आप यहाँ है :

वैचारिक कुंभ में आएँगे 5 मुख्यमंत्री और बाबा रामदेव

वैचारिक महाकुंभ में पांच राज्यों के मुख्यमंत्री सहित, तीन केंद्रीय मंत्री, योगगुरु बाबा रामदेव सहित कई देशों से विशेषज्ञ हिस्सा लेंगे। सिंहस्थ का सार्वभौमिक संदेश देने के लिए आयोजित तीन दिनी अंतरराष्ट्रीय विचार महाकुंभ उज्जैन के समीप निनोरा ग्राम में 12 से शुरु हो चुका है जो 14 मई तक चलेगा। समापन सत्र में पूर्वान्ह 11.30 से मध्यान्ह 1.30 बजे तक सिंहस्थ-2016 के सार्वभौम संदेश का विमोचन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी करेंगे। श्रीलंका के राष्ट्रपति मैत्रीपाल सिरिसेना विशेष अतिथि होंगे। सत्र में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भी उपस्थित रहेंगे।

स्वच्छता सरिता कुंभ में उमा भारती
कार्यक्रम में दोपहर 12.30 से 2 बजे तक और दोपहर 3 से सायं 4.30 बजे तक समानांतर सत्र होंगे। शाम 5 से 7 बजे तक पूर्ण सत्र ‘स्वच्छता सरिता कुंभ” में चिदानंद मुनिजी, केंद्रीय जल संसाधन मंत्री उमा भारती, प्रो. जाय ओ. कीफे (दक्षिण अफ्रीका) और प्रो. नकमुरा (जापान) विचार व्यक्त करेंगे। इस सत्र की अध्यक्षता सांसद अनिल माधव दवे करेंगे।

13 मई को ‘कृषि एवं कुटीर कुम्भ में राजनाथ और बाबा रामदेव
दूसरे दिन 13 मई को सुबह 9.30 से 11.30 बजे तक पूर्ण सत्र ‘कृषि एवं कुटीर कुम्भ” में योग गुरु स्वामी रामदेव , सुरेश जोशी, उपाख्या भैय्याजी जोशी, केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह, वंदना शिवा, रेबेका (न्यूयार्क), मनीष कुमार और सुभाष पालेकर के प्रतिनिधि व्याख्यान देंगे।

‘सतत विकास एवं जलवायु परिवर्तन में जावड़ेकर
13 मई को ही दोपहर 12 से 1.15 बजे तक पूर्ण सत्र ‘सतत विकास एवं जलवायु परिवर्तन” में केंद्रीय वन एवं पर्यावरण राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) प्रकाश जावड़ेकर, दयानंद भार्गव और डॉ. डेविड फ्राले का उदबोधन होगा। इसके बाद “सम्यक जीवन” “शक्ति कुम्भ” में विशेषज्ञ अपने विचार रखेंगे। इसमें गोवा की राज्यपाल मृदुला सिन्हा इस सत्र की अध्यक्षता करेंगी।

आखिरी दिन पांच राज्यों के मुख्यमंत्री
आखिरी दिन 14 मई को सुबह 9 से 11 बजे तक विशेष पूर्ण सत्र “सम्यक जीवन” में मुख्यमंत्री छत्तीसगढ़ रमन सिंह, मुख्यमंत्री राजस्थान वसुधंरा राजे सिंधिया, मुख्यमंत्री झारखंड रघुवर दास, मुख्यमंत्री हरियाणा मनोहर लाल खट्टर और मुख्यमंत्री महाराष्ट्र देवेन्द्र फड़नवीस उदबोधन देंगे। सत्र की अध्यक्षता लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन करेंगी।

प्रदर्शनी बनी आकर्षण का केंद्र

निनौरा के वैचारिक कुंभ में विश्व की आधी आबादी पर भी फोकस किया गया है। डोम की दो बड़ी प्रदर्शनियां ‘शक्ति कुंभ’ को समर्पित की गई है। वैदिक काल से कलयुग तक महिलाओं की गाथाओं को अलग-अलग चित्रों में दर्शाया गया है। यहां देश की पहली महिला प्रधानमंत्री से लेकर पाकिस्तान की बेटी मलाला की तस्वीर देखी जा सकती है।

वैचारिक कुंभ में कृषि, स्वच्छता, संस्कृति जैसे विषयों पर चर्चा होगी और महिला शक्ति पर भी विद्वान अपनी बात रखेंगे। कुंभ के दौरान बांटे जा रही प्रकाशन सामग्री में शक्ति कुंभ का भी जिक्र किया गया है। उसमें लिखा गया है कि उज्जैन सिर्फ महाकाल की ही नगरी नहीं है महाशक्ति पीठ भी है।

यहां महाकाल के साथ हरसिद्धि और गढ़कालिका के मंदिर भी है। यहां लगी प्रदर्शनी में हाल ही में यूपीएससी में टॉप करने वाली छात्राओं की तस्वीरें भी स्क्रीन पर डिस्प्ले की गई है। महिला सशक्तिकरण संचालनालय आयुक्त जयश्री कियावत बताती है कि कुंभ की थीम में महिला सशक्तिकरण को भी महत्वपूर्ण स्थान दिया गया है

image_pdfimage_print


सम्बंधित लेख
 

Back to Top