ताजा सामाचार

आप यहाँ है :

“अगर हम प्रकृति की देखभाल करेंगे, तो प्रकृति भी हमारा ध्यान रखेगी”- श्री आलोक कंसल

हमारे पर्यावरण के संरक्षण के बारे में जागरूकता फैलाने के उद्देश्य से इस वर्ष निर्धारित विषय ‘सेलिब्रेट बायोडायवर्सिटी’ के साथ 5 जून, 2020 को पश्चिम रेलवे द्वारा ‘विश्व पर्यावरण दिवस’ मनाया गया। इस अवसर पर पश्चिम रेलवे के महाप्रबंधक श्री आलोक कंसल ने मुंबई में अपने निवास से वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से अपर महाप्रबंधक, विभिन्न विभागों के सभी प्रमुख विभागाध्यक्षों, मंडल रेल प्रबंधकों और अन्य वरिष्ठ रेलवे अधिकारियों को पौधों एवं पर्यावरण के संरक्षण की शपथ दिलाई। इस मौके पर अपने आवासीय परिसर के बगीचे में महाप्रबंधक ने एक पौधा भी लगाया। इस अवसर पर श्री कंसल ने कहा कि “हम अगर प्रकृति का भली-भांति ध्यान रखेंगे, तो प्रकृति भी हमारी समुचित देखभाल करेगी।” उन्होंने इस उपलक्ष्य में आयोजित वीडियो कॉन्फ्रेंस को सम्बोधित करते हुए यही संदेश दिया।

पश्चिम रेलवे के मुख्य जनसम्पर्क अधिकारी श्री रविन्द्र भाकर द्वारा जारी एक प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार, पर्यावरणीय प्रभावों को कम करने और ग्रीन हाउस गैस उत्सर्जन को कम करने के लिए महाप्रबंधक श्री आलोक कंसल के ऊर्जावान नेतृत्व में पश्चिम रेलवे द्वारा विभिन्न विशिष्ट प्रयास किये गये हैं, जिनके परिणामस्वरूप वांछित परिणाम सामने आए हैं। प्रचलित कोविड -19 स्थिति के मद्देनजर, पश्चिम रेलवे ने पावर प्वाइंट प्रेजेंटेशन के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से डिजिटल रूप से विश्व पर्यावरण दिवस मनाया, जिसकी अध्यक्षता महाप्रबंधक श्री कंसल ने की। पश्चिम रेलवे के अपर महाप्रबंधक, सभी प्रमुख विभागाध्यक्ष और और अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी इस डिजिटल सम्मेलन में शामिल हुए। विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर आयोजित इस वीडियो कॉन्फ्रेंस में मुख्यालय और मंडल रेल अधिकारियों को सम्बोधित करते हुए, श्री कंसल ने पर्यावरण संरक्षण और जैव विविधता की रक्षा के तरीके खोजने के लिए रेलवे के दिन-प्रतिदिन के कार्य में हर सम्भव कदम उठाने की आवश्यकता पर बल दिया। कुछ प्रमुख मुद्दों पर चर्चा की गई, जिनमें प्रदूषण कम करें – सॉलिड वेस्ट डिस्पोजल प्लांट्स, एफ्लुएंट ट्रीटमेंट प्लांट्स, रिसोर्स रिसोर्स – प्लास्टिक रिसाइकलिंग, कंजर्वेशन वाटर – रेन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम, वाटर रिसाइक्लिंग प्लांट्स, वाटर ऑडिट्स, ऑटोमैटिक कोच वॉशिंग प्लांट्स और लास्ट नॉट टु कन्सर्न एनर्जी – एनर्जी ऑडिट्स HOG, स्काई पाइप लाइटिंग आदि शामिल हैं। उन्होंने कहा कि पर्यावरण के अनुकूल पहलों को सुनिश्चित करने के लिए इस प्रतिबद्धता को आगे बढ़ाते हुए, पश्चिम रेलवे एक सुरक्षित और स्वच्छ पर्यावरण की गारंटी देने के लिए दृढ़ संकल्पित है और हमारी धरती माता की सुंदरता को बनाए रखने के साथ-साथ पर्यावरण संरक्षण के लिए सभी प्रयास कर रहा है।

इस अवसर पर, पश्चिम रेलवे के सोशल मीडिया प्लेटफ़ॉर्म एक प्रेरक वीडियो पोस्ट किया गया है, जो पर्यावरण संरक्षण के संदेश को असरदार तरीके से फैलाता है। श्री भाकर ने बताया कि पिछले वर्ष 2019-20 के दौरान, पश्चिम रेलवे ने पर्यावरण लक्ष्यों को प्राप्त करने और बनाए रखने के लिए कई गतिविधियों और कार्यक्रमों की शुरुआत की। पश्चिम रेलवे ने पर्यावरण पर प्लास्टिक के दुष्प्रभावों के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए समय-समय पर नो प्लास्टिक अभियान चलाए। पश्चिम रेलवे द्वारा एकल उपयोग वाले प्लास्टिक पर प्रतिबंध को प्रोत्साहित करने हेतु इसने प्लास्टिक कप, ग्लास, प्लेट आदि के उपयोग पर प्रतिबंध लगा दिया है। मुंबई सेंट्रल स्टेशन को आईएसओ 14001: 2015 प्रमाणन के साथ मई, 2019 में मान्यता दी गई थी। इसी तरह की लाइन पर, मुंबई सेंट्रल डिवीजन के 38 और स्टेशन जल्द ही आईएसओ 14001: 2015 प्रमाणन प्राप्त होंगे। “टर्न की बेसिस” पर मैकेनाइज्ड लॉन्ड्री सूरत के लिए 60 KLD की क्षमता के साथ सूरत में एक एफ्लुएंट ट्रीटमेंट प्लांट शुरू किया गया। बांद्रा टर्मिनस में 1 MLD (मिलियन लीटर प्रतिदिन) का इफ्लुएंट ट्रीटमेंट प्लांट पहले ही चालू कर दिया गया था, जिसमें अपशिष्ट जल का उपचार किया जाता है और फिर उसका उपयोग कोच धोने और अन्य गतिविधियों के लिए किया जाता है। पश्चिम रेलवे ने चर्चगेट स्टेशन पर रीसायकल्ड प्लास्टिक की बोतलों से बने बेंच भी लगाए हैं।

श्री भाकर ने बताया कि इस दिशा में विभिन्न गतिविधियाँ मुंबई डिवीजन द्वारा भी शुरू की गई हैं। इस अवसर पर केन्द्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के वैज्ञानिक श्री अमित ठक्कर द्वारा भारतीय रेलवे में पर्यावरण प्रबंधन के बारे में 4 जून, 2020 को एक वेबिनार आयोजित किया गया, जो कर्मचारियों और अधिकारियों के बीच पर्यावरण संरक्षण के प्रति जागरूकता बढ़ाने के लिए किया गया था। विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर जैव विविधता को बढ़ावा देने के लिए 10 अलग-अलग स्थानों पर विभिन्न देशी प्रजातियों के पौधों के वृक्षारोपण अभियान का आयोजन किया गया।

image_pdfimage_print


Get in Touch

Back to Top