आप यहाँ है :

श्रद्धांजलि
 

  • आतंकी हमले में मारे गए यात्रियों को श्रध्दांजलि

    आतंकी हमले में मारे गए यात्रियों को श्रध्दांजलि

    मुंबई। 11 वर्ष पूर्व, 11 जुलाई, 2006 को आतंकवादियों द्वारा किये गये कायरतापूर्ण कार्य के फलस्वरूप मुंबई की सात उपनगरीय ट्रेनों के प्रथम श्रेणी डिब्बों में पश्चिम रेलवे के माटुंगा रोड, माहिम जं, बांद्रा, सांताक्रुज, जोगेश्वरी, बोरीवली तथा भायंदर स्टेशनों पर बम धमाके हुए थे।

  • दहतोरा में मृतक मजदूर भीमसेन की आस्कमिक मौत पर किया शोकसभा

    आगरा। दहतोरा में आगरा विकास प्राधिकरण द्वारा भारी पुलिस बल के साथ आबादी में बने हुए मकानों को तोड़फोड़ करने के लिए आने की सूचना सुनकर खसरा संख्या-66 के पीड़ित मजदूर भीमसेन पुत्र स्व. मुंशीलाल की दिल का दौरा पड़ने से आस्कमिक मौत पर दहतोरा स्थित अखिल भारतीय लोधी राजपूत टेलीफोन डायरेक्टरी कार्यालय पर शोक सभा का आयोजन किया गया।

  • वीरांगना झाँसी की रानी लक्ष्मीबाई का 159वां बलिदान दिवस मनाया

    आगरा। 18 जून 2017 दिन रविवार को अखिल भारतीय लोधी राजपूत टेलीफोन डायरेक्टरी के तत्वावधान में देह्तोरा ग्राम स्थित अखिल भारतीय लोधी राजपूत टेलीफोन डायरेक्टरी कार्यालय पर वीरांगना झाँसी की रानी लक्ष्मीबाई का 159वां बलिदान दिवस मनाया गया। जिसमे उनकी तस्वीर पर माल्यार्पण कर उन्हें अपने श्रद्धासुमन अर्पित किये गये।

  • पंजाब को जलती आग से निकाला केपीएस गिल ने

    पंजाब को जलती आग से निकाला केपीएस गिल ने

    गिल एक ऐसे अधिकारी थे जिन्होंने छड़ी के अलावा कभी कोई हथियार नहीं रखा। लेकिन उनमें जूझने का जज्बा आखिर तक बरकरार रहा....

  • श्री अनिल माधव दवेः बौद्धिक तेज से दमकता था उनका व्यक्तित्व

    श्री अनिल माधव दवेः बौद्धिक तेज से दमकता था उनका व्यक्तित्व

    केंद्रीय पर्यावरण मंत्री श्री अनिल माधव दवे,देश के उन चुनिंदा राजनेताओं में थे, जिनमें एक बौद्धिक गुरूत्वाकर्षण मौजूद था। उन्हें देखने, सुनने और सुनते रहने का मन होता था। पानी, पर्यावरण,नदी और राष्ट्र के भविष्य से जुड़े सवालों पर उनमें गहरी अंर्तदृष्टि मौजूद थी। उनके साथ नदी महोत्सवों,

  • हमेशा अपने दमदार अभिनय से मां के किरदार को जीवंत किया रीमा लागू ने

    हमेशा अपने दमदार अभिनय से मां के किरदार को जीवंत किया रीमा लागू ने

    रीमा लागू का जन्म 1958 में हुआ था। रीमा के बचपन का नाम गुरिंदर भादभाड़े था। रीमा लागू जानीमानी मराठी एक्ट्रेस मंदाकनी भादभाड़े की बेटी हैं। रीमा लागू की अभिनय क्षमता का पता जब चला जब वह पुणे में हुजुरपागा एचएचसीपी हाई स्कूल में छात्रा थीं। हाई स्कूल पूरा करने के तुरंत बाद उनके अभिनय की शुरुआत हुई।

  • ग्लोबलगिविंग की भारत में संभावनाभरी दस्तक

    ग्लोबलगिविंग की भारत में संभावनाभरी दस्तक

    दुनियाभर के दानदाताओं को भारत में दान के लिये प्रोत्साहित किये जाने की दृष्टि से क्राउडफंडिंग एक सशक्त माध्यम है। भारत के लिए क्राउडफंडिंग भले ही नया हो पर इसकी अपार संभावनाएं हैं। आने वाले समय में क्राउडफंडिंग भारत की विभिन्न जनकल्याणकारी योजनाओं, सेवा उपक्रमों एवं धार्मिक कार्यों

  • विनोद खन्नाः अभियन की पाठशाला के प्रिसिंपल … .!!

    विनोद खन्नाः अभियन की पाठशाला के प्रिसिंपल … .!!

    अस्सी के दशक में होश संभालने वाली पीढ़ी के लिए उन्हें स्वीकार करना सचमुच मुश्किल था। जिसका नाम था विनोद खन्ना। क्योंकि तब जवान हो रही पीढ़ी के मन में अमिताभ बच्चन सुपर मैन की तरह रच - बस चुके थे।

  • विनोद खन्ना के स्टार होने का मतलब

    विनोद खन्ना के स्टार होने का मतलब

    विनोद खन्ना स्टार थे। वे सुपरस्टार कभी माने नहीं गए, लेकिन हमारे सिनेमा के संसार के इतने बड़े सुपरस्टार रहे हैं, उनमें सभी को चमकाने में उनकी सबसे बड़ी मदद लगती थी। विनोद खन्ना ऐसे एक स्टार रहे,

  • स्व. किशोरी अमोणकर की यादों में लिपटी सुरमयी श्रध्दांजलि

    स्व. किशोरी अमोणकर की यादों में लिपटी सुरमयी श्रध्दांजलि

    मुंबई की चौपाल एक ऐसा अद्भुत मंच है जहाँ हर महीने सुधी श्रोता एक नए संस्कार से रससिक्त होते हैं। इस बार चौपाल में महान शास्त्रीय गायिका स्व. किशोरी अमोणकर को उनकी यादों के साथ संगीतमयी श्रध्दांजलि दी गई। स्व. किशोरी ताई की पटु शिष्या सुश्री देवकी पंडित ने ने जब किशोरी जी

  • Page 1 of 11
    1 2 3 11

ईमेल सबस्क्रिप्शन

PHOTOS

VIDEOS

Back to Top

Page 1 of 11
1 2 3 11