आप यहाँ है :

वंचित बच्चों के घर रोशन करेगा होमपंच

मुंबई, 25 नवंबर 2016: शिक्षा और प्रशिक्षण के जरिए गलियों और कच्ची बस्तियों के वंचित बच्चों को मुख्य धारा में लाने के लिए उम्मीद की किरण दिखाते हुए होम एंड किचन अप्लायंसेज के क्षेत्र में देश के अग्रणी ऑनलाइन मेगास्टोर होमपंच ने मूविंग एंटरटेनमेंट सर्कस पिक्चर वाला के साथ हाथ मिलाया है। पिक्चर वाला देश के अलग-अलग हिस्सों में घूम कर गलियों और कच्ची बस्तियों के बच्चों का मनोरंजन करता है। इस गठबंधन के तहत होमपंच अपने प्लेटफॉर्म पर पिक्चर वाला के हर सफल ऑर्डर पर 7 वॉट के एलईडी लाइट मुफ्त देगा। ये लाइट्स उन बच्चों के काम आएंगी जो पढ़ना और सीखना चाहते हैं, लेकिन इसके लिए उनके घरों में पर्याप्त रोशन की व्यवस्था नहीं है। यह पहल 11 से 16 दिसंबर तक जारी रहेगी।

पिक्चर वाला एक एनपीओ (गैर-लाभकारी संगठन) है जो देशभर में वंचित बच्चों को कौशल विकास के अवसर मुहैया कराने के लिए कार्यशालाओं का आयोजन करता है। यह मनोरंजन और सांस्कृतिक गतिविधियों के जरिए गलियों और कच्ची बस्तियों के बच्चों को सीखने के अवसर मुहैया कराता है। पिक्चर वाला की कार्यशालाएं सिनेमा, कला, नृत्य, नाटक, आत्म-रक्षण, फोटोग्राफी, खेल, शिल्प, संगीत, थियेटर आदि पर केंद्रित होती हैं।

होमपंचडॉटकॉम के सीईओ श्री सचिन गोयल ने कहा, ‘‘संस्कृति को व्यापक रूप से किसी भी देश को जोड़कर रखने वाला तत्व माना जाता है। लेकिन गरीबी और ढांचागत सुविधाओं के अभाव के कारण देश के करोड़ों बच्चे संस्कृति से पूरी तरह अलग-थलग होते हैं। देशभर में वंचित बच्चों को सीखने में मदद करने और कला के क्षेत्र में उनके जन्मजात कौशल को विकसित करने में पिक्चर वाला शानदार काम कर रहा है। उनके इस महान प्रयास में साझीदारी करके हम बेहद प्रसन्न हैं और हमारा सहयोग देकर खुश हैं। उनको एलईडी लाइट्स दान करने से बहुत से वंचित बच्चे पढ़ने-लिखने के अपने मूलभूत अधिकार का फायदा उठा सकेंगे।‘‘

पिक्चर वाला की संस्थापक सुश्री श्रेया सोनी ने कहा, ‘‘पिक्चर वाला का प्रयास अपनी पूरी क्षमता समाज में बड़े पैमाने पर बदलाव लाने और सभी को समान अवसर उपलब्ध कराने का रहा है। हम होमपंच को उसके सहयोग के लिए धन्यवाद देते हैं। इससे देश का प्रत्येक नागरिक अपनी रोजमर्रा की खरीद से इस पहल को अपना सहयोग दे सकता है। इससे भविष्य के हमारे प्रयासों को मदद मिलेगी और हाशिये पर पड़े हमारे देश के कमजोर युवा वर्ग को सशक्त करने की हमारी क्षमता बढ़ेगी।‘‘

Print Friendly, PDF & Email


सम्बंधित लेख
 

ईमेल सबस्क्रिप्शन

PHOTOS

VIDEOS

Back to Top