जनजाति समाज के लिए निःशुक्ल स्वास्थ्य शिविर

बेलरायां- खीरी, उत्तर भारत की तराई में भारत-नेपाल सीमा के कड़िया गांव में शिव कुमारी देवी मेमोरियल ट्रस्ट द्वारा निःशुल्क स्वास्थ्य शिविर व स्वास्थ्य परीक्षण के लिए जनपद के वरिष्ठ व प्रशिक्षित डॉक्टरों की टीम द्वारा लगभग 400 लोगों का स्वास्थ्य परीक्षण व निःशुल्क दवाइयां वितरित की गई, कार्यक्रम के निदेशक के के मिश्र ने कहा कि दुधवा टाइगर रिजर्व के निकट बसे इन थारू जनजाति के गांवों स्वास्थ्य मेलों की अत्यंत आवश्यकता है, मलेरिया व हेलमिन्थीज व इन्फ्लूएंजा के अलावा फंगल इन्फेक्शन की समस्याएं अत्यधिक है, पेट सम्बन्धी बीमारियां, आंखों व कानों से सम्बन्धी बीमारियों के अलावा तमाम संक्रामक रोगों की दिक्कतें है, स्वास्थ्य मेला इस तरह से समाज मे फैली हुई बीमारियों का अध्ययन करने का भी जरिया है,

बेलरायां इंडो नेपाल सीमा के तराई में शिव कुमारी देवी मेमोरियल ट्रस्ट के सौजन्य से आज रविवार को कड़िया मंदिर प्रांगण में सोशल डिस्टेंसिंग के मानक को ध्यान में रखते हुए स्वास्थ्य शिविर का आयोजन किया गया जिसमें विशेषज्ञ डॉक्टरों द्वारा मरीजो का परीक्षण कर मुफ्त में दवाओं का वितरण किया जिससे ग्रामीण क्षेत्र के लोगों में खुशी का माहौल देखा गया।

कार्यक्रम का शुभारंभ कड़िया गांव की निवासी वरिष्ठ नागरिक श्रीमती हरजिंदर कौर, मुख्यातिथि पूर्व में रहे क्षेत्रीयवनाधिकारी तथा पिछड़ा वर्ग प्रकोष्ठ के मुरादाबाद व बरेली मण्डल के सहप्रभारी अशोक कश्यप,शिव कुमारी देवी मेमोरियल ट्रस्ट के संस्थापक अध्यक्ष के०के०मिश्रा,कड़िया प्रधानपति भीम सिंह के सहयोग से फीता काटकर किया इस मौके पर लगभग चार सौ मरीजों का परीक्षण कर मुफ्त में दवाइयां दी रमियाबेहड़ सीएचसी के डॉ०तनवीर तिकुनिया पीएचसी के डॉ०अनिल कुमार पटेल नकहा सीएचसी के डॉ०सौरभ सिंह व स्किन स्पेशलिस्ट डॉ०इमरान फारूकी आंख,नाक,गले के डॉ०खालिद डॉ०रहीस,डॉ पवन ने मरीजों का परीक्षण किया तथा कोरोना से बचाव के लिए नियमित साफ,सफाई व दिन में कई बार हांथ धुलने के साथ-2 मौसमी बीमारियों से बचाव के तरीकों को बताया साथ ही ग्रामीणों को ट्रस्ट द्वारा मास्क वितरित किए गए इस मौके पर कृषि विशेषज्ञ शक्ति सिंह, मो०नसीम,जनार्दन मिश्र,प्रशांत बाजपेई,संतोष कश्यप,सुरेश, एनएम सरोज वर्मा सहित सैकड़ों लोग उपस्थित रहे क्षेत्र के ग्रामीणों ने कार्यक्रम के संयोजक रहे विजय वर्मा,रविन्द्र वर्मा,शकील अहमद की सराहना की आगे भी इस तरह के शिविरों को लगाने की मांग की।