आप यहाँ है :

दलाई लामा, बाबा रामदेव के साथ रविवार को विभिन्न धर्मगुरु एक मंच पर

मुम्बई | अन्तर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त जैन आचार्य डा. लोकेश मुनि द्वारा स्थापित अहिंसा विश्व भारती संस्था द्वारा 13 अगस्त 2017 को प्रात: 10 बजे मुंबई के एन.एस.सी.आई डॉम, वर्ली में वर्ल्ड पीस कोनक्लेव के अंतर्गत ‘अनेकता में एकता- भारतीय संस्कृति’ अन्तर्राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन किया गया है | विभिन्न धर्मों के ऐसे महापुरुष जिनकी आवाज़ सम्पूर्ण विश्व में आदर के साथ सुनी जाती है वे सब एक मंच पर एकत्रित होकर मानवता के हित में आग़ाज़ करेंगे। संगोष्ठी में परम पूज्य दलाई लामा, योगऋषि बाबा रामदेव, जैनाचार्य डा. लोकेश मुनि, जैनाचार्य कुलचन्द्र जी महाराज, गुरुदेव नम्रमुनि जी महाराज, अकाल तख़्त प्रमुख जत्थेदार ज्ञानी गुरबचन सिंह, अखिल भारतीय मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के उपाध्यक्ष मौलाना डा. कल्बे सादिक आर्चबिशप फेलिक्स मव्हादो, विश्व शांति व सद्भावना पर अपना सन्देश देंगे | कार्यक्रम में भारत के केन्द्रीय मंत्री श्री पीयूष गोयल, डा. हर्षवर्धन, डा. महेश शर्मा, श्री पुरुषोत्तम रुपाला, मुंबई विश्वविद्यालय के कुलपति का मार्गदर्शन प्राप्त होगा |

अहिंसा विश्व भारती के संस्थापक आचार्य डा. लोकेश मुनि ने मुंबई में आयोजित संवादाता सम्मलेन को संबोधित करते हुए कहा कि वर्तमान समय में विश्व के हालत है वह बहुत गंभीर है| सीरिया, अफगानिस्तान से लेकर रूस, अमरीका, चीन तक हिंसा व दहशत का माहौल है| ऐसे समय में दुनिया की सबसे बड़ी संस्था संयुक्त राष्ट्र संघ तथा विश्व धर्म संसद भी अनेकांत दर्शन आधारित अंतर धार्मिक संवाद को अत्याधिक महत्व दे रहे है। चुंकि मुम्बई की आवाज़ पूरी दुनिया सुनती है इसी उद्देश्य इस कार्यक्रम का आयोजन मुंबई किया गया है| आचार्य लोकेश ने सम्मलेन की जानकारी देते हुए कहा कि हिंसा व आतंकवाद किसी समस्या का समाधान नहीं है| हिंसा प्रतिहिंसा को जन्म देती है| पर्यावरण प्रदूषण से भी वैचारिक प्रदूषण अधिक ख़तरनाक है। संवाद के द्वारा हर समस्या का समाधान संभव है| आभाव व असमानता अनेक समस्याओं का मूल कारण है| जब सभी धर्म, संप्रदाय व जाति के लोग एक साथ मिलकर शांति व सद्भावना के साथ विकास के लिए कार्य करेंगे तो निश्चित ही विश्व में अहिंसा, शांति व सद्भावना की स्थापना होगी |

प्रख्यात बोलीवुड अभिनेता श्री विवेक ओबराय ने कहा कि पत्रकार बंधुओं ! मैं फिल्मों में अभिनय करता हूँ आप मुझे हीरों के रूप में पहचानते है परन्तु आचार्य लोकेश मुनि जी एक्शन हीरों है | मैं आचार्य लोकेश मुनि जी को लम्बे समय से जानता हूँ| मुज्जफ़रनगर दंगों के बाद आचार्य लोकेश जी ने अपनी अमेरिका यात्रा बीच में छोड़ कर मौके पर गए और जनता के बीच पीस मार्च निकाला और वहां पर वापस अमन व चैन को कायम कराया | इसी तरह हिंसक हो चले गुजर आन्दोलन में मध्यस्थ की भूमिका निभा कर उसे शांत कराया, सच्चा सौदा डेरा व सिख समुदाय के बीच में तनाव ख़त्म करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई यही कारण है कि भारत सरकार ने उन्हें राष्ट्रीय साम्प्रदायिक सद्भावना पुरूस्कार से सम्मानित किया| उन्ही की पहल पर परसों रविवार को परम पूज्य दलाई लामा, योगगुरु बाबा रामदेव सहित विभिन्न धर्मों के धर्मगुरु मुंबई में एक मंच से विश्व शांति का सन्देश देंगे, इस विश्व सम्मेलन के प्रति चीन व अमेरिका सहित पूरी दुनिया की नजरे लगी हुई, मैं इस पहल का ह्रदय से स्वागत करता हूँ | इससे निश्चित रूप से समाज व राष्ट्र में शांति व सद्भावना का वातावरण उत्पन्न होगा |

लोढ़ा ग्रुप के संस्थापक एवं विधायक श्री मंगल प्रभात लोढ़ा ने कहा कि मेरे क्षेत्र में इस ऐतिहासिक सर्वधर्म सम्मलेन का मैं स्वागत करता हूँ | सर्वधर्म सम्मलेन का मुख्य उद्देश्य है कि सभी धर्म के संत एक मंच से मानव कल्याण व मानव विकास की बात करें| अब समय आ गया कि हम आपसी मतभेत मिटाकर सभी वर्गों के उत्थान के लिए कार्य करे| सम्मलेन में भाग लेने के लिए देश के विभिन्न कोनो से धर्माचार्य तथा प्रतिभागी मुंबई पहुँच रहे है | इसका आयोजन मुम्बई में करने के लिए आचार्य डा. लोकेश मुनि एवं उनके द्वारा स्थापित संस्था अहिंसा विश्व भारती का ह्रदय से आभारी हूँ |

श्री लोढ़ा ने बताया कि सम्मेलन में लगभग 8000 से अधिक लोग सुविधा पूर्वक बैठ सके इसकी व्यवस्था की गयी है | सम्मेलन की सारी तैयारियां पूर्ण हो चुकी है | सम्मेलन में भाग लेने के लिए भारत के अनेक प्रान्तों सहित विश्व के कोने कोने से लोग पधार रहे है | पिछले एक महीने से कार्यकर्त्ता लोगो को निमंत्रण भेजने सहित विभिन्न तैयारियों में लगे हुए है | सम्मेलन में निमंत्रण से ही एंट्री मुमकिन है | सुरक्षा व्यवस्था के लिए पुलिस व प्रशासन का भी पूरा सहयोग मिल रहा है | सम्मलेन के प्रचार प्रसार में मीडिया प्रमुख भूमिका निभा रहा है |

Print Friendly, PDF & Email


Leave a Reply
 

Your email address will not be published. Required fields are marked (*)

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

सम्बंधित लेख
 

ईमेल सबस्क्रिप्शन

PHOTOS

VIDEOS

Back to Top