ताजा सामाचार

आप यहाँ है :

तमिनलानाडु के उपेक्षित जैन तीर्थों को सहेजने का प्रयास

दक्षिण के सभी जिनालयों की काया-कल्प की दिशा में तमिलनाडु के 3 और जिलों ( विल्लुपुरम, तिरुवन्नामलाई और पुडुकोट्टई) में 34 क्षेत्रों के अंतर्गत 76 साइन बोर्ड्स हमारी समिति – जैन संघ पुणे द्वारा लगवा दिए गए हैं | इस तरह कुल 134 क्षेत्रों की सेवा इन 413 पटलों(सारे पटल हमारी समिति द्वारा ही लगाए गए हैं, किसी संस्था की मदद बिना लोगों के सहयोग से) के माध्यम से हो गयी है | इसके अतिरिक्त ५ जिनालयों का जीर्णोद्धार भी हम करा चुके हैं, इस तरह अभी तक कुल 139 जिनालयों की सेवा का सौभाग्य हमको प्राप्त हो चूका है, इसके लिए हम आप सभी के आभारी हैं |

कई लोगों जिसमे प्रशासनिक अधिकारी भी शामिल हैं, के फ़ोन आते हैं, कि किस तरह उनको इन पटलों के माध्यम से क्षेत्र तक पहुंचने में सुविधा हुई, एक बार एक अमेरिका की अनुसंधानकर्ता भी हमको धन्यवाद देने आई थी, पटलों के माध्यम से वो क्षेत्र तक पहुंच पाई | इंटरनेट माध्यमों पर कई बार इन पटलों के फोटो आते रहते हैं | बड़ा आनंददायक प्रसंग है, जब पहली से लेकर चौथी-पांचवी सदी के क्षेत्रों कि वैयावृत्ति हो रही है | कुछ सफलताएं जो इन पटलों द्वारा प्राप्त हो रही हैं :

१. चूँकि ये क्षेत्र ज्यादा प्रचारित नहीं हैं साथ ही दूसरी तरफ अत्यंत मनोरम और महत्वपूर्ण क्षेत्र हैं और दूसरी जगहों से आये लोगो को आसानी से नहीं मिलते हैं, तो अब इन लोगो को मुख्य सड़क से इन तक पहुचने में आसानी रहेगी |
२. जानकारी के आभाव में किसी क्षेत्र पर आवाजाही रुक जाती है तो गलत लोग वहाँ बैठकर गलत काम करते हैं, साथ ही अतिक्रमण का भी खतरा बना रहता है, अब ये परेशानी से निजात मिलेगी |

मैत्री समूह द्वारा इस वर्ष जीर्णोद्धार कार्य के लिए हमारी समिति को सम्मानित किया गया है | विदेशों में स्थित शास्त्र जी को खोज निकालने के लिए हमारी एक समिति कार्यरत है |

श्री अनंतराज जी का बहुत बहुत धन्यवाद, ७५ वर्ष के ऊपर आयु होने पर भी अभी भी इन पटलों के लगाने में जी जान से लगे हुए हैं |

हमारे तमिलनाडु के इन महान कार्यकर्ता को आप सभी धन्यवाद के २ शब्द कहेंगे तो उनको बहुत अच्छा लगेगा, जिन्होंने अपनी आयु का बहुभाग तमिलनाडु की सम्पदा बचाने में लगा दिए है | वो हिंदी या अंग्रेजी नही बोल पाते | अंग्रेजी के सन्देश वो पढ़ लेते हैं तो कृपया अपने शब्द उन तक जरूर पहुचाये, इस उम्र में वो प्रोत्साहित जरूर होंगे |

उनका दूरभाष क्रमांक है – ९४८६८१०८५८
फोटो संलग्न है |

आप हमसे “[email protected]” पर संपर्क कर सकते हैं |
*********************************************

हमारे सभी दान दाताओं का हृदय से आभार | समय के आभाव में हम समय पर सभी को सूचित नहीं कर पाते, उसके लिए क्षमा चाहते हैं | हमारे नियमित दान दाताओं में से कइयों ने बहुत समय से दान नहीं दिया है, कृपया अपना दान समय पर भेजें, ताकी नया कार्य हाथ में लिया जा सके |


भवदीय,

प्रवीण कुमार जैन (एमकॉम, एफसीएस, एलएलबी),

Praveen Kumar Jain (M.Com, FCS, LLB),

कम्पनी सचिव,

Company Secretary,

वाशी, नवी मुम्बई – ४००७०३, भारत

Vashi, Navi Mumbai – 400703, Bharat

image_pdfimage_print


सम्बंधित लेख
 

Back to Top