आप यहाँ है :

मुंबई में रेल सुविधाओं का विस्तार

मुंबई। सर्वश्रेष्ठ श्रेणी की सेवा प्रदान करने हेतु पश्चिम रेलवे अपने महत्त्वाकांक्षी रोड मैप के साथ प्रगति के पथ पर निरंतर आगे बढ़ रही है। परिचालन के क्षेत्र तथा सेवाओं की संख्या में बढ़ोतरी के साथ ही यात्रियों की अपेक्षाएँ भी बढ़ी हैं। एक तरफ जहाँ और अधिक सेवाएँ उपलब्ध कराना प्राथमिकता है, वहीं दूसरी तरफ यात्रियों को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर की सहूलियतें भी प्रदान करने की चुनौती है, जिस पर खरा उतरने के हरसम्भव प्रयास किये जा रहे हैं। व्यापार नीति तथा सामाजिक उत्तरदायित्व दोनों की दृष्टि से यात्री सुविधाओं का प्रावधान पश्चिम रेलवे स्टेशनों की सुविधाओं का सुधार, बढ़ोतरी तथा रख-रखाव एक निरंतर प्रकिया है तथा आवश्यकतानुसार एवं निधि की उपलब्धता के आधार पर ये कार्य किये जाते हैं।

जोगेश्वरी तथा गोरगाँव के मध्य एक उपनगरीय स्टेशन के निर्माण की लम्बी चली आ रही मांग को पूरा करने हेतु जोगेश्वरी तथा गोरेगाँव स्टेशनों के बीच एक नये रेलवे स्टेशन ‘राम मंदिर’ का उद्घाटन पिछले दिनों माननीय रेल मंत्री श्री सुरेश प्रभाकर प्रभु द्वारा किया गया। दादर स्टेशन पर एक नया प्लेटफॉर्म आरम्भ किया गया है, जिससे अधिकांश मेल/एक्सप्रेस ट्रेनों को मुंबई महानगर के मध्य भाग तक लाया जा सकेगा। ट्रेसपासिंग रोकने के उपायों के अंतर्गत उपनगरीय खंड पर 10 पैदल ऊपरी पुल, 26 एस्केलेटर तथा 2 लिफ्ट उपलब्ध कराये गये हैं। पश्चिम रेलवे के विभिन्न स्टेशनों पर एसी टॉयलेट तथा डीलक्स टॉयलेट उपलब्ध कराये गये हैं। इसी प्रकार खार रोड तथा बांद्रा टर्मिनस स्टेशनों पर नम्मा टॉयलेट उपलब्ध कराये गये हैं। इस वर्ष के दौरान 6 प्लेटफॉर्म का विस्तार तथा 52 स्टेशनों पर 3250 वर्ग मी. कवर शेड का कार्य किया गया। यात्रियों को सस्ती दरों पर ठंडा शुद्ध पेयजल उपलब्ध कराने के लिए विभिन्न स्टेशनों पर 63 वाटर वेंडिंग मशीनें लगाई गई हैं। इसके अतिरिक्त पानी के नल और हैंड पम्प भी लगाये गये हैं। पीने का ठंडा पानी उपलब्ध कराने के लिए 458 वॉटर कूलर लगाये गये हैं। इसके अतिरिक्त 10 स्टेशनों पर रिवर्स ऑसमोसिस वॉटर प्लांट्स भी लगाये गये हैं। हम विशेष और भिन्न रूप से सक्षम ग्राहकों का विशेष ध्यान रखते हैं। दिव्यांगों के लिए कम ऊँचाई वाली टिकट खिड़कियों, दिव्यांग शौचालन, रैम्प, प्लेटफॉर्म टाइलों और दृष्टिहीनों के लिए ऑडियो विजुअल साइनेज (बीपरों) की व्यवस्था की गई है। यात्रियों विशेष रूप से वरिष्ठ नागरिकों और दिव्यांगों आदि की सुविधा के लिए इस वर्ष पश्चिम रेलवे के विभिन्न स्टेशनों पर 6 एस्केलेटर और 12 लिफ्ट लगाई गई हैं। सूरत स्टेशन पर भिन्न प्रकार से सक्षम एवं वरिष्ठ नागरिक यात्रियों को प्लेटफॉर्मों और ट्रेनों तक ले जाने और ले आने की सुविधा के लिए बैटरी चालित कारों की भी व्यवस्था की गई है। इसके अलावा 18 स्टेशनों पर एयरपोर्ट टाइप ट्रॉलियों की व्यवस्था की गई है। 91 स्टेशनों पर कार पार्किंग/सायकल स्टैंड की सुविधा प्रदान की गई है। उपनगरीय ट्रेनों में चढ़ने और उतरने को अधिक सुविधाजनक बनाने की दृष्टि से पश्चिम रेलवे ने प्लेटफॉर्मों की ऊँचाई को 920 मिमी तक बढ़ाने का निर्णय लिया है। वर्ष के दौरान 55 प्लेटफॉर्मों की ऊँचाई बढ़ाने का कार्य पूरा किया गया है।

श्री भाकर ने बताया कि डिज़िटल इंडिया अभियान के अंतर्गत भारतीय रेल पर पहली बार सभी यात्रियों के लिए निःशुल्क वाई-फाई की पहली शुरुआत मुंबई सेंट्रल स्टेशन पर गूगल की सहभागिता से प्रारम्भ की गई। चर्चगेट, दादर, बांद्रा, खार रोड, बांद्रा टर्मिनस, अंधेरी, बोरीवली, वडोदरा, सूरत, राजकोट, उज्जैन तथा इंदौर स्टेशनों पर भी यह सेवा उपलब्ध कराई गई है। स्वच्छ एवं सुखद यात्रा अनुभव प्रदान करने हेतु 67 ट्रेनों को ‘ऑन बोर्ड हाउस कीपिंग सेवा’ के अंतर्गत कवर किया गया है तथा शीघ्र ही 33 अन्य ट्रेनों को भी इस सेवा में शामिल किया जायेगा। पश्चिम रेलवे पर पायलट प्रोजेक्ट के आधार पर फुल टैरिफ दरों पर विशेष ट्रेनों/कोचों की बुकिंग हेतु ऑन लाइन रजिस्ट्रेशन करने की प्रक्रिया शुरू की गई थी। 36 स्टेशनों पर रिटायरिंग रूम उपलब्ध हैं। इनमें से 16 रिटायरिंग रूमों में रिटायरिंग रूम तथा डॉरमेटरी दोनों उपलब्ध है। स्टेशनों पर विभिन्न बैंकों के कुल 157 एटीएम उपलब्ध कराये गये हैं।

**********

Print Friendly, PDF & Email


सम्बंधित लेख
 

ईमेल सबस्क्रिप्शन

PHOTOS

VIDEOS

Back to Top