आप यहाँ है :

पुस्तक चर्चा
 

  • नई सुबह की नई दिशाएं : ‘गीतों से संवाद’

    नई सुबह की नई दिशाएं : ‘गीतों से संवाद’

    युवा गीतकार विकास यश कीर्ति ने अपने पहले संकलन ‘गीतों से संवाद’ में मनुष्य की प्रेम, विरह, आनन्द, देशभक्ति, करुणा, पीड़ा, संघर्ष, आशा-निराशा और द्वंद्व जैसे अनुभूतियों को पाठकों के सामने गीतों और गजलों के रूप में रखा है.

  • दाउद का एक बेटा है जो बैंगलूरू में रहता है

    दिल्ली पुलिस के पूर्व आयुक्त और सीबीआई के संयुक्त निदेशक पद पर काम कर चुके नीरज कुमार ने खुलासा किया है कि माफिया डॉन दाऊद इब्राहिम ने बॉलीवुड अभिनेत्री से गुपचुप तरीके से शादी की थी और दोनों का एक बेटा है जो कर्नाटक की राजधानी बेंगलूरु में रहता है। कुमार ने यह खुलासा अपनी किताब 'डायल डी' में किया है जो जल्द ही बाजार में आने वाली है।

  • पागल मन फिर बुन रहा सपनों का संसार

    पागल मन फिर बुन रहा सपनों का संसार

    सामान्य से सामान्य लोग चाहे वो अमीर हो या गरीब, शहरी हो या देहाती, पढ़ा-लिखा हो या अनपढ़, सभी को कुछ याद हो या न हो कबीर के दोहे जरूर याद होंगे. ये दोहे आज भी समाज में बड़े पैमाने पर बोले और गाए जाते हैं और भविष्य में भी गाए जाते रहेंगे.

  • प्रथम विश्व युध्द में ब्रिटेन ने भारत के 10 साल के बच्चों तक को झोंक दिया था

    प्रथम विश्व युध्द में ब्रिटेन ने भारत के 10 साल के बच्चों तक को झोंक दिया था

    पहले विश्व युद्ध में भारतीय सैनिकों की भूमिका पर प्रकाशित एक नई किताब के अनुसार पहले विश्व युद्ध में ब्रिटेन ने पश्चिमी मोर्चे पर जर्मनों से टक्कर लेने के लिए 10 साल तक के भारतीय बच्चों का उपयोग किया था।

  • भावों की एक सच्ची अभिव्यक्ति

    भावों की एक सच्ची अभिव्यक्ति

    ‘मैं भारत हूँ’ युवा पत्रकार और लेखक लोकेन्द्र सिंह की प्रथम काव्यकृति है। लोकेन्द्र सिंह मूल रूप से गद्य लेखक हैं। उनके सशक्त समसामयिक आलेख अक्सर हमें पढ़ने मिलते रहते हैं। चूँकि पेशे से पत्रकार हैं इसलिये कमियों और बुराइयों को खोजना और उन पर प्रहार करना उनके कार्य का आग्रह भी है और आवश्यकता भी। लेकिन, प्रस्तुत काव्य संकलन उनका नया रूप सामने लाया है, जो भले ही काव्य-सृजन के इतिहास में अपनी जगह का दावा नहीं करता लेकिन सच्ची और अच्छी भावनाओं का सुन्दर दस्तावेज है।

  • इन्दिरा गाँधी भी राहुल को नहीं प्रियंका को अपना उत्तराधिकारी मानती थी

    इन्दिरा गाँधी भी राहुल को नहीं प्रियंका को अपना उत्तराधिकारी मानती थी

    इंदिरा गांधी को प्रियंका गांधी में अपना राजनीतिक अक्श नजर आता था। वो प्रियंका को अपने राजनीतिक उत्तराधिकारी के तौर पर देखती थीं। ये खुलासा कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एमएल फोतेदार ने किया है। फोतेदार के मुताबिक, जब इस बात की जानकारी सोनिया गांधी को हुई तो वो बहुत परेशान हुईं।

  • हिन्दी मीडिया के चर्चित चेहरों से मुलाकात कराती एक किताब

    हिन्दी मीडिया के चर्चित चेहरों से मुलाकात कराती एक किताब

    हम जिन्हें प्रतिदिन न्यूज चैनल पर बहस करते-कराते देखते हैं। खबरें प्रस्तुत करते हुए देखते हैं। अखबारों और पत्रिकाओं में जिनके नाम से प्रकाशित खबरों और आलेखों को पढ़कर हमारा मानस बनता है। मीडिया गुरु और लेखक संजय द्विवेदी द्वारा संपादित किताब 'हिन्दी मीडिया के हीरो' पत्रकारिता के उन चेहरों और नामों को जानने-समझने का मौका उपलब्ध कराती है।

  • ऋषभदेव शर्मा की पुस्तकों का लोकार्पण संपन्न

    ऋषभदेव शर्मा की पुस्तकों का लोकार्पण संपन्न

    साहित्यिक-सांस्कृतिक संस्था ‘साहित्य मंथन’ के तत्वावधान में खैरताबाद स्थित दक्षिण भारत हिंदी प्रचार सभा के सम्मलेन कक्ष में महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय, वर्धा से पधारे प्रो. देवराज की अध्यक्षता में आयोजित एक समारोह में तीन पुस्तकों को लोकार्पित किया गया.

  • चुप रहने के बदले पाकिस्तान ने अमरीका से माँगा था कश्मीर

    चुप रहने के बदले पाकिस्तान ने अमरीका से माँगा था कश्मीर

    अमरीकी ख़ुफ़िया एजेंसी सीआईए के पूर्व अधिकारी ब्रूस राइडल की एक नई किताब के अनुसार तत्कालीन पाकिस्तानी राष्ट्रपति अयूब ख़ान ने 1962 के भारत-चीन युद्ध के दौरान भारत पर हमला नहीं करने के बदले में अमरीका से कश्मीर की मांग की थी. राइडल ने तीस साल तक सीआईए के साथ काम किया और वो चार अमरीकी राष्ट्रपतियों के सलाहकार भी रहे.

  • बिल क्लिंटन की पिटाई करती थी हिलेरी क्लिंटन

    बिल क्लिंटन की पिटाई करती थी हिलेरी क्लिंटन

    अमेरिका के राष्‍ट्रपति भले ही दुनिया के सबते ताकतवर राष्‍ट्र के प्रमुख माने जाते हों और उनके पास ढेरों शक्तियां हो लेकिन इसके बावजूद उनकी निजी जिंदगी कुछ अलग होती है।

Back to Top