आप यहाँ है :

आम लोगों से मिले रेल्वे बोर्ड के अध्यक्ष

मुंबई। रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष एवं मुख्‍य कार्यकारी अधिकारी श्री सुनीत शर्मा ने 7 नवंबर, 2021 को चर्चगेट, मुंबई में पश्चिम रेलवे मुख्यालय का दौरा किया। उन्होंने पश्चिम रेलवे के महाप्रबंधक श्री आलोक कंसल, विभिन्‍न विभागों के विभागाध्‍यक्षों और मुंबई सेंट्रल डिवीजन के मंडल रेल प्रबंधक के साथ समीक्षा बैठक की अध्यक्षता की। पश्चिम रेलवे के महाप्रबंधक श्री आलोक कंसल ने रेलवे बोर्ड के अध्‍यक्ष एवं मुख्‍य कार्यकारी अधिकारी को एक स्मृतिचिह्न के साथ ही “दर्शन के सिद्धांतों” को फ्रेम करके प्रस्तुत किया। दर्शन के सिद्धांत “राष्ट्र प्रथम, सर्वदा प्रथम”, “अंत्योदय” (समावेशी विकास), “सामाजिक समरसता” (सोशल हार्मनी) जीरो टॉलरेंस तथा हंग्री फॉर कार्गो जैसे पहलुओं का सारांश प्रस्तुत करते हैं।

पश्चिम रेलवे के मुख्य जनसम्पर्क अधिकारी श्री सुमित ठाकुर द्वारा जारी एक प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार पश्चिम रेलवे पर चल रही विभिन्न परियोजनाओं/विकासों और उपलब्धियों के संबंध में अध्यक्ष को एक प्रस्‍तुति दी गई। श्री शर्मा ने पश्चिम रेलवे की बिजनेस डेवलपमेंट यूनिटों के प्रदर्शन की समीक्षा की और ‘हंग्री फॉर कार्गो’ के ध्‍येय के साथ माल ढुलाई बढ़ाने के लिए पश्चिम रेलवे द्वारा किये गये प्रयासों और प्रतिबद्धता की सराहना की। रेलवे बोर्ड अध्यक्ष ने अपने संबोधन में पश्चिम रेलवे के प्रयासों और उपलब्धियों की सराहना की और अधिकारियों को संरक्षा पर और अधिक ध्यान केंद्रित करने के साथ-साथ कर्मचारियों के कल्याण के उपायों को बढ़ाने का आह्वान किया। पश्चिम रेलवे पर चल रही विभिन्‍न इन्‍फ्रा परियोजनाओं जैसे नई लाइन, गेज परिवर्तन, दोहरीकरण, आदि पर विस्तार से चर्चा की गई। श्री शर्मा ने स्टेशन पुनर्विकास सहित सभी निर्माण परियोजनाओं में तेजी लाये जाने पर बल दिया। उन्होंने व्यय को युक्तिसंगत बनाने की आवश्यकता पर भी जोर दिया। बैठक के बाद श्री शर्मा ने चर्चगेट स्टेशन पर नवनिर्मित लोक शिकायत केंद्र का निरीक्षण किया. उन्होंने मोटरमैन और गार्डों के लिए चर्चगेट में क्रू लॉबी और ट्रैंक्विलिटी रूम की व्‍यवस्‍था की भी समीक्षा की।

इसके बाद श्री शर्मा ने उपनगरीय लोकल से दूसरी श्रेणी के डिब्बे में चर्चगेट से मुंबई सेंट्रल स्टेशन तक यात्रा की। अपनी यात्रा के दौरान उन्होंने यात्रियों के साथ बातचीत की और उनके विचार जाने। इसके बाद उन्होंने प्रतीक्षालय का निरीक्षण किया तथा साथ ही मुंबई सेंट्रल स्टेशन पर स्थित एक परिष्कृत, अत्याधुनिक रिटायरिंग रूम “अर्बन पॉड” का भी दौरा किया। मुंबई सेंट्रल स्टेशन के अपने दौरे के बाद श्री शर्मा ने मंडल कार्यालय में यूनिफाइड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर (UCCC) का उद्घाटन किया। मुंबई मंडल का यूसीसीसी भारतीय रेलवे पर एक अनूठी पहल है, जो कई उन्नत और अत्याधुनिक विशेषताओं से लैस है। श्री शर्मा यूसीसीसी से प्रभावित हुए और उन्‍होंने इस उन्नत तकनीक की सराहना की। 587 वर्गमीटर के क्षेत्र में निर्मित यूसीसीसी को एर्गोनोमिक विशेषताओं और अत्याधुनिक परिवेश के साथ सौंदर्यपूर्ण रूप से डिजाइन किया गया है।

फोटो कैप्शन: पहली तस्वीर में रेलवे बोर्ड के अध्‍यक्ष एवं सीईओ श्री सुनीत शर्मा मुंबई सेंट्रल में यूनिफाइड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर (UCCC) का उद्घाटन करते हुए। दूसरी तस्वीर में मुंबई सेंट्रल मंडल के मंडल रेल प्रबंधक रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष और सीईओ को यूसीसीसी की विशेषताओं और कार्य प्रणाली को बताते हुए।

मुंबई सेंट्रल डिवीजन में यूनिफाइड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर (यूसीसीसी) की कुछ मुख्य विशेषताएं:-

• यह रेलवे के मुख्य कार्यों में सूचना प्रणाली को एकीकृत करता है।

• यूसीसीसी समर्पित संचार और आईटी अनुप्रयोग पैकेजों के माध्यम से मुंबई सेंट्रल कंट्रोल के फैले हुए भौगोलिक नियंत्रण क्षेत्राधिकारों को भी एकीकृत करता है; जिनमें वलसाड नियंत्रण क्षेत्र और नंदुरबार नियंत्रण क्षेत्र शामिल हैं।

• यूसीसीसी मुंबई उपनगरीय प्रणाली पर एकीकृत निगरानी प्रणाली के तहत विकसित किए जा रहे 2700+ सीसीटीवी नेटवर्क की निगरानी, दूरस्थ प्रबंधन और समस्या निवारण सहित एक केंद्रीकृत घटना प्रबंधन प्रणाली प्रदान करता है।

• बाढ़, वर्षा, अतिचार, और बाहरी एजेंसियों जैसे जिला और नगरपालिका अधिकारियों, पुलिस, अग्निशमन, अस्पतालों, नौसेना के साथ-साथ तट रक्षक के साथ संचार संपर्क सहित इससे संबंधित लगभग हर पहलू पर सूचना की स्ट्रीमिंग के साथ आपदा प्रबंधन के लिए यूसीसीसी निर्बाध रूप से सुविधाजनक है।

यूसीसीसी प्रणाली को देखते हुए, श्री शर्मा ने उन विशेषताओं की सराहना की जो दिन-प्रतिदिन डेटा संग्रह और डेटा निगरानी को सक्षम बनाती हैं। उन्होंने अधिकारियों और कर्मचारियों द्वारा किए गए प्रयासों की भी सराहना की और सभी को अच्छा काम करने के लिए प्रोत्साहित किया।

image_pdfimage_print


सम्बंधित लेख
 

Back to Top