आप यहाँ है :

पुस्तक चर्चा
 

  • ‘सार्थक’ की चौथी किताब ज़ेड प्लस हुई लोकार्पित

    युवाओं के बीच ‘लप्रेक’ के चढ़े सुरूर के बीच ‘सार्थक’ ने आज विश्व पुस्तक मेले में अपनी अगली किताब ज़ेड प्लस फिल्म की औपन्यासिक कथा का लोकार्पण कराया। ‘ज़ेड प्लस’ के बारे में बोलते हुए प्रसिद्ध कवि मंगलेश डबराल ने कहा कि, ‘यह सिनेमा और साहित्य की दूरियों को पाटने का काम करेगी। इसकी भाषा […]

  • असाधारण तेरह कहानियों का संग्रह है फराज़ की नई पुस्तक ‘द अदर साइड’

    अपनी पहली रोमांटिक पुस्तक ‘ट्रूली डिपली मेडली’ की जबरदस्त सफलता के उपरान्त युवा लेखक फराज़ काज़ी अपनी नई पुस्तक ‘द अदर साइड’ को लेकर फिर से चर्चा में हैं। हाल ही में पुस्तक का विमोचन समारोह नई दिल्ली में आयोजित किया गया, जहां लोकप्रिय गायिका शिबानी कश्यप, डिजाइनर संजना जाॅन और पैरानाॅर्मल एक्सपर्ट गौरव तिवारी […]

  • गाँधीजी की हत्या को लेकर नया खुलासा, कैसे फँसाया गया सावरकर को

    फरवरी, 2003 में पहली बार संसद के सेंट्रल हॉल में स्वातंत्र्य वीर सावरकर का चित्र लगाया गया। उस समय एनडीए सरकार थी श्री वाजपेयी प्रधाननमंत्री और श्री मनोहर जोशी लोक सभा के अध्यक्ष, राष्ट्रपति डॉ. अब्दुल कलाम ने तैलचित्र का अनावरण किया। संसदीय इतिहास में, पहली बार कांग्रेस पार्टी ने राष्ट™पति के कार्यÿम का बहिष्कार […]

  • राजीव गाँधी दलाली की रकम काँग्रेस को देना चाहते थे

    ऐसे वक्‍त जब राजनीतिक दलों की फंडिंग को लेकर बवाल मचा हुआ है, एक नई किताब में दावा किया गया है कि राजीव गांधी ने प्रधानमंत्री पद पर रहते हुए एक बेहद विवादित फैसला किया था। किताब में कहा गया है कि राजीव गांधी चाहते थे कि सैन्य साजो-सामान की आपूर्ति करने वालों से मिला […]

  • ‘नेहरू को सताता था तख्तापलट का खौफ’

    पीटीआई द्वारा जारी खबर में दावा किया गया है कि नई दिल्ली पूर्व थल सेनाध्यक्ष वी. के. सिंह ने अपनी किताब में दावा किया है कि देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू को सैन्य तख्तापलट का 'खौफ' था और उन्हें सीमा पर चीनियों की मौजूदगी से अधिक तत्कालीन थलसेना प्रमुख जनरल थिमैया की लोकप्रियता की […]

  • अमरीकी राष्ट्रपति को नहीं भाया भारत भक्त राजदूत

    <p><span style="line-height:1.6em">1971 के युद्ध के दौरान पाकिस्तान के राष्ट्रपति जनरल याह्या खान के खिलाफ कुछ न सुनने वाले तत्कालीन अमेरिकी राष्ट्रपति रिचर्ड निक्सन ने उस दौरान भारत में मौजूद अपने ही राजदूत को &#39;देशद्रोही&#39; और &#39;भारतीय भोंपू&#39; करार दिया था। &nbsp;यह बातें गोपनीय दस्तावेज पर आधारित नई किताब में कही गई हैं। &#39;द ब्लड टेलिग्राम: […]

Back to Top