ताजा सामाचार

आप यहाँ है :

पश्चिम रेल्वे के महाप्रबंधक ने टीकाकरण का शुभारंभ किया

मुंबई सेंट्रल स्थित पश्चिम रेलवे के जगजीवन राम अस्पताल (JRH) में कोविड-19 टीकाकरण केंद्र का शुभारम्‍भ को पश्चिम रेलवे के महाप्रबंधक श्री आलोक कंसल तथा पश्चिम रेलवे महिला कल्‍याण संगठन की अध्‍यक्षा श्रीमती तनुजा कंसल की गरिमापूर्ण उपस्थिति में सम्‍पन्‍न हुआ। महाप्रबंधक श्री कंसल ने इस महत्‍वपूर्ण उपलब्धि के लिए जगजीवन राम अस्पताल के चिकित्सा कर्मियों के प्रयासों की सराहना की और वैक्‍सीन की अपनी पहली खुराक भी प्राप्त की। इस टीकाकरण केन्‍द्र का निरीक्षण बृहन्मुंबई महानगरपालिका (MCGM) के अधिकारियों द्वारा किया गया था, जिसके बाद कोविड-19 के लिए टीकाकरण केंद्र के रूप में इसे मान्यता प्रदान की गई।

पश्चिम रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी श्री सुमित ठाकुर द्वारा जारी प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार, इस केंद्र के सुचारू संचालन के लिए सभी आवश्यक प्रबंध किए गए हैं और प्रशिक्षित कर्मियों को तैनात किया गया है। जगजीवन राम अस्‍पताल के हेल्‍थ केयर वर्करों को उचित सत्यापन के बाद वैक्सीन लगाने के लिए प्रशिक्षित किया गया है। पश्चिम रेलवे महिला कल्याण संगठन (WRWWO) की अध्यक्षा श्रीमती तनुजा कंसल अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर जगजीवन राम अस्‍पताल के टीकाकरण केन्‍द्र में कोविड-19 वैक्‍सीन की खुराक लेने वाली पहली महिला बनीं। इस केन्‍द्र में टीकाकरण अभियान के पहले दिन कुल 46 व्यक्तियों को कोविड-19 वैक्‍सीन की पहली खुराक दी गई। टीकाकरण के बाद सभी व्यक्तियों को 30 मिनट तक चिकित्‍सा कर्मियों की निगरानी में रखा गया। यह टीकाकरण केंद्र सोमवार से शुक्रवार तक सुबह 9.00 बजे से शाम 5.00 बजे तक खुला रहेगा।

श्री ठाकुर ने बताया कि जगजीवन राम अस्पताल पश्चिम रेलवे का जोनल मुख्‍यालय अस्‍पताल है। यह अस्‍पताल 361 बेड वाला मल्‍टी स्‍पेशलिटी अस्पताल है, जिसे अप्रैल, 2020 से रेलवे बोर्ड के निर्देशों के अनुसार एक पूर्णरूपेण कोविड अस्पताल में परिवर्तित किया गया और यहाँ अक्टूबर, 2020 तक सिर्फ कोविड रोगियों को चिकित्‍सा सेवाएँ दी गईं। 7 मार्च, 2021 तक कुल 2776 कोविड-19 मरीज जगजीवन राम अस्‍पताल में इलाज के बाद पूरी तरह से ठीक हो चुके हैं।

जगजीवन राम अस्पताल की समग्र रिकवरी दर लगभग 92% रही है। उल्लेखनीय है कि इस अस्‍पताल में एनएबीएल मान्यता के साथ स्टेट ऑफ द आर्ट आरटी-पीसीआर लैब भी शुरू किया गया है, जहाँ इन-हाउस आरटी-पीसीआर परीक्षण किए जाते हैं। तुरंत सकारात्मक रोगियों का पता लगाने के लिए रैपिड एंटीजन परीक्षण भी किया जाता है। इस अस्‍पताल में प्लाज्मा थेरेपी सहित उपचार के नवीनतम तौर-तरीके भी कोविड-19 रोगियों के उपचार के लिए उपलब्ध कराए गए हैं। अस्‍पताल के GEOT, CVTS, General OT सहित सभी ऑपरेशन थिएटरों ने दिसम्‍बर, 2020 से पूर्ण रूप से काम शुरू कर दिया है। नवम्बर, 2020 से गैर कोविड सेवाओं को भी नए सिरे से ओपीडी विंग में पूर्ण-विकसित ओपीडी सेवाओं के साथ फिर से शुरू किया गया है। मरीजों की भीड़भाड़ से बचने के लिए ओपीडी अपॉइंटमेंट के लिए ऑनलाइन ऐप लागू किया गया है। आईसीयू और ऑपरेशन थियेटरों को कोविड रोगियों के समुचित उपचार के लिए तदनुरूप सुसज्जित किया गया है। 1,000 लीटर तरल ऑक्सीजन वाले एक अतिरिक्त टैंक की स्थापना के साथ सामान्य वार्डों में ऑक्सीजन की केंद्रीय आपूर्ति प्रणाली उपलब्ध कराई गई है। वर्तमान में जगजीवन राम अस्‍पताल में कोविड पॉजिटिव रोगियों के लिए 50 बेड के अलावा ट्रांजिट/संदिग्ध रोगियों के लिए 50 बेड और गैर-कोविड मरीजों के लिए 260 बेड का प्रावधान किया गया है।

image_pdfimage_print


सम्बंधित लेख
 

Back to Top