आप यहाँ है :

डॉ. वरुण सुथारा अंतर्राष्ट्रीय संगठन ‘डेमोकरेसी विदाउट बॉर्डर’ के सचिव बने

डॉ. वरुण सुथारा को ‘डेमोकरेसी विदाउट बॉर्डर’ नामक अंतर्राष्ट्रीय संस्था का सचिव नियुक्त किया गया है l इस अंतर्राष्ट्रीय संगठन का उदेश्य प्रजातंत्र को मजबूत करना, अंतराष्ट्रीय संसदीय सभा का गठन करना और नागरिकोx के अधिकारों को सम्मान दिलाना है l इस संगठन का मुख्यालय बर्लिन, जर्मनी में है और इससे विश्व के अनेक देश जुड़े हुए हैं।

उड़ीसा के कंधमाल के बीजू जनता दल के सांसद डॉ. अच्युत सामंता ‘डेमोकरेसी विदाउट बॉर्डर’ के भारतीय चैप्टर के अध्यक्ष हैं।

कौन हैं डॉ. अच्युत सामंता
डॉ. अच्युत सामंताः एक ऐसा तीर्थ जहाँ शब्द मौन हो जाते हैं और भावनाएँ हिलोरें लेती है
डॉ. अच्युत सामंताः हजार हाथों वाला आधुनिक देवता

डॉ. वरुण सुथारा एक प्रशंसित मीडिया कार्यकर्ता पत्रकार और अंतर्राष्ट्रीय संबंधों के विशेषज्ञ हैं। वह एक स्तंभकार हैं, जिन्होंने जेके मीडिया समाचार नेटवर्क के साथ काम करने वाले पत्रकार के रूप में अपना करियर शुरू किया। उन्होंने के-वी ज्योतिपुरम , जम्मू -कश्मीर से आयुर्वेद से स्नातक और जम्मू विश्वविद्यालय से चिकित्सा और पत्रकारिता और प्रौद्योगिकी, हिसार हरियाणा के गुरु जम्भेश्वर विश्वविद्यालय में मास कम्युनिकेशन में पोस्ट ग्रेजुएशन से स्नातक की पढ़ाई पूरी की। वाशिंगटन पोस्ट के साथ काम करने के अंतर्राष्ट्रीय अनुभव सहित प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया दोनों में दस वर्षों से अधिक का अनुभव होने के बाद, वरुण चरखा फाउंडेशन (संजय घोष मीडिया फैलोशिप -2016) से भी जुड़े रहे हैं।आदिवासी बच्चों के लिए दुनिया के सबसे बड़े स्कूल के लिए अंतरराष्ट्रीय संबंध और कॉर्पोरेट सामाजिक जिम्मेदारी के लिए निदेशक के रूप में वे किस और किट जैसे संस्थानों के कॉर्पोरेट सोशल रिस्पांसबिलिटी के लिए सलाहकार के रूप में सेवाएँ दे रहे हैं। वे मुंबई के अध्यात्मिक संगठन श्री भागवत परिवार से भी जुड़े हैं।

स्विस-इंडियन पार्लियामेंट्री ग्रुप के सलाहकार भारतीय मामलों के रूप में नामित होने वाले वे भारत के पहले व्यक्ति हैं, जो स्विट्जरलैंड नेशनल असेंबली के 40 से अधिक सांसदों का समूह है। वह पहले व्यक्ति हैं जिन्हें हाल ही में संस्थापक सचिव, लोकतंत्र विहीन बॉर्डर (DWB) के रूप में नियुक्त किया गया है। प्रमुख 24X7 उपग्रह समाचार चैनल हिंदी ख़बर और एक अन्य 24X7 उपग्रह समाचार चैनल कलिंग टीवी के साथ राजनीतिक संपादक के साथ उनके सलाहकार के रूप में भी अपन ीसेवाएँ दे रहे हैं।

वरुण सुथारा भारत के स्विस सिस्टम ऑफ स्किल एजुकेशन को शुरू करने के लिए काम करने वाले पहले व्यक्ति हैं।

उन्होंने पर्यावरण के क्षरण और वन्यजीवों और इसके बाद के खतरों पर लोगों को जागरूक करने में उल्लेखनीय योगदान दिया है। उनके कार्य क्षेत्रों में संघर्ष, कला और संस्कृति का संरक्षण शामिल है। उन्होंने जम्मू और कश्मीर के स्थानीय मुद्दों पर विशेषज्ञता हासिल की है और सीमा के निवासियों के उग्रवाद, व पड़ोसी देश के छद्म युध्द से जम्मू कश्मीर के लोगों को होने वाली परेशानियों पर अपनी कलम चलाई है।

उनके सबसे सराहनीय कार्य में तवी नदी के बिगड़ने पर कहानियों की श्रृंखला शामिल है, जिसे जम्मू शहर की जीवन रेखा कहा जाता है।
उन्होंने ‘सेव माय तवी’ अभियान शुरू किया, जिसने जम्मू नगर निगम को मजबूर किया कि वह तवी नदी में शहर का सीवरेज ना मिला सके।

उन्होंने इसके लिए लंबी लड़ाई लड़ी और सड़कों से लेकर विधानसभा तक, संबंधित अधिकारियों की नींद उड़ा दी। जम्मू और कश्मीर विधानसभा के सदस्यों ने तावी की दुर्दशा पर कहानियों को लेकर जम्मू ट्रिब्यून की क्लिपिंग को लहराते हुए सवाल उठाए गए।

वरुण सुथारा ने वन्यजीव विभाग, जम्मू-कश्मीर को उनके दावे पर चुनौती दी कि राज्य कभी बाघों का घर नहीं था। वह जम्मू क्षेत्र में दुर्लभ प्रजाति स्टीपी ईगल की घटना का पता लगाने वाले राज्य के एकमात्र पत्रकार हैं।

इसके अतिरिक्त उन्होंने मंदा वन्यजीव क्षेत्र के रूप में पेड़ों की अवैध कटाई के प्रमाण एकत्र कर अपने जीवन को खतरे में डाला और इसकी रिपोर्ट समाचार पत्रों में प्रमुखता से प्रकाशित की।

उनके कार्यों को मान्यता देते हुए, चरखा विकास संचार नेटवर्क ने उन्हें 2013 में संजॉय घोष मीडिया फैलोशिप से सम्मानित किया। वर्तमान में वह जम्मू क्षेत्र में पहाड़ी इलाकों में पर्यावरणीय गिरावट के कारण ग्रामीण जनता के स्वास्थ्य पर प्रभाव पर भी काम कर रहे हैं। इस फेलोशिप के माध्यम से, वह जम्मू क्षेत्र में नियंत्रण रेखा के साथ निवासियों के मानसिक संकट को रेखांकित करने वाले जम्मू से पहले बन गए, जो लगातार खतरे में पड़ रहे हैं और भारी मनोवैज्ञानिक तनाव में आत्महत्या करने के लिए मजबूर हैं। उनका लेख “लिविंग ऑन एज ‘कई राष्ट्रीय दैनिक समाचार पत्रों की सुर्खियाँ बना।

एक आयुर्वेदिक डॉक्टर होकर पत्रकार बने, वरुण ने अपनी सभी रिपोर्टों में मानवीय पक्षों को प्रमुखता से उठाया। अपने पत्रकारिता कौशल और स्वास्थ्य के मुद्दों की गहरी समझ के कारण, उन्हें राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन के तहत जम्मू-कश्मीर सरकार के स्वास्थ्य और चिकित्सा शिक्षा विभाग के कार्यक्रम प्रबंधक, जनसंपर्क के रूप में काम करने का एक अनूठा अवसर मिला।

इस अनुभव ने उन्हें भारत में केंद्र प्रायोजित योजनाओं के निष्पादन में आने वाली कमियों पर बेहतर समझ विकसित करने में बहुत मदद की। साथ ही, उन्हें जम्मू विश्वविद्यालय द्वारा लगातार तीन बार हिंदी में सर्वश्रेष्ठ लघु कथाकार का पुरस्कार दिया गया।

वे पिछले एक दशक में वाहनों की बढ़ती आवाजाही के कारण जम्मू शहर के चोकिंग से चिंतित थे और जम्मू क्षेत्र के बाकी पहाड़ी जिलों में इसके नतीजों का आकलन करते रहे हैं।

वरुण सुथारा ने जनसंचार में स्नातकोत्तर उपाधि भी हासिल की है और अपने कामों के जरिए लोगों को जीवन जीने के प्राकृतिक तरीके के बारे में लोगों को जागरुक करते आ रहे हैं।

image_pdfimage_print


Leave a Reply
 

Your email address will not be published. Required fields are marked (*)

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

सम्बंधित लेख
 

Back to Top