 साल की बेटी के साथ पहुँचा तो रेल्वे के लोकल टिकट के सभी काउंटर बंद थे, लोकल से लेकर लंबी दूरी का टिकट खरीदने के लिए यात्री बदहवास से […]

  • सांस्कृतिक राष्ट्रवाद की आधारशिला पर खड़ा होता भारत

    "राष्ट्र सर्वोपरि" यह कहते नहीं बल्कि उसे जीते है प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी। पिछले कुछ दशकों में भारतीय जनमानस का मनोबल जिस प्रकार से टूटा था और अब मानों उसमें उड़ान का एक नया पंख लग गया है और अपने देश ही नहीं दुनिया भर में भारत का सीना चौड़ा करके शक्ति संपन्न राष्ट्रों एवं पड़ोसी […]

  • मोदी सरकार से क्या हासिल हुआ?

       टूटे हुए भरोसे को जोड़ने और आम नागरिकों के आत्मविश्वास की सरकार                           नरेंद्र मोदी सरकार के एक साल पूरे होने पर मीडिया में विमर्श, संवाद और विवाद निरंतर है। एक सरकार जिसने अपने एक साल पूरे किए हैं, वह स्वयं भी […]

  • देश के संपूर्ण विकास पर आधारित है मोदी सरकार की सोच!

    सरकार का तो नारा ही है- ‘सबका साथ सबका विकास’. एक प्रधानमंत्री के रूप में देश को आगे बढ़ाने का जो नजरिया चाहिए, वह नरेंद्र मोदी के पास है। केंद्र की मोदी सरकार को सत्तासीन हुए एक साल हो रहा है। किसी सरकार के कामकाज की उपलब्धियों की समीक्षा के लिए एक साल का वक्त […]

  • राजभाषा हिन्दी है फिर सरकारी वेबसाइटों पर विदेशी भाषा अंग्रेजी को प्राथमिकता क्यों?

    सेवा में, स्वतंत्र भारत की स्वतंत्र सरकार नई दिल्ली  सन्दर्भ: 2 मार्च 2014 का इसी विषय पर भेजा गया ईमेल  विषय: राजभाषा हिन्दी है फिर सरकारी वेबसाइटों पर विदेशी भाषा अंग्रेजी को प्राथमिकता क्यों? महोदय/महोदया,  अत्यंत पीड़ा के साथ लिख रही हूँ कि भारत सरकार आज़ादी के सडसठ साल बाद भी राजभाषा के नाम पर […]

  • हिंदी के सवाल पर कुंडली मारकर बैठ जाते है पीएमओ के बाबू

    सेवा में, केन्द्रीय सूचना अधिकारी प्रधानमंत्री कार्यालय, नयी दिल्ली, भारत     विषय: सूचना का अधिकार अधिनियम आवेदन   महोदय, कृपया मेरे पिछले आवेदन क्र. PMOIN/R/2014/60666 का संज्ञान लें जो दिनांक 16/06/2014 को दाखिल किया गया था और उसके सम्बन्ध में प्रधानमंत्री कार्यालय ने पूरे छह माह में भी एक भी संतोषजनक उत्तर प्रदान नहीं […]

  • अरविन्द केजरीवाल भी सरकार अंग्रेजी के दम पर चलना चाहते है

    सेवा में, श्री अरविन्द  केजरीवाल  मुख्यमंत्री, दिल्ली शासन     विषय: दिल्ली शासन प्रशासन का कामकाज एवं वेबसाइटें/ऑनलाइन सेवाएँ हिन्दी में करवाने बाबत जनहित याचिका    महोदय,   कृपया मेरे पिछले समय में लिखे गए इन ईमेल का संज्ञान लें, मुझे आज तक इनका कोई उत्तर नहीं मिला है: दिनांक : २८.१२.२०१३ एवं उसके पहले […]

Back to Top