आप यहाँ है :

श्रद्धांजलि
 

  • ऐसे थे चाचा कलाम, छात्रों को खुद दी थी अपनी ईमेल आइडी…!!

    साधारण डाक और इंटरनेट में एक बड़ा फर्क यही है कि डाक से आई चिट्ठियों की प्राप्ति स्वीकृति या आभार व्यक्त करने के लिए भी आपको खत लिखना और उसे डाक के बक्से में डालना पड़ता है। लेकिन इंटरनेट से मिलने वाले संदेशों  में इसका जवाब देने या अग्रसारित करने की सुविधा है। जिसके जरिए […]

  • डॉ. कलाम के वो अंतिम क्षण, उनके सहयोगी की जुबानी

    पूर्व राष्ट्रपति डॉक्टर ए.पी.जे. अब्दुल कलाम ने जिस वक्त आखिरी सांस ली थी, उस वक्त उनके करीबी सहयोगी सृजन पाल सिंह वहीं थे। उन्होंने अपनी फेसबुक प्रोफाइल पर डॉक्टर कलाम के आखिरी पलों का जिक्र किया है। हम सृजन पाल सिंह की फेसबुक पोस्ट से उन पलों की कहानी आपके सामने रख रहे हैं: "हम […]

  • ऐसा था डॉ. कलाम का बचपनः जब दो रोटी खाने पर बड़े भाई ने डाँट लगाई

    सादगी की प्रतिमूर्ति रहे कलाम अपनी मां को ही अपना प्रेरणा स्रोत मानते थे। मां के प्रति असीम स्नेह का उन्होंने अपनी किताब 'अदम्य साहस' में भी वर्णन किया है। किताब में उन्होंने अपने बचपन और उनके प्रति मां के विशेष दुलार से जुड़े कई किस्सों का जिक्र किया है। बाद में अपनी मां के […]

  • हे अमर बलिदानी तुझे शत शत प्रणाम

    हिंदुस्तान को फ़िरंगियों की ग़ुलामी से आज़ाद कराने के लिए इस धरती के सपूतों ने अपनी जान तक कुर्बान कर दी, लेकिन यह हमारे देश की बदक़िस्मती ही है कि राजनेताओं ने इस आज़ादी को केवल सत्ता हासिल करने का ज़रिया ही समझा. देश की अधिकांश आबादी आज भी बुनियादी सुविधाओं के लिए तरस रही […]

  • पाकिस्तानी फिल्म में काम करने वाली पहली भारतीय अभिेनेत्री का महू मे निधन

    इंदौर. पचास के दशक में पाकिस्तान के सिंध में जन्मी और शिमला में पली-बढ़ी एक खूबसूरत लड़की मुंबई आई और देखते ही देखते अपने दौर के सबसे खूबसूरत चेहरों में शुमार हो गई। नाम था शीला रमानी। उनका महू में बुधवार को निधन हो गया। वे पिछले कुछ सालों से महू में ही रह रही […]

  • अक्षय नहीं रहा: खबरों में जिन्दगी जीने के जुनून में डोर टूटी या तोड़ी गई?

    अगर स्टेट ही टैरर में बदल जाये तो आप क्या करेंगे। मुश्किल तो यही है कि समूची सत्ता खुद के लिये और सत्ता के लिये तमाम संस्थान काम करने लगे तब आप क्या करेंगे। तो फिर आप जिस तरह स्क्रीन पर तीन दर्जन लोगों के नाम, मौत की तारीख और मौत की वजह से लेकर […]

  • अफ़सोस है ये खबर हिन्दी अखबारों और चैनलों पर गुम हो गई

    ‘बेशक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में कूटनीतिक स्तर पर हिंदी कुछ आगे बढ़ी है, लेकिन हिंदी को उसका उचित स्थान दिलाने का सपना अब भी अधूरा है।’ हिंदी दैनिक अखबार हिन्दुस्तान में छपे अपने आलेख के जरिए ये कहा उत्तराखंड मुक्त विश्वविद्यालय के प्रोफेसर गोविंद सिंह का। उनका पूरा आलेख आप यहां पढ़ सकते […]

  • मुंबई के दो पत्रकारों को श्रध्दांजलि देने जुटे पत्रकार और रचनाधर्मी

    मुंबई : सांताक्रुज पूर्व के नजमा हेपतुल्ला सभागार में मुंबई हिंदी पत्रकार संघ द्वारा दिवंगत पत्रकार साहित्यकार अलोक भट्टाचार्य और पत्रकार उमेश द्विवेदी की याद में श्रद्धांजलि सभा का कार्यक्रम रखा गया। श्रद्धांजलि सभा में शहर के जाने माने पत्रकारों और साहित्यकारों ने अपने दिनों दिवंगत साथियों को भावपूर्ण आदरांजलि अर्पित की। वक्ताओं ने कहा […]

  • एक साईकिल की दुकान से कारोबार शुरु किया था किर्लोस्कर के संस्थापक काशीनाथ जी ने

    किर्लोसक्र समूह के संस्थापक  स्व. लक्ष्मण काशीनाथ किर्लोस्कर भारत के प्रसिद्ध उद्योगपतियों में से एक थे।  वे 'विक्टोरिया जुबली टेक्निकल इंस्टीट्यूट', मुम्बई में अध्यापक भी नियुक्त हुए थे। अपने शुरुआती समय में लक्ष्मण काशीनाथ किर्लोस्कर जी ने एक साइकिल की दुकान खोलकर जीवन संघर्ष प्रारम्भ किया था। बाद के समय में अपनी मेहनत और कठिन […]

  • उत्तर प्रदेश में पत्रकार को जिंदा जलाया

    उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर के रहने वाले एक पत्रकार की फेसबुक पर पोस्ट करने को लेकर जिंदा जला दिया गया। जागेंद्र ने समाजवादी पार्टी के विधायक राम मूर्ती के खिलाफ फेसबुक पर पोस्ट किया था, जिसके चलते उसे जिंदा ही जला दिया गया। जगेंद्र के परिवार ने दावा किया है कि उस पर एक पुलिस […]

Back to Top