आप यहाँ है :

मतदान जागरूकता की निबंध प्रतियोगिता में यामिनी साहू और राधिका तिवारी जिले में अव्वल

राजनांदगांव। भारत निर्वाचन आयोग नई दिल्ली और मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी, छत्तीसगढ़ के निर्देशानुसार स्वीप प्लान के अंतर्गत शासकीय दिग्विजय स्वशासी स्नातकोत्तर महाविद्यालय के तत्त्वावधान एवं प्राचार्य डॉ.आर.एन.सिंह के मार्गदर्शन में आयोजित जिला स्तरीय निबंध प्रतियोगिता के परिणाम घोषित कर दिए गए हैं। प्रतियोगिता के दौरान स्वीप प्लान स्पर्धाओं के समन्वयक डॉ. शैलेन्द्र सिंह ने अपनी शुभकामना दी। मतदाता जागरूकता राष्ट्रीय अभियान की रचनात्मक प्रतियोगिताओं के संयोजक और महाविद्यालय के हिंदी विभाग के राष्ट्रपति सम्मानित प्राध्यापक डॉ. चन्द्रकुमार जैन ने बताया कि जिला स्तर पर उत्कृष्ट प्रस्तुति की आधार पर शासकीय दिग्विजय महाविद्यालय की प्रतिभाशाली छात्रा यामिनी साहू ने प्रथम और शासकीय बाबा साहब भीमराव अम्बेडकर महाविद्यालय डोंगरगांव की होनहार प्रतिभागी छात्रा राधिका तिवारी ने दूसरा स्थान प्राप्त किया। इन्हें प्रथम पुरस्कार दो हजार रु., प्रमाण पत्र और सम्मान प्रतीक चिन्ह तथा द्वितीय पुरस्कार एक हजार रु.,प्रमाण पत्र और सम्मान प्रतीक चिन्ह प्रदान किया जाएगा। विभिन्न महाविद्यालयों से चयनित प्रथम स्थान प्राप्त करने वाले जिले भर के शासकीय महाविद्यालयों के प्रतियोगियों ने प्रतियोगिता में उत्साहपूर्वक भाग लिया।

प्रसंगवश संयोजक डॉ. चन्द्रकुमार जैन ने उत्कृष्ट लेखन कला और अभिव्यक्ति कौशल पर केन्द्रित अत्यंत प्रभावी मार्गदर्शन देकर प्रतिभागियों को प्रोत्साहित किया। साथ ही मतदाता पंजीयन तथा मतदाता जागरूकता अभियान के महत्व, मतदान प्रतिशत बढ़ाने और सशक्त लोकतंत्र के निर्माण में मतदाता की सजग सहभागिता के असर पर उपयोगी जानकारी दी। उन्होंने मतदान चेतना के विस्तार को एक जिम्मेदारी के रूप में समझाया। उल्लेखनीय है कि अपने विद्यार्थी जीवन में ही गोविंदवल्लभ पंत विश्वविद्यालय पंतनगर, नैनीताल में हुए में अखिल भारतीय अंतर विश्वविद्यालयीन वाद विवाद प्रतियोगिता और रचनात्मक लेखन में रविशंकर विश्वविद्यालय का प्रतिनिधित्व करते हुए टॉपर रहे डॉ.चन्द्रकुमार जैन को विद्यार्थियों ने पूरे मनोयोग से सुना। उनके सुझावों का लगातार स्वागत करते हुए बेहतर प्रदर्शन का संकल्प किया।

निबंध प्रतियोगिता में प्रतिभागी छात्र-छात्राओं ने चुनाव में धन-बल के बढ़ते प्रयोग की चुनौतियाँ और समाधान विषय पर अपनी लेखनी चलायी। प्रतियोगिता के लिए गठित समिति में शामिल महाविद्यालय के प्राध्यापकों ने उपस्थित रहकर सक्रिय सहयोग प्रदान किया। डॉ. चंद्रकुमार जैन ने निर्णायकों सहित सभी सहयोगियों के प्रति आभार ज्ञापित किया।



सम्बंधित लेख
 

Back to Top