ताजा सामाचार

आप यहाँ है :

दीवाली की पौराणिक कथा

एक बार भगवान विष्णु माता लक्ष्मीजी सहित पृथ्वी पर घूमने आए। कुछ देर बाद भगवान विष्णु लक्ष्मीजी से बोले- मैं दक्षिण दिशा की ओर जा रहा हूँ । तुम यहीं ठहरो, परंतु लक्ष्मीजी भी विष्णुजी के पीछे चल दीं। कुछ दूर चलने पर ईख (गन्ने) का खेत मिला। लक्ष्मीजी एक गन्ना तोड़कर चूसने लगीं। भगवान लौटे और जब उन्होंने लक्ष्मीजी को गन्ना चूसते हुए देखा तो क्रोधित होकर श्राप दे दिया कि यह खेत जिस किसान का है तुम उसके यहाँ पर १२ वर्ष तक रहकर उसकी सेवा करो।

विष्णु भगवान क्षीर सागर लौट गए तथा लक्ष्मीजी ने किसान के यहाँ रहकर उसे धन-धान्य से पूर्ण कर दिया। उस किसान को पता ही नहीं था कि उसके घर में एक साधारण स्त्री के रूप में रहने के लिए स्वयं लक्ष्मीजी आई है। १२ वर्ष के बाद लक्ष्मीजी भगवान विष्णु के पास जाने के लिए तैयार हो गईं परंतु किसान ने उन्हें जाने नहीं दिया। श्राप की अवधि पूर्ण होने पर भगवान विष्णु स्वयं लक्ष्मीजी को वापस लेने आए परंतु किसान ने लक्ष्मीजी को रोक लिया।  इस पर विष्णु भगवान ने उस किसान से कहा कि  तुम परिवार सहित गंगा स्नान करने जाओ और इन कौड़ियों को भी गंगाजल में छोड़ देना तुम्हारे आने तक मैं यहीं रहूँगा।

किसान गंगा नदी में स्नान करने पहुँचा और गंगाजी में कौड़ियां डालते ही चार भुजाएँ निकली जिन्होंने वे कौड़ियाँ अपने पास ले ली।  यह देखकर देखकर किसान ने गंगाजी से पूछा कि ये चार हाथ किसके हैं। गंगाजी ने किसान को बताया कि ये चारों हाथ मेरे ही थे। तुमने जो मुझे कौड़ियाँ भेंट की हैं, वे तुम्हें किसने दी हैं? किसान बोला कि मेरे घर पर एक स्त्री और पुरुष आए हैं। तभी गंगाजी बोलीं- वे लक्ष्मीजी और भगवान विष्णु हैं। तुम लक्ष्मीजी को मत जाने देना, नहीं तो पुन: निर्धन हो जाओगे।

किसान ने घर लौटने पर लक्ष्मीजी को नहीं जाने दिया। तब भगवान ने किसान को समझाया कि मेरे श्राप के कारण लक्ष्मीजी तुम्हारे यहाँ  १२ वर्ष से तुम्हारी सेवा कर रही हैं। फिर लक्ष्मीजी चंचल हैं, इन्हें बड़े-बड़े नहीं रोक सके, तुम हठ मत करो। फिर लक्ष्मीजी बोलीं- हे किसान यदि तुम मुझे रोकना चाहते हो तो कल धनतेरस है। तुम अपना घर स्वच्छ रखना। रात्रि में घी का दीपक जलाकर रखना। मैं तुम्हारे घर आउंगी। तुम उस समय  जब मेरी पूजा करोगे तो मैं अदृश्य रहूँ गी। किसान ने लक्ष्मीजी की बात मान ली और लक्ष्मीजी द्वारा बताई विधि से पूजा की। उसका घर धन-धान्य से भर गया। इस प्रकार किसान प्रति वर्ष लक्ष्मीजी को पूजने लगा तथा अन्य लोग भी लक्ष्मीजी का पूजन करने लगे।

.

Print Friendly, PDF & Email


सम्बंधित लेख
 

ईमेल सबस्क्रिप्शन

PHOTOS

VIDEOS

Back to Top