आप यहाँ है :

हिंदी बेस्टसेलर की दुसरे वर्ष के दूसरी तिमाही की घोषणा

हिंदी बेस्टसेलर में नॉन फिक्शन में पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी पर पुस्तक ‘हार नही मानूंगा-एक अटल जीवन गाथा और अनुवाद में पूर्व राष्ट्रपति ए.पी.जे. अब्दुल कलाम की ‘मेरी जीवन यात्रा शीर्ष पर हैं . फिक्शन में युवा लेखक सत्य व्यास की ‘बनारस टॉकीज’ और गीतकार गुलजार की ‘दो लोग’ ने क्रमशः पहले और दुसरे स्थान पर हैं । कविता सूची में राहत इंदौरी ,पीयूष मिश्रा ,जावेद अख्तर विशाल भारद्वाज जैसे दिग्गजों की रचनाओं का बोलबाला.

नई दिल्ली :
हिंदी बेस्टसेलर की दूसरे वर्ष की दूसरी तिमाही की घोषणा दैनिक जागरण के मासिक कार्यक्रम सान्निध्य में रविन्द्र भवन स्थित साहित्य अकादमी सभागार में हुआ । दैनिक जागरण नील्सन बुकस्केन बेस्टसेलर सूची में कथा, कथेतर, अनुवाद और कविता की 4 श्रेणीयों में 10-10 किताबों की सूची जारी की गयी, यह हिंदी बेस्टसेलर सूची जुलाई- सितम्बर 2018 तक की है . सूची का अनावरण राष्ट्रीय पुस्तक न्यास के अध्यक्ष प्रो. बल्देव भाई शर्मा, इंदिरा गाँधी रास्ट्रीय कला केंद्र के सचिव डा. सच्चिदानंद जोशी, केन्द्रीय हिंदी संस्थान के निदेशक डा. नंदकिशोर पांडे और दैनिक जागरण के मुख्य महा प्रबंधक विनोद श्रीवास्तव द्वारा किया गया.

चर्चित टीवी पत्रकार विजय त्रिवेदी की किताब हार नही मानूंगा – एक अटल जीवन गाथा जो की दिवंगत पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के जिंदादिल किस्सों से भरी है इस बार के हिंदी बेस्टसेलर की कथेतर (नॉन फिक्शन) सूची में शीर्ष पर है. साथ ही पूर्व राष्ट्रपति ए.पी.जे. अब्दुल कलाम की आत्मकथा ‘मेरी जीवन यात्रा’ ने अनुवाद श्रेणी में शीर्ष स्थान जगह पायी है . युवा लेखक सत्य व्यास की पुस्तक बनारस टॉकीज ने कथा(फिक्शन) सूची में शीर्ष पाया वहीं इसी श्रेणी में गीतकार गुलजार की पुस्तक ‘दो लोग’ दुसरे स्थान पर रही .कविता श्रेणी जो की इस वर्ष के पहले तिमाही से ही हिंदी बेस्टसेलर में शामिल हुई है, में बॉलीवुड का बोलबाला रहा, गुलज़ार,जावेद अख्तर, पीयूष मिश्रा, राहत इंदौरी और विशाल भारद्वाज सरीखे सितारों की पुस्तकें इस श्रेणी में छाई रही.

हिंदी बेस्टसेलर के सूची की घोषणा के बाद ‘हिंदी बेस्टसेलर का हिंदी जगत पर प्रभाव’ विषय पर प्रो. बल्देव भाई शर्मा, डा. सच्चिदानंद जोशी, डा. नंदकिशोर पांडे से रवि टेकचंदानी ने परिचर्चा की .

राष्ट्रीय पुस्तक न्यास के अध्यक्ष प्रो. बल्देव भाई शर्मा ने कहा “ भारतीय लेखक समाज की हित के लिए लिखते है और भारतीय भाषाओँ की आमजन तक पहुचं अद्भुत है . हिंदी बेस्टसेलर जैसी मुहीम हिंदी जगत के लिए एक नए युग की सुरुवात है.”

केन्द्रीय हिंदी संस्थान के निदेशक डा. नंदकिशोर पांडे ने पूर्वोतर में हिंदी के प्रभाव पर बोलते हुए कहा “ पूर्वोतर के राज्यों के पुस्तकालयों में हिंदी की पुस्तकें उपलब्ध रहती हैं.” आगे उन्होंने कहा “इस सूची को देख के भारतीय पाठकों की रूचि भलीभांति समझ में आती है कि पाठकों को अपने परम्पराओं और महापुरषों के बारे में जानने की जिग्यास है”.

दैनिक जागरण के वरिष्ठ सम्पादक अनंत विजय ने अभिव्यक्ति की आजादी का उत्सव दैनिक जागरण संवादी की घोषणा की, यह वार्षिक कार्यक्रम 30 नवम्बर से 2 दिसम्बर तक लखनऊ में आयोजित किया जाएगा, संभावित वक्ताओं में पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुख़र्जी, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ , जयराम रमेश , लोक गायिका मालिनी अवस्थी आदि हैं.

सानिध्य के दुसरे सत्र के विषय स्त्री,धर्म और लोकाचार में वरिष्ठ लेखिका मैत्रेयी पुष्पा , प्रो. सुधा सिंह , साध्वी जया भारती वक्ताओं में और सत्र का संचालन सोनाली मिश्र ने किया.

वरिष्ठ लेखिका मैत्रेयी पुष्पा ने कहा “स्त्री धर्म लोकाचार के रूप में ही समाज में है .हमारे समाज में स्त्री को प्रश्न पूछने का अधिकार नही है , जो धर्म और लोकाचार स्त्री को बता दिए उन्हें ही उसे मानने होते हैं.”

प्रो. सुधा सिंह ने अपने विचार रखते हुए कहा “ स्त्री ,धर्म और लोकाचार हमारे समाज में तीन बड़े क्षेत्रों को कवर करता है ,आज के समाज में बाजार भी इसमें शामिल है. भारत के बहुसंस्कृतीय रित रिवाजों के कारण धर्म और लोकाचार भारतीयों के अंतग्रहण में है.”

साध्वी जया भारती ने कहा “जीवंत धर्म कभी भी स्त्री को बांधता नही ,जो धर्म बांधता है वह धर्म नही हो सकता, कई लोग रुड़िओं को धर्म मान लेते हैं रुड़ियाँ कभी भी धर्म के अंतर्गत नही आती”

हिंदी बेस्टसेलर के बारे में

‘दैनिक जागरण हिंदी बेस्टसेलर’ हिंदी साहित्य में बेस्टसेलर की पहचान करने की पहली एवं एकमात्र पहल हैl हिंदी साहित्य की दुनिया में किसी पुस्तक को बेस्टसेलर कहने का कोई भी पारदर्शी एवं प्रामाणिक तंत्र अब तक नहीं थाl वर्ष की हर तिमाही में दैनिक जागरण नीलसन बुकस्कैन द्वारा बेस्टसेलर पुस्तकों की सूची की जाती है । यह पहल दैनिक जागरण की मुहिम ‘हिंदी हैं हम’ के तहत की गयी हैl

सान्निध्य के बारे में :-

अपनी भाषा हिंदी को समृद्ध और मजबूत करने के लिए दैनिक जागरण के मुहीम ‘हिंदी है हम’ के अंतर्गत सान्निध्य नाम का मासिक कार्यक्रम होता है .यह मासिक आयोजन हर महीने के दुसरे शनिवार को होता है .इसमें दो सत्र होते हैं जिसमे कला,साहित्य ,संस्कृति के अलावा सामजिक और अन्य मुदों पर विशेषज्ञों द्वारा मंथन किया जाता है.

संपर्क
संतोष कुमार
9990937676



Leave a Reply
 

Your email address will not be published. Required fields are marked (*)

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

सम्बंधित लेख
 

Back to Top