ताजा सामाचार

आप यहाँ है :

कंपनियाँ अपना ही नकली माल बेच रही है

न्यू यॉर्क । अमेरिका के एक शहर में सड़क किनारे लगे मार्केट में लोग हफ्ते के अंत में मिल रहे सस्ते कपड़ों की शॉपिंग में लगे हैं। जींस, टी-शर्ट्स, हूडीज और बॉक्सर्स पर जो लोगो लगे हैं बड़े ब्रैंड्स के लोगोज से मिलते-जुलते ही हैं। फेमस ब्रैंड Diesel (डीजल) की स्पेलिंग कपड़ों पर Deisel लिखी है। ब्रैंड लोगो में स्पेलिंग थोड़ी अलग है लेकिन आप जितना देंगे आपको उतना ही मिलेगा। चौंकाने वाली बात यह है कि इस नकली डीजल जींस को भी असली कंपनी ने बनाया है।

अमेरिका में यह नकली डीजल जींस करीब 4.5 हजार का है वहीं डीजल के जींस 13 हजार से शुरू होते हैं। डीजल जैसे बड़े ब्रैंड्स लोगो में थोड़ा अंतर कर नकली प्रॉडक्ट्स बेचने वालों को मार्केट से हटाना चाहते हैं। डीजल के फाउंडर रेंजो रॉसो ने बताया कि पिछले साल नकली डीजल अपैरल्स बेच रही 86 कंपनियों को ब्लॉक किया गया है।

‘Deisel’ नाम से जो कपड़े बिक रहे हैं उन्हें भी डीजल ने ही बनाया है। रॉसो ने बताया, ‘लोगोज के लिए यह चमत्कारिक समय है। कोई ब्रैंड अपनी नकल भी कर सकता है। अगर आप अपने नकली प्रॉडक्ट्स बनाने वालों को हरा नहीं सकते तो उनके साथ जुड़ तो सकते हैं। लॉजिक यह है कि फेक बनाओ और मुनाफा कमाओ।’

ऐसा नहीं है कि डीजल ने कोई नया प्रयोग किया है। नामी ब्रैंड Gucci (गूची) भी अपना फेक लोगो गुक्की बना चुका है। गजब बात यह है कि गूची ने इसके लिए डैपर डैन नाम से मशहूर डेनियल रे की मदद ली। डैपर डैन नकली प्रॉडक्ट्स डिजाइन करते हैं और दोनों के बीच पहले एक विवाद भी हो चुका था।

साभार- इकॉनामिक टाईम्स से



सम्बंधित लेख
 

Back to Top