ताजा सामाचार

आप यहाँ है :

चर्चा संगोष्ठी
 

  • कंचना की पुण्य तिथि पर व्य़ख्यानमाला

    कंचना की पुण्य तिथि पर व्य़ख्यानमाला

    दिवंगत पत्रकार और लेखिका कंचना की 12 वीं पुण्यतिथि पर आयोजित व्याख्यानमाला पिछले कई सालों से आप सबके सहयोग से राजधानी में मीडिया का सबसे बड़ा आयोजन बनता रहा है। इसमें मुख्यतया मीडिया और राजनीतिक मसलों पर गंभीर चर्चा होती थी लेकिन इसके स्वरूप में कुछ बदलाव किया गया है।

  • 10-11 अक्टूबर को ग्वालियर में आयोजित मीडिया चौपाल के कार्यक्रम

    10-11 अक्टूबर को ग्वालियर में आयोजित मीडिया चौपाल के कार्यक्रम

    इस चौपाल में अटलबिहारी वाजपेयी हिंदी विवि, जीवाजी विश्वविद्यालय का सहयोग मिल रहा है। इसमें वर्धा हिंदी विवि, इंदौर विवि, इंक मीडिया संस्थान, लखनऊ विवि, खालसा कालेज (दिल्ली विवि), माखनलाल चतुर्वेदी पत्रकारिता विवि, अटल बिहारी हिंदी विवि, जीवाजी विवि के विद्यार्थी और प्राध्यापक भाग ले रहे हैं।

  • नई शिक्षा नीति पर दिग्विजय कालेज में हुई जिला स्तरीय कार्यशाला में किया गया मंथन

    नई शिक्षा नीति पर दिग्विजय कालेज में हुई जिला स्तरीय कार्यशाला में किया गया मंथन

    समावेशी, सहभागिता पूर्ण और समग्र दृष्टिकोण से देश के लिए एक नई शिक्षा नीति तैयार किया जाना है। राष्ट्रीय शिक्षा नीति 1986 में बनाई गई थी और बाद में उसे संशोधित भी किया गया था । तब से अब तक अनेक बदलाव हुए हैं, जिसकी वजह से नीति में संशोधन की आवश्यगकता है।

  • तुलसीदास की रामकथा समूची मानवता का विश्वकोश है: डॉ.चन्द्रकुमार जैन

    तुलसीदास की रामकथा समूची मानवता का विश्वकोश है: डॉ.चन्द्रकुमार जैन

    उच्च शिक्षा मंत्री श्री प्रेमप्रकाश पाण्डेय के मुख्य आतिथ्य में 'मानस में विज्ञान' विषय पर केंद्रित राष्ट्रीय संगोष्ठी में अतिथि वक्ता के रूप में सहभागिता करते हुए दिग्विजय कालेज के हिन्दी विभाग के राष्ट्रपति सम्मानित प्राध्यापक डॉ.चन्द्रकुमार जैन ने कहा कि तुलसीदास की रामकथा समूची मानवता का विश्वकोश है।

  • जल्दी ही भारतीय रेल की एक नई तस्वीर सामने आएगीः श्री सुरेश प्रभु

    जल्दी ही भारतीय रेल की एक नई तस्वीर सामने आएगीः श्री सुरेश प्रभु

    एक्‍सचेंज4मीडिया के पिच टॉप 50 ब्रैंड्स में ‘दैनिक भास्‍कर’ ग्रुप द्वारा प्रस्तुत किए गए इस कार्यक्रम में मुख्‍य अतिथि रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने मार्केटर्स को ‘ब्रैंड बिल्डिंग’ का रुचिकर पाठ भी पढ़ाया।

  • धरती पर उदित होने वाले ‘साहित्य के सूर्य’ हैं प्रेमचंद

    प्रेमचंद जयन्ती पर दिग्विजय महाविद्यालय के हिन्दी विभाग ने किया मर्मस्पर्शी आयोजन  राजनांदगांव। आधुनिक हिन्दी कथा साहित्य के पितामह माने जाने वाले प्रेमचंद की जयन्ती, शासकीय दिग्विजय स्वशासी स्नातकोत्तर महाविद्यालय के हिन्दी विभाग द्वारा कृतज्ञ भाव पूर्वकमनाई गई। इस अवसर पर प्राचार्य डॉ.आर.एन.सिंह के मागदर्शन में हुए विशेष कार्यक्रम में हिंदी के प्राध्यापक गण डॉ.शंकर […]

  • धारा 370 जम्मू कश्मीर के लोगों के लिए सबसे बड़ा धोखा हैः श्री दुबे

    धारा 370 का नाम सुनते ही देश भर में तथाकथित राष्ट्रवादियों की राष्ट्रीय भावनाएँ हिलोंरे लेने लगती है लेकिन इस धारा के बारे में किसी को कुछ पता नहीं, हाँ इसके नाम से सब अपनी राजनीतिक रोटियाँ जरुर सेंकने लग जाते हैं।   सर्वोच्च न्यायालय के जाने माने वकील और धारा 370 के विभिन्न प्रावधानों […]

  • उच्च शिक्षा में गुणवत्ता को संस्कृति और जीवन रेखा की तरह अपनाएँ

    राजनांदगांव। राष्ट्रीय उच्चतर शिक्षा अभियान के अंतर्गत शासकीय दिग्विजय स्वशासी स्नातकोत्तर महाविद्यालय में उच्च शिक्षा में गुणवत्ता पर जिला स्तरीय कार्यशाला आयोजित की गई। निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार विभिन्न महाविद्यालयों के विज्ञान और वाणिज्य विभाग के प्राध्यापकों ने कार्यशाला में लगनशील भागीदारी करते हुए दो सत्रों में अभियान की मंशा के अनुरूप संस्थाओं को अधिक […]

  • नव निर्माण के लिए उच्च शिक्षा में करें सार्थक निवेश – नीलू शर्मा

    दिग्विजय कालेज में शिक्षा में गुणवत्ता पर कार्यशालाओं की प्रभावी श्रृंखला संपन्न  ————————————————- राजनांदगांव। शासकीय दिग्विजय स्वशासी स्नातकोत्तर महाविद्यालय में राष्ट्रीय उच्चतर शिक्षा अभियान के अंतर्गत आयोजित कार्यशालाओं की श्रृंखला का समापन प्राचार्यों सहित मानविकी और कला संकाय प्राध्यापको के मध्य शिक्षा में गुणवत्ता पर व्यापक चिंतन के साथ सफलतापूर्वक हुआ। गरिमामय कार्यक्रम के मुख्य […]

  • फूहड़पन और आक्रामकता जनतंत्र के लिए घातक हैं

    पटना। भारतीय जनतंत्र आज अत्यंत ही नाजुक मोड़ पर खड़ा है और उसे अपनी आबादी के बड़े हिस्से को यकीन दिलाना है कि उसने उसके साथ बराबरी का जो वादा किया था,  उसे लेकर वह ईमानदार और  गंभीर है। यह आबादी आदिवासियों,  मुसलमानों की है जो लगभग सत्तर साल के जनतांत्रिक अनुभव के बावजूद एक […]

Back to Top